साधु को चरित्र से पवित्र होना चाहिए: रामदेव

  • साधु को चरित्र से पवित्र होना चाहिए: रामदेव
You Are HereRajasthan
Wednesday, September 27, 2017-1:42 PM

अलवर: राजस्थान में अलवर में योग गुरु बाबा रामदेव ने कहा कि कोई भी साधु वस्त्र से संत नहीं होता बल्कि चरित्र से संत होता है और साधु को चरित्र से पवित्र होना ही चाहिए।  रामदेव ने आज यहां बाबाओं के ऊपर बलात्कार जैसे अपराधिक मुकदमे दर्ज होने के सवाल के जवाब में पत्रकारो से कहा कि देश में पांच लाख से ज्यादा साधु संत हैं जिसमें ज्यादातर पवित्र हैं और कुछ अपवाद स्वरुप अपवित्र हो सकते हैं और अपवाद स्वरुप साधुओं के कारण पूरे साधु समाज को टारगेट नहीं करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि जो साधु ढोंगी आडम्बर और धर्म के नाम पर बहकाते हैं उन्हें कभी प्रोत्साहित नहीं करना चाहिए। उन्होंने कहा कि साधु में ढोंग आडंबर और धर्म के नाम पर चमत्कार करने के गुण नहीं होते है लेकिन चमत्कारों के चक्कर में पड़कर लोग ही बाबाओं को खराब करते हैं। उन्हें बाबाओं से उम्मीद होती है कि बाबा चमत्कार करेगा और हमारा उद्धार करेगा।  

उल्लेखनीय है कि गत दिनों बिलासपुर की एक युवती के साथ बलात्कार करने के आरोप में अलवर के फलाहारी बाबा गिरफ्तार किये जा चुके है। अलवर लोकसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि अलवर के संबंध में पार्टी तय करेगी किस प्रत्याशी को टिकट दिया जाए। काले धन के जवाब पर उन्होंने कोई भी उत्तर देने से इंकार कर दिया। 

एक मैगजीन द्वारा कराए गए देश के आर्थिक सर्वे में योगी बालकिशन को भारत के 8 वीं अमीर के रूप में मानने पर बाबा रामदेव ने कहा कि बाल किशन की सारी संपत्ति सेवा के लिए है, सुख सुविधाओं के लिए नहीं है। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You