कठुआ में सेना के कैंप पर आतंकवादियों का हमला, एक व्यक्ति की मौत

You Are HereJammu Kashmir
Friday, March 28, 2014-5:11 PM

जम्मू: जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में आज सेना की वर्दी पहने तीन आतंकवादियों ने एक वाहन पर गोलीबारी की जिससे एक व्यक्ति की मौत हो गई और तीन अन्य घायल हो गए। बंदूकधारियों को दो घंटे तक पीछा करने के बाद कठुआ जिले के कालीबाड़ी-जंगलोटे क्षेत्र में सेना के एक शिविर और एक निजी कालेज के पास रोका गया। इससे दोनों ओर से भारी गोलीबारी हुई। इस मुठभेड़ में सेना का एक जवान घायल हो गया है। एक पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘‘सेना की वर्दी पहने तीन लोगों ने सुबह करीब 5 बजे कठुआ जिले के दयाल चक क्षेत्र में तरनाह नाला पुल पर एक एसयूवी को रोका, इसमें सवार लोगों को बाहर निकाला और उन पर गोलियां चलाईं।’’

 

उन्होंने बताया कि हमले में एक व्यक्ति मारा गया और तीन अन्य घायल हो गए। अधिकारी ने बताया कि अज्ञात बंदूकधारी वाहन को उसके चालक के साथ अपहृत करके ले गए। सेना ने संदिग्ध आतंकवादियों वाले वाहन को दो घंटे बाद कालीबाड़ी-जंगलोटे क्षेत्र में सेना के एक शिविर और एक निजी कालेज के पास रोका । दोनों ओर से भारी गोलीबारी हुई जिसमें एक जवान घायल हो गया। आखिरी सूचना मिलने तक मुठभेड़ जारी थी।

 

पुलिस ने कहा कि घायलों को सरकारी मेडिकल कॉलेज अस्पताल ले जाया गया है। सुरक्षा एजेंसियों ने हाई अलर्ट जारी कर दिया है। सैन्य शिविरों और कठुआ, साम्बा तथा जम्मू जिले के महत्वपूर्ण स्थानों पर सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। यह हमला प्रधानमंत्री पद के लिए भाजपा के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी के 26 मार्च को कठुआ जिले के हीरानगर-दयालचक क्षेत्र में एक रैली को संबोधित करने के दो दिन बाद हुआ है। रैली में मोदी ने पाकिस्तान पर हमला बोला था।

 

कठुआ जिले में यह दूसरा बड़ा हमला है। 26 सितंबर 2013 को भारी हथियारों से लैस तीन आतंकवादियों ने कठुआ और साम्बा जिलों में एक पुलिस थाने और एक सैन्य शिविर पर हमला किया था। इस हमले में चार पुलिसकर्मियों और सेना के एक अधिकारी सहित 10 लोग मारे गए थे। खुद को ‘शोहदा’ ब्रिगेड बताने वाले एक संगठन ने इस दोहरे हमले की जिम्मेदारी ली थी। हालांकि, सुरक्षाबलों का मानना है कि इसके पीछे लश्कर ए तैयबा का हाथ था।

 

कठुआ जिले में यह दूसरा बड़ा हमला है। 26 सितंबर 2013 को भारी हथियारों से लैस तीन आतंकवादियों ने कठुआ और साम्बा जिलों में एक पुलिस थाने और एक सैन्य शिविर पर हमला किया था। इस हमले में चार पुलिसकर्मियों और सेना के एक अधिकारी सहित 10 लोग मारे गए थे। खुद को ‘शोहदा’ ब्रिगेड बताने वाले एक संगठन ने इस दोहरे हमले की जिम्मेदारी ली थी। हालांकि, सुरक्षाबलों का मानना है कि इसके पीछे लश्कर ए तैयबा का हाथ था। प्रधानमंत्री पद के भाजपा के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने 26 मार्च को कठुआ जिले के हीरानगर-दयालचक क्षेत्र में एक रैली को संबोधित किया था । रैली में मोदी ने पाकिस्तान पर हमला बोला था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You