गुलबर्ग मामला: उच्च न्यायालय ने तीस्ता की गिरफ्तारी पर 23 तक रोक लगाई

  • गुलबर्ग मामला: उच्च न्यायालय ने तीस्ता की गिरफ्तारी पर 23 तक रोक लगाई
You Are HereNational
Saturday, April 05, 2014-2:33 PM

अहमदाबाद: सामाजिक कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ और उनके पति जावेद आनंद तथा दिवंगत कांग्रेस सांसद एहसान जाफरी के बेटे तनवीर को राहत देते हुए गुजरात उच्च न्यायालय ने गुलबर्ग धन हेराफेरी मामले में उनकी गिरफ्तारी पर आज 23 अप्रैल तक के लिए रोक लगा दी। 

इस मामले में जब राज्य सरकार द्वारा जवाब दाखिल करने के लिए और वक्त मांगे जाने पर न्यायालय ने (गिरफ्तारी पर) लगी रोक की समय सीमा बढ़ा दी। राज्य सरकार ने आश्वासन दिया कि अगली सुनवाई तक तीस्ता एवं अन्य को गिरफ्तार नहीं किया जाएगा। न्यायमूर्ति आनंद एस दवे ने 23 अप्रैल तक के लिए गिरफ्तारी पर रोक लगा दी। अगली सुनवाई भी उसी दिन होगी।
   
उच्च न्यायालय ने तीस्ता, आनंद, जाफरी, गुलबर्ग सोसायटी के सचिव फिरोज गुलजार तथा अध्यक्ष सलीम गांधी की अग्रिम जमानत अर्जी पर सुनवाई करते हुए पहले उनकी गिरफ्तारी पर आज तक के लिए रोक लगाई थी। इन पांचों ने उच्च न्यायालय से जमानत मांगी थी क्योंकि यहां की सत्र अदालत ने 25 मार्च उनकी जमानत खारिज कर दी थी। सत्र अदालत ने कहा था कि आरोपियों के खिलाफ प्रथम दृष्टया दस्तावेजी सबूत हैं और मामले की व्यापक जांच जरूरी है। 
  
अहमदाबाद पुलिस की अपराध शाखा ने तीस्ता और अन्य के खिलाफ 1.51 करोड़ रूपए की हेराफेरी का मामला दर्ज किया था। इन लोगों ने गुलबर्ग सोसायटी को संग्रहालय में तब्दील करने के लिए चंदे के रूप में यह धन एकत्र किया था। गुलबर्ग सोसायटी के 12 निवासियों ने पिछले साल सीतलवाड़ से 1.51 करोड़ मांगा था। उन्होंने आरोप लगाया था कि उनके नाम पर वसूली यह धनराशि कभी उन्हेंं नहीं दी गई।
यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You