नाश्ता बाद में, वोटर कार्ड पहले

  • नाश्ता बाद में, वोटर कार्ड पहले
You Are HereNational
Sunday, March 09, 2014-12:02 AM
नई दिल्ली : अगर आप दिल्ली में रहते हैं और यहां के मतदाता नहीं हैं तो सुनहरा मौका आपके सामने है। चुनाव आयोग आगामी लोकसभा चुनावों में मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए 12 मार्च तक मतदाता बनाने की प्रक्रिया चला रहा है। रविवार 9 मार्च की छुट्टी तो बहुत ही खास है। इस दिन आयोग पूरी दिल्ली में वोटर कार्ड बनाने और मतदाता सूची में नाम जुड़वाने के लिए विशेष शिविर लगा रहा है। ऐसे में रविवार की सुबह उठने के बाद नाश्ता करने के बजाए आप वोटर कार्ड के इंतजाम में ही लग जाएं ताकि  लोकसभा चुनाव में मताधिकार का प्रयोग कर सकें।
 
दिल्ली चुनाव आयोग 11,763 मतदान केंद्रों में रविवार सुबह 10 बजे से विशेष शिविरों का आयोजन किया जाएगा। इन शिविरों में जाकर लोग अपना नाम मतदाता सूची में दर्ज तो करवा ही सकते हैं साथ ही नए वोटर आई.डी. कार्ड के लिए आवेदन भी कर सकते हैं। प्रत्येक शिविर में बूथ स्तर के अधिकारी (बी.एल.ओ.) मौजूद रहेंगे और मौजूदा मतदाताओं को सूची में नाम जांचने और नए मतदाताओं को नामांकन करने में सहायता करेंगे। शिविर सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक लगाए जाएंगे। 
 
10 अप्रैल को होने जा रहे चुनाव के लिए दिल्ली की 7 लोकसभा सीटों के लिए मतदान होना है। दिल्ली चुनाव आयोग इसी महीने 22 मार्च को दिल्ली की अंतिम मतदाता सूची जारी करेगा। सूची जारी हो जाने के बाद कोई भी व्यक्ति मतदाता सूची में अपना नाम नहीं जुड़वा सकेगा। इससे पहले जिन लोगों का वोटर आई.डी. कार्ड नहीं बना है वो 12 मार्च तक नए वोटर आई.डी. कार्ड के लिए अपने विधानसभा क्षेत्र के मतदाता केंद्र में जाकर फॉर्म संख्या-6 भर सकते हैं। जो व्यक्ति 12 मार्च या उससे पहले कार्ड के लिए आवेदन कर देगा उसका नाम 22 मार्च को जारी होने वाली मतदाता सूची में जुड़ जाएगा लेकिन जो व्यक्ति 12 मार्च के बाद कार्ड के लिए आवेदन करेगा, उसका कार्ड तो बन जाएगा लेकिन सूची में नाम नहीं शामिल हो पाएगा। ऐसे व्यक्ति लोकसभा चुनाव में मतदान नहीं कर सकेंगे।
 
केवल वोटर कार्ड नहीं, मतदान के लिए अनिवार्य है सूची में नाम होना: दिल्ली में जिन लोगों के पास वोटर आर्ड.डी. कार्ड है वो यह न सोचें कि वो लोकसभा चुनाव में 10 अप्रैल को वोट डाल सकेंगे। दिल्ली चुनाव आयोग के मुताबिक वोट डालने के लिए व्यक्ति का नाम उसके क्षेत्र की मतदाता सूची में होना अनिवार्य है। जिस व्यक्ति के पास वोटर आई.डी. कार्ड होगा लेकिन सूची में उसका नाम नहीं होगा वो कार्ड दिखाकर भी वोट नहीं डाल सकता। 
 
विधानसभा चुनाव में मतदान करने वाले भी जांच ले अपना नाम: पिछले साल 4 दिसम्बर को हुए दिल्ली विधानसभा चुनाव में जिन मतदाताओं ने मतदान किया था वो भी एक बार दोबारा अपने क्षेत्र की मतदाता सूची में अपना नाम जांच लें। रविवार को राजधानी के सभी मतदान केंद्रों पर विशेष शिविर लगाए जाएंगे, जिनमें बूथ लेवल ऑफिसर (बी.एल.ओ.) अधिकारी मौजूद रहेंगे। विधानसभा चुनाव में वोट डाल चुके लोग बी.एल.ओ. से बात कर अपने नाम की जांच सूची में कर लें।
 
शिविर में लेकर जाएं अपना वोटर आई.डी. कार्ड : जिन लोगों का वोटर आई.डी. कार्ड बना हुआ है लेकिन मतदाता सूची में उनका नाम नहीं है वो लोग रविवार सुबह लगने जा रहे विशेष शिविरों में अपना वोटर आई.डी. कार्ड साथ लेकर जरूर जाएं। कार्ड नहीं होने पर उनका नाम सूची में दर्ज करने में बी.एल.ओ. को परेशानी आ सकती है और व्यक्ति को भी परेशानी का सामना करना पड़            सकता है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You