<

...जब व्हीलचेयर पर आया दूल्हा

  • ...जब व्हीलचेयर पर आया दूल्हा
You Are HereNational
Tuesday, February 25, 2014-2:46 PM

इंदौर: कहते हैं प्यार मजहब,जाति और रंग-रूप कुछ नहीं देखता है। प्यार देखता है तो बस उस चाहत को जो उससे कोई बेइंतहा करता है। एक ऐसी ही लव स्टोरी मध्यप्रदेश में देखने को मिली जहां एमबीए पास दुल्हन को ब्याहने दूल्हा व्हीलचेयर पर बैठकर आया। इंदौर के लक्ष्मीनगर की रहने वाली दुल्हन सविता चौबे सजे हुई स्टेज पर आई तो सभी की निगाहें उस टिक गई कि दूल्हा कैसा होगा लेकिन सभी तब हैरान रह गए जब इंदौर के मनभावन नगर का रहने वाला गौरव श्रीवास्तव घोड़ी पर बैठ नहीं बल्कि व्हीलचेयर पर आया।

 

सविता और गौरव आपस में पिछले 16 साल से प्यार करते हैं। इन दोनों की प्रेम कहानी किसी फिल्मी प्रेम कहानी से कम नहीं है। सविता से गौरव का रॉग नंबर लग गया था और उसके बाद से दोनों में दोस्ती हो गई और फिर दोनों में मुलाकातों का सिलसिला शुरू हो गया। दोनों के बीचे इतना गहरा जुड़ाव हो गया कि दोनों ने शादी करने की ठान ली। लेकिन दोनों की जाति अलग होने के कारण परिवार वालों ने इसे रजामंदी नहीं दी और जब परिवाल वालों ने इनके प्रेम पर मुहर लगाई तो पता चला कि सविता मंगलीक है।

 

दोनों की शादी पर परिवार वाले फिर से अनाकनी करने लग गए लेकिन दोनों के प्रेम के आगे परिवाल वालों ने हार मानते हुए शादी को रजामंदी दे दी लेकिन उससे पहले की सविता और गौरव एक हो पात, गौरव का एक्सीडेंट हो गया। गौरव की कार खाई में गिर गई जिससे गौरव को स्पाइनल इंज्युरी होने के कारण शरीर को लकवा मार गया और इसके पीछे कारण माना गया सविता का मगंलीक होना।

 

दोनों पर पाबंदी लगा दी गई कि वे एक-दूसरे से नहीं मिलेंगे लेकिन सविता गौरव के घर के बाहर घंटों बैठी रहती, हार कर दोनों पर लगी पाबंदी को हटा दिया गया। गौरव ने सविता से कहा कि वह अब कहीं और शादी कर ले पर सविता नहीं मानी और आखिर 16 साल के बाद दोनों के प्यार की जीत हुई और दोनों विवाह बंधन में बंध गए।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You