केन्द्र की न्यायालय में दलील: जनहित में दिल्ली विधानसभा भंग नहीं की

  • केन्द्र की न्यायालय में दलील: जनहित में दिल्ली विधानसभा भंग नहीं की
You Are HereNcr
Thursday, March 06, 2014-5:59 PM

नर्इ दिल्ली: केन्द्र सरकार ने दिल्ली के मुख्यमंत्री पद से अरविन्द केजरीवाल के इस्तीफे के बाद विधानसभा भंग नहीं करने को न्यायोचित ठहराते हुये कहा कि ऐसा ‘जनहित’ में किया गया और सरकार बनाने के लिये भाजपा द्वारा दावा किये जाने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है।
  
शीर्ष अदालत में दाखिल हलफनामे में सरकार ने दलील दी है कि इतनी कम अवधि में चुनाव कराना जनहित में नहीं था जैसी कि उपराज्यपाल ने सिफारिश की थी। केन्द्र ने विधान सभा भंग नहीं किये जाने को लेकर दायर याचिका पर न्यायालय के नोटिस के जवाब में यह हलफनामा दाखिल किया है।
 
हलफनामे में कहा गया है, ‘‘उपराज्यपाल ने दो कारण दिए थे कि दिसंबर के पहले सप्ताह में संपन्न चुनाव के बाद 28 दिसंबर, 2013 को ही सरकार का गठन हुआ था और इसलिए इन परिस्थितियों में इतनी कम अवधि में अगला चुनाव कराना न तो उचित था और न ही जनहित में था।’’
 
हलफनामे के अनुसार, ‘‘उपराज्यपाल ने यह भी कहा था कि इन परिस्थितियों में निकट भविष्य में किसी अन्य राजनीतिक दल या गठबंधन द्वारा सरकार बनाने का दावा करने की संभावना बंद नहीं की जानी चाहिए।’’  
  
केन्द्र सरकार ने कहा कि उपराज्यपाल द्वारा दिये गये कारण सही और उपयुक्त थे और विशेषरूप से विधान सभा की अस्थिर स्थिति के संदर्भ में इसे स्वीकार करना ही उचित था। हलफनामे के अनुसार दिल्ली में भाजपा द्वारा सरकार बनाने का दाव करने की अभी भी संभावना है और इस संदर्भ में विधान सभा को भंग करना सही नहीं होता। दिल्ली में राष्ट्रपति शासन लागू नहीं किये जाने को चुनौती देने की आम आदमी पार्टी की याचिका पर 24 फरवरी को केन्द्र सरकार से जवाब मांगा था।

लेकिन न्यायालय ने इस मामले में भाजपा और कांग्रेस को नोटिस जारी करने से गुरेज करते हुये कहा था कि वह सिर्फ संवैधानिक मसले पर गौर करना चाहता है और राजनीतिक झमेले में नहीं पडऩा चाहता। आम आदमी पार्टी चाहती है कि विधान सभा भंग करके लोक सभा के साथ ही चुनाव कराने का निर्देश उप राज्यपाल को दिया जाये।

 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You