कालाधन खपाने का जिनको मौका नहीं मिला, वो कर रहे हैं विरोध: PM मोदी

  • कालाधन खपाने का जिनको मौका नहीं मिला, वो कर रहे हैं विरोध: PM मोदी
You Are HereTop News
Friday, November 25, 2016-12:09 PM

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि नोटबंदी का विरोध आम आदमी नहीं बल्कि वे लोग रहे हैं , जिन्होंने संविधान का दुरूपयोग करके देश को भ्रष्टाचार में डूबो दिया। मोदी ने लोकसभा सचिवालय की ओर से संविधान पर लिखी दो पुस्तकों का यहां संसद भवन परिसर में विमोचन करने के बाद उपस्थित समुदाय को संबोधित करते हुए कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई लड़ रहा देश का आम आदमी नोटबंदी के साथ है। नोटबंदी को लेकर उन्हें संसद के अंदर और बाहर घेर रहे लामबंद विपक्षी दलों को निशाने पर लेते हुए मोदी ने कहा कि इसका विरोध इसलिए नहीं हो रहा है यह बिना तैयारी के लाया गया दरअसल विरोध इसलिए है कि तैयारी का समय नहीं दिया गया। इस कदम की आलोचना करने वालों पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा कि यदि तैयारी के लिए 72 घंटे का समय दे दिया गया होता तो मोदी की वाहवाही होती।

नोटबंदी को भ्रष्टाचार दूर करके देश के उज्ज्वल भविष्य के लिए उठाया कदम बताते हुए प्रधानमंत्री ने देशवासियों से डिजिटल करंसी अपनाने का आह्वान किया। मोदी ने कहा कि आम आदमी सिपाही की तरह कालाधन और भ्रष्टाचार की लड़ाई लड़ रहा है और पिछले 70 वर्षाें तक संविधान के नियमों और कानूनों का दुरूपयोग करके देश को भ्रष्टाचार में डुबोने वाले लोग इसका विरोध कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह देश बहुत बड़ा है और फैसला भी बड़ा है इसलिए लोगों को कठिनाइयां आ रहीं है। सबको मिलकर आम लोगों की कठिनाइयां दूर करने में मदद करनी चाहिए।

नोटबंदी को भ्रष्टाचार के खिलाफ अहम कदम बताते हुए उन्होंने कहा कि सर्वेक्षणों में भ्रष्टाचार के मामले में भारत अग्रिम पंक्ति वाले देशों में शुमार होता है जिससे सिर शर्म से झुक जाता है । सिर गर्व से ऊंचा करने के लिए प्रधानमंत्री ने नोटबंदी के महायज्ञ में सबसे आहुति देने का आह्वान किया। अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि हमारे संविधान का हम लोगों के जीवन में महत्वपूर्ण स्थान है क्योंकि 26 नवंबर के बिना 26 जनवरी अधूरी है। मोदी ने कहा कि संविधान की आत्मा से जुड़ना जरूरी है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You