मोदी की राह चले अखिलेश!

  • मोदी की राह चले अखिलेश!
You Are HereNational
Sunday, August 10, 2014-5:01 PM

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि जनता को लाभ देने के लिए नवीनतम तकनीक को अपनाया जाना चाहिए। जनप्रतिनिधि सोशल मीडिया का उपयोग अपनी बात जनता तक पहुंचाने और लोगों की राय प्राप्त करने के लिए कर सकते हैं। उन्होंने सोशल मीडिया को जनता से संवाद करने का एक सशक्त और प्रभावी माध्यम बताया है।

मुख्यमंत्री शनिवार को यहां अपने सरकारी आवास पर ‘लोकतंत्र के लिए सोशल मीडिया’ विषयक कार्यशाला का शुभारम्भ करने के बाद बोल रहे थे। कार्यक्रम में राज्य सरकार के मंत्री एवं विधायकगण शामिल हुए। कार्यशाला को प्रमुख सोशल मीडिया प्रतिष्ठानों के प्रतिनिधियों ने सम्बोधित किया। इसका आयोजन फिफ्थ इस्टेट ट्रस्ट, डिजिटल एम्पावरमेन्ट फाउण्डेशन तथा इण्डिया डेवलपमेन्ट ऑल्टरनेटिव्स फाउण्डेशन द्वारा किया गया। जिसमें विधायकों को फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस, यूट्यूब और वॉट्सऐप के बारे में तमाम जानकारियां दी गयीं। 

मुख्यमंत्री ने इस मौके पर कहा कि जनप्रतिनिधि अपने विचारों को जनता तक पहुंचाने और उनके कीमती सुझाव लेने के लिए सोशल मीडिया का प्रभावी ढंग से इस्तेमाल कर सकते हैं। कार्यशाला में जनप्रतिनिधियों को जनता की सहायता और जरूरतों में सोशल मीडिया की भूमिका के बारे में बताया गया। इस दौरान ट्विटर इण्डिया के राहील खुर्शीद ने पूरी दुनिया में राजनीति से जुड़े लोगों द्वारा सोशल मीडिया के इस्तेमाल को लेकर किए जा रहे अभिनव प्रयोग की जानकारी दी।

गूगल इण्डिया के पीयूष पोद्दार ने जनप्रतिनिधियों, खासतौर पर विधायकों के लिए अधिकृत वेबसाइट की उपयोगिता पर प्रकाश डाला। उन्होंने यू-ट्यूब पर वीडियों अपलोड कर जनता तक अपनी बात पहुंचाने के बारे में भी बताया। साथ ही, फेसबुक तथा गूगल प्लस पर प्रोफाइल बनाने की बात भी कही। गूगल इण्डिया की फातिमा आलम तथा जोशुआ अमिरथसिंघ ने सोशल मीडिया के उपयोग तथा जनप्रतिनिधियों के लिए इसके महत्व के सम्बन्ध में जानकारी दी।

डिजिटल एम्पावरमेन्ट फाउण्डेशन के देवेन्द्र सिंह भदौरिया एवं रुचा देशपाण्डे ने क्षेत्र की जनता से जुडऩे के लिए सोशल मीडिया के इस्तेमाल के बारे में बताया। वक्ताओं ने यह भी कहा कि व्हाट्सएप जनता से संवाद और सम्पर्क बनाने का एक कारगर माध्यम है। कार्यशाला में फिफ्थ इस्टेट ट्रस्ट के मुख्य सलाहकार वेंकटेश रामकृष्णन एवं प्रबन्ध निदेशक पल्लवी गुप्ता ने भी अपने विचार व्यक्त किए।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You