देहात दिल्ली चुनाव में मांग रही मैट्रो ट्रेन

  • देहात दिल्ली चुनाव में मांग रही मैट्रो ट्रेन
You Are HereNational
Monday, March 31, 2014-3:33 PM

नई दिल्ली : वेस्ट दिल्ली लोकसभा में परिवहन का मुद्दा प्रत्याशियों की किस्मत तय करेगा। द्वारका से आगे मैट्रो लाइन बढ़ाने की मांग के साथ आवागमन के पर्याप्त साधनों का नहीं होना सालों से लोगों के लिए समस्या है। लोगों का कहना है कि मैट्रो को देहात में ले जाने की योजना अब तक परवान नहीं चढ़ी है, जिससे देहात दिल्ली के लोग विकास से अछूते हैं।

द्वारका से नजफगढ़ के बीच तीसरे चरण के तहत प्रस्तावित मैट्रो कॉरीडोर पर स्थानीय लोगों को आपत्ति है। क्षेत्र के लोग मैट्रो को नजफगढ़ से ढांसा बस स्टेशन की ओर ले जाने की मांग कर रहे हैं। उनका कहना है कि नजफगढ़-ढांसा बस स्टैंड पर मैट्रो स्टेशन बनाया जाए। कई बार मांग के समर्थन में प्रदर्शन भी कर चुके हैं।

ऐसे में लोगों की उम्मीदें प्रत्याशियों पर टिकी हैं, जो उनकी मांग को अमल में लाने का वादा करेगा वह उसी को सपोर्ट करेंगे। गौरतलब है कि इस लाइन से करीब 76 हजार यात्रियों पर सीधा असर पड़ेगा। परिवहन समस्या से तंग आ चुके लोगों के गुस्से का सबसे ज्यादा खामियाजा कांग्रेस पार्टी को भुगतना पड़ सकता है।

स्थानीय लोगों का कहना है कि राजधानी के साथ-साथ केंद्र में कांग्रेस की सरकार होने के बाद भी नेता इस दिशा में कोई ठोस उपाय नहीं कर पाए। जबकि भाजपा व आप को इसका फायदा मिल सकता है। हालांकि, यह देखने वाली बात होगी कि कौन सी पार्टी के प्रत्याशी पर जनता अपना भरोसा जताती है।

देहात की बसें खटारा

लोकसभा क्षेत्र में आने वाले ग्रामीण इलाकों में परिवहन की समस्या से लोगों को रोजाना रू-ब-रू होना पड़ता है। बसों की संख्या कम होने से लोगों को घंटों इंतजार करना पड़ता है। निजी बसों में सफर के अलावा और कोई विकल्प नहीं बचता। शहरी क्षेत्र से हटाकर दिल्ली परिवहन निगम की खटारा लो-फ्लोर बसों को ग्रामीण क्षेत्रों में भेजा गया है। आए दिन इनका सड़कों पर खराब हो जाना लोगों के पैसे व समय की बर्बादी के साथ काफी तकलीफदेय है।

नेताओं ने खूब भुनाया

इस मुद्दे पर भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में पूर्व नेता प्रतिपक्ष जगदीश मुखी नजफगढ़ क्षेत्र के 100 गांवों के प्रधानों के साथ इस बाबत मुख्यमंत्री शीला दीक्षित से मिले, वहीं दिल्ली सरकार के तत्कालीन परिवहन मंत्री अरविन्दर सिंह लवली ने  कार्य में हो रही देरी के पीछे विपक्ष की राजनीति को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने इस मुद्दे को जोर-शोर से उठाया।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You