<

‘कौम की विरासत को संगतों से परिचित करवाए’

  • ‘कौम की विरासत को संगतों से परिचित करवाए’
You Are HereNational
Saturday, March 01, 2014-1:39 AM
नई दिल्ली : दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने दिल्ली की समूह सिंह सभाओं के प्रतिनिधियों की आपातकलीन बैठक गुरुद्वारा रकाब गंज साहिब के भाई लख्खी शाह  वंजारा हाल में बुलाई। 
 
इस मौके पर  कमेटी ने सिंह सभाओं के प्रतिनिधियों को बाबा बघेल सिंह एवं अन्य जरनैलों द्वारा लाल किले पर की गई फतेह को समर्पित 8 एवं 9 मार्च को किए जा रहे गुरमति समागम एवं जरनैली फतेह मार्च के बारे में जानकारी दी। 
 
कमेटी के प्रधान मनजीत सिंह जी.के. ने संगतों से अपील करते हुए कहा कि सिख कौम की इस अनमोल विरासत से अपने इलाके की संगतों को परिचित करवाएं। कमेटी द्वारा जरनैली मार्च को पूरे खालसाई जाहो-जलाल से निकाल कर दिल्ली के लोगों को यह संदेश देने की कोशिश की जाएगी कि जिस लाल किले पर देश के प्रधानमंत्री स्वतंत्रता दिवस पर तिरंगा झंडा लहराते हैं, दरअसल उस आज़ादी की असली नींव खालसों ने सन् 1783 में खालसाही निशान झूला कर रख दी थी। 
 
जी.के. ने आशंका प्रगट करते हुए कहा कि यदि हम अपने महान इतिहास से अपनी आने वाली पीढ़ी को परिचित करवाने में कामयाब ना हुए तो हो सकता है कि हमारी प्राप्तियों पर भी दूसरे लोग दावा करने लगे। 
 
 कमेटी के महासचिव एवं विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा ने दावा किया कि यदि खालसों ने मुगलों की जड़ों को न उखाड़ा होता तो आज  देश के प्रधानमंत्री लाल किले पर तिरंगा झंडा नहीं लहरा सकते थे।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You