युद्ध की तैयारी; कौन किस पर भारी- भारत या चीन !

You Are HereNational
Saturday, August 12, 2017-12:33 PM

बीजिंगः सिक्किम में डोकलाम बार्डर को लेकर भारत और चीन के बीच विवाद उग्र होता जा रहा है। चीन के अड़ियल रवैये कारण उसे जवाब देने के लिए भारतीय सेना ने भी इलाके में तंबू गाड़ लिए हैं। इसके बाद दोनों देशों में हालात तल्‍ख होते जा रहे हैं। एक तरफ चीनी मीडिया लगातार भारत को सबक सिखाने की धमकी दे रही है तो दूसरी तरफ चीन कूटनीतिक तौर पर भी भारत पर दबाव बनाने का प्रयास कर रहा है।
PunjabKesariहालांकि ये बात अलग है चीन के किसी हथकंडे का भारत पर कोई असर नहीं हो रहा है। दोनों देशों के बीच युद्ध को लेकर रोज नई नई बातें की जा रही हैं। ऐसे में यह जानना जरूरी है कि अगर दोनों देशों के बीच युद्ध के हालात बनते हैं तो कौन कितने पानी में है। 

PunjabKesariदोनों देशों की सेनाओं का आंकलन
अगर दोनों देशों की सेनाओं का आंकलन किया जाए तो हालात थोड़े चिंतित करने वाले हो सकते है क्योंकि चीन की पीपुल्स लीबरेशन आर्मी में कुल  2335000 जवान हैं जिस कारण इसे दुनिया की सबसे बड़ी सेना माना जाता है। जबकि इंडियन आर्मी  कुल क्षमता 1325000 है और ये  दुनिया की चौथे नंबर की सेना है। 

 

PunjabKesariइंडियन आर्मी विंग के इरादे मजबूत
इसी तरह चीन का आर्मी विंग भी इंडियन आर्मी पर भारी पड़ सकता है । आंकड़ों के अनुसार चीन की पिपुल्स लिब्रेशन आर्मी में ग्राउंड फोर्स 1,600,000, पीपुल्स लिब्रेशन आर्मी नेवी 255,000, पीपुल्स लिब्रेशन आर्मी एयर फोर्स 398,000, पीपुल्स लिब्रेशन आर्मी रॉकेट फोर्स 100,000 है जबकि स्ट्रेटजिक सपोर्ट फोर्स  के बारे में कोई पुख्ता जानकारी उपलब्ध नहीं है। उधर, इंडियन आर्म्ड और एयर फोर्स तथा नेवी दमखम में चीन से उन्नीस होने के बावजूद भी अपने मजबूत इरादों की वजह से दुनिया में मशहूर है ।

PunjabKesariभारत का रक्षा बजट कमजोर
अब बात करते हैं दोनों देशों के रक्षा बजट की तो चीन का रक्षा बजट है151 बिलियन डॉलर जबकि भारत का रक्षा बजट सिर्फ 53.5 बिलियन डॉलर है। चीन के पास कुल  1385 अटैक एयरक्राफ्ट के अलावा कुल 2955 एयरक्राफ्ट हैं और भारत के पास  809 अटैक एयरक्राफ्ट के अलावा कुल 2102  एयरक्राफ्ट हैं ।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You