शहीद जवान का शव देख बेहोश हुई पत्नी, 6 साल का बेटा बोला-'दुश्मनों से मैं लूंगा बदला'

You Are HereTop News
Wednesday, November 16, 2016-11:46 AM

झुंझुनू: शहीद ईश्वर सिंह का मंगलवार को उनके पैतृक गांव चूरू जिले के मूंदीताल में सैनिक सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। शहीद के पुत्र रमन (10) एवं अमन (06) ने उनकी चिता को मुखाग्रि दी। इससे पहले शहीद का पार्थिव शरीर सुबह आठ बजे उनके पैतृक गांव पहुंचा जहां शहीद के अंतिम दर्शन के लिए लोग उमड़ पडे और उन्हें अपनी श्रद्धाजंलि अर्पित की। सैनिक कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष प्रेमसिंह बाजौर, सांसद नरेंद्र बुढानिया, विधायक मनोज न्यांगली, जिला कलक्टर लिलत गुप्ता, पुलिस अधीक्षक राहुल बारहठ तथा अन्य अधिकारियों ने भी शहीद के पार्थिव शरीर पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धाजंलि दी। इस अवसर पर बाजौर ने बताया कि शहीद के परिवार को राज्य सरकार की ओर से 20 लाख तथा केंद्र सरकार की ओर से 45 लाख रुपए दिए जाएंगे।

बेटे की शहीदी पर गर्व
इस मौके शहीद के पिता जुगलाल ने कहा कि ईश्वर ने देश के लिए शहादत दी है, इस पर उन्हें गर्व है। उन्होंने कहा कि पोते अमन एवं रमन को पढ़ा-लिखाकर सेना में भर्ती कराऊंगा। शहीद की पार्थिव देह के साथ आए सूबेदार प्रहलाद सिंह ने बताया कि ईश्वर सिंह गत बारह नवंबर को दुश्मनों के मुकाबले के लिए आवश्यक सामान लेकर लेकर जम्मू-कश्मीर के गुरेज सैक्टर में बनी सेना की चैक पोस्ट पर जा रहा था। तभी अचानक पहाड़ टूटने के कारण उनकी गाड़ी क्षतिग्रस्त हो गई और वह शहीद हो गया। बत्तीस वर्षीय ईश्वर सिंह सेना के आरटी कंपनी में तैनात था।

बेटा बोला लूंगा बदला
शहीद की वीरांगना तो पति का चेहरा निहारने के बाद बेहोश हो गई। वहीं शहीद के छोटे पुत्र अमन ने कहा कि वह बड़ा होकर फौज में भर्ती होगा और आंतकवादियों को मार गिराएगा। बच्चे की बात सुनकर और उसमें देशभक्ति का जज्बा देखकर हर किसी की आंखें नम हो गईं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You