‘आप’ के घोषणापत्र में वायदों की झड़ी

  • ‘आप’ के घोषणापत्र में वायदों की झड़ी
You Are HereNational
Friday, April 04, 2014-1:36 AM

नई दिल्ली (निहाल सिंह): पहली बार लोकसभा चुनाव लडऩे जा रही आम आदमी पार्टी ने अपना चुनावी धोषणापत्र जारी कर दिया है। वीरवार को आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने अपने सरकारी आवास पर लोकसभा के लिए अपना चुनावी घोषणापत्र जारी करते हुए कहा कि हमने बड़ी ही जटिल प्रक्रिया के तहत इस घोषणापत्र को तैयार किया है। इसमें तमाम वर्गों के लोगों के सुझावों को शामिल किया गया है।

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हम भ्रष्टाचार खत्म करने के लिए राजनीति में आए है, इसीलिए पार्टी का गठन किया गया है। उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी में भ्रष्टाचार के लिए शून्य के बराबर भी जगह नहीं है क्योंकि हमारा सपना भ्रष्टाचार मुक्त भारत बनाने का है। उन्होंने कहा कि आमआदमी पार्टी के अलावा देश में कोई पार्टी भ्रष्टाचार को जड़ से खत्म करने की बात नहीं कर सकती है क्योंकि दूसरी पार्टियां जब-जब सत्ता में आईं उन्होंने भ्रष्टाचार से समझौता कर लिया लेकिन दिल्ली में जब आम आदमी पार्टी की सरकार बनी तो मीडिया में भी इस बात की चर्चा हुई थी हमने भ्रष्टाचार को खत्म कर दिया लेकिन भाजपा-कांग्रेस येद्दियुरप्पा, बुखारिया, कपिल सिब्बल, पी. चिदंबरम और दूसरे ऐसे नेताओं को अपनी पार्टी में रखकर भ्रष्टाचार मुक्त भारत की बात नहीं कर सकती। केजरीवाल ने कहा कि आने वाले समय में भी अगर नई समस्याएं आएंगी या दिखेंगी तो शामिल करेंगे।

विधानसभा के वायदों को फिर से दोहराया: पूर्व मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लोकसभा के लिए उम्मीद के विपरीत अपने घोषणापत्र में कुछ खास चीजें शामिल नहीं की। ज्यादातर चीजें विधानसभा के घोषणापत्र की महज कॉपी-पैस्ट ही है। जनलोकपाल बिल को फिर से तवज्जों दी गई है। जनलोकपाल बिल में चपरासी से लेकर प्रधानमंत्री तक इसके दायरे में होंगे। नौकरी से बर्खास्त हो, जेल हो, सिटीजन चार्टर समय सीमा में काम हो, नहीं तो तनख्वाह काटी जाए, तकनीक का इस्तेमाल करना होगा।

खुद ही थपथपाई अपनी पीठ
केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में उनके 49 दिन की सरकार के दौरान सर्वे में भी यह बात सामने आई कि भ्रष्टाचार में गिरावट आई। 65 साल में कांग्रेस भ्रष्टाचार दूर नहीं कर पाई। मोदी को विकास का मसीहा माना जाता है लेकिन गुजरात में बिना पैसे के कोई काम नहीं होता। जो बी.जे.पी. गुजरात में 12 साल में नहीं कर पाई कांग्रेस 65 साल में नहीं कर पाई, वह हम करेंगे। ग्राम सभा का मतलब पंचायत नहीं होता। जैसे एम.एल.ए., एम.पी. भ्रष्ट होता है, वैसे ही सरपंच का हाल है।

हमारे लिए ग्राम सभा का मतलब सभी लोगों से है। ग्राम सभा के कंट्रोल में सारी चीजें लाई जाएंगी। ग्राम सभा के लोग राशन की दुकान को रद्द कर सकें, यह अधिकार होनी चाहिए। देश के अंदर राजनीतिक सत्ता को जितना हो सके विकेंद्रीकृत हों। कम से कम उस इलाके या कॉलोनी के बारे में सारे निर्णय का अधिकार वहां की जनता को होना चाहिए।

विधायक बनने के लिए 21 साल हो उम्र सीमा
आम आदमी पार्टी ने युवाओं को राजनीति में लाने के लिए विधानसभा चुनाव लडऩे के लिए तय उम्र सीमा 25 से घटाकर 21 वर्ष करने की बात कही है। केजरीवाल ने कहा कि जब 21 वर्ष की आयु में एक व्यक्ति शादी कर सकता है तो वह विधायक का चुनाव क्यों नहीं लड़ सकता। उन्होंने कहा कि देश में 23 वर्ष की आयु में भगत सिंह शहीद हो गए थे और अन्ना आंदोलन में भी बहुत सारे युवाओं ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया था, इसलिए भारत में विधायक का चुनाव लडऩे की उम्र सीमा 25 से घटाकर 21 वर्ष कर देनी चाहिए।

मुख्य बातें
पुलिस रिफॉर्म पर जोर
मोहल्ला सभा पर इसका जोर
पुलिस की इंटरनल एकाऊंटबिलिटी तय की जाएगी
दिल्ली पुलिस सिर्फ लुटियन जोन को छोड़कर दिल्ली सरकार के नियंत्रण में आए
थाने के अंदर सी.सी.टी.वी., इंटरोगेशन रूम के अंदर सी.सी.टी.वी. लगे।
कैमरे में केस का निपटारा
जाति पर आधारित विषमता को दूर करेंगे
आर.टी.आई. के तहत आपको ये वीडियो मिल सकता है।
दिल्ली विश्वविद्यालय में 4 साल के पाठ्यक्रम को खत्म किया जाएगा।
चंदा मिलने वाले कानून में बदलाव किया जाएगा, एक रुपए से लेकर सभी चंदों को पूरा विवरण देना लागू किया जाएगा।
ईमानदार को सम्मान, बेईमानों को सजा
एफ.आई.आर. दर्ज न करने पर सजा
केस का समयबद्ध तरीके से निपटारा हो

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You