पहली बार गड़बड़ी जर्मनी में, हिटलर आए थे सत्ता में

  • पहली बार गड़बड़ी जर्मनी में, हिटलर आए थे सत्ता में
You Are HereNcr
Friday, April 04, 2014-4:24 PM
नई दिल्ली(अभिषेक आनन्द): असम में एक ई.वी.एम. के सभी बटन से भाजपा के खाते में वोट गिरने की रिपोर्ट के बाद मोदी सबके निशाने पर आ गए। जांच की रिपोर्ट मिलने के बाद ही स्थिति स्पष्ट होगी लेकिन ट्विटर पर चर्चा तेज है। पूनम कुमारी ने ट्वीट किया, आम आदमी पार्टी से भाजपा इतनी डरी हुई है कि ई.वी.एम. से छेड़छाड़ करके चुनाव जीतना चाहती है। 
 
हालांकि कुछ लोग ऐसे भी दिखे जिन्होंने कहा कि अब आम आदमी पार्टी और कांग्रेस को चुनाव हारने पर बहाने बनाने का मौका मिल जाएगा। एक कांग्रेस समर्थक ने लिखा, एक, इलैक्शन कमीशन को चीट करने के लिए ई.वी.एम. से छेड़छाड़ किया। दो, वोटरों से चीट करने के लिए मेनिफैस्टो नहीं दिया। तीन, जनता के सवालों से भागने के लिए फैंकू एक्सप्रैस बन गए। दुबाश ने ट्वीट करते हुए कहा कि अगर भाजपा असम में ऐसा कर सकती है तो सोचिए, दूसरे राज्यों में चुनाव को कैसे प्रभावित कर सकती है।
 
शशि थरूर और नरेंद्र मोदी खुद इन्हें फॉलो करते हैं। दुबाश ने एक अन्य ट्वीट में लिखा, पहली बार जर्मनी में ई.वी.एम. का इस्तेमाल हुआ और इससे छेड़छाड़ करके हिटलर सत्ता में आए। वहीं शिव प्रकाश पांडे लिखते हैं कि मीडिया क्यों नहीं इस मुद्दे को दिखा रहा, यह डैमोक्रेसी के साथ खिलवाड़ है। जबकि कुछ लोगों ने लगे हाथ भाजपा के पूरे प्लान की धज्जियां उधेड़ दीं। नील कपूर ने लिखा, फेक डिवैल्पमैंट स्ट्रैटजी, फेक क्राऊड, फेक वोटर्स, फेक ई.वी.एम. मशीन, फेक ट्विटर फॉलोअर, फेस फेसबुक लाइक, शॉर्ट टेंपर पीपल और फर्जी आरोप। यही भाजपा का प्लान है। 
 
स्टीव जॉब्स और मार्क जुकरबर्ग के सहारे आप 
यह भले साफ नहीं हुआ है कि क्या मार्क जुकबर्ग से तस्वीर शेयर करने की इजाजत ली है लेकिन आम आदमी पार्टी ने विश्व के दो सफल व्यक्तियों की तस्वीर का इस्तेमाल वोट पाने के लिए शुरू कर दिया है। पहला एप्पल के संस्थापक स्टीव जॉब्स और दूसरे फेसबुक के नामचीन हस्ती मार्क जुकरबर्ग।
 
आप ने अपने ट्विटर के ऑफिशियल एकाउंट ने इनकी तस्वीर ट्विट करते हुए लिखा कि जॉब्स 21 साल की उम्र में एप्पल शुरू कर सकते हैं तो आप 21 साल में एमपी, एमएलए क्यों नहीं बन सकते? दूसरी तस्वीर में लिखा है, 19 की उम्र में फेसबुक बना सकते हैं तो आप 21 की उम्र में सांसद नहीं बन सकते? यानी युवाओं से सवालिया अंदाज में आम आदमी पार्टी की ओर खींचने की कोशिश की गई है। हाल ही में बीजेपी की ओर से विकीलिक्स के संस्थापक जुलियन असांजे की तस्वीर का फर्जी तौर पर इस्तेमाल का खुलासा हुआ था। 
यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You