मजाक-मजाक में मैदान में आ गए ‘गजोधर भैया’!

  • मजाक-मजाक में मैदान में आ गए ‘गजोधर भैया’!
You Are HereNational
Saturday, March 29, 2014-2:24 AM

देश की समस्याओं को लेकर नेताओं को मजाक-मजाक में ही आड़े हाथ लेने वाले ‘गजोधर भैया’ अब जमीनी लड़ाई लडऩे उतर गए हैं। जी हां, हम बात कर रहे हैं मशहूर हास्य कलाकार राजू श्रीवास्तव की। अब तक लोगों ने सिर्फ उन्हें स्टेज पर हंसाने के लिए कला करते देखा है लेकिन अब वह गंभीर मुद्दों पर चर्चा करने को तैयार हैं। पहले राजू श्रीवास्तव साइकिल पर सवार होकर कानपुर सीट पर किस्मत आजमाने उतरे थे लेकिन समाजवादी पार्टी की कथित कार्यशैली उन्हें पसंद नहीं आई।

जिंदगी में तमाम मुश्किलें देखने का दावा करने वाले राजू को तब नरेंद्र मोदी ही ऐसे नेता लगे जिनसे जुड़कर विकास की राह बनाना आसान है। फिर वह साइकिल से उतरकर भाजपा की शरण में आ गए। उनका कहना है कि अब वह चुनाव लड़कर देश के विकास में भागीदार बनना चाहते हैं। राजू का कहना है कि बचपन का सपना सच करने वह 80-90 के दशक में मुम्बई आ गए। जब वह मुम्बई आए तो हास्य का पैमाना जॉनी वाकर से शुरू होकर जॉनी लीवर तक था। ऐसे में उन्हें काफी संघर्ष करना पड़ा। मुम्बई जैसे बड़े शहर में खर्चे अधिक होने के चलते उन्हें ऑटो भी चलाना पड़ा।

राजू का कहना है कि काफी साल स्ट्रगल करने के बाद जब शो मिलने शुरू हुए तो 50 रुपए मेहनताने पर भी उन्होंने कॉमेडी की। राजनीति में आने के सवाल पर राजू कहते हैं कि मैंने जिंदगी में बहुत दर्द देखा है। दहेज न देने पर बहन की शादी टूटते देखी है, रिश्वत नहीं देने पर भाई की नौकरी छूटते देखी है। अब सोचता हूं कि लोगों की मदद कर सकूं।

समाजवादी पार्टी का साथ छोडऩे पर राजू कहते हैं कि सपा की कानपुर इकाई में अनुशासन की भारी कमी है। अपने लिए वहां हर आदमी नेता है। मुलायम सिंह जो आदेश देते हैं वहां कार्यकर्त्ता उसका उलट ही करते हैं। राजू ने समाजवादी पार्टी से निकलने के बाद भाजपा को चुना और इसका कारण थे नरेंद्र मोदी। वह नरेंद्र मोदी से इतने प्रभावित हैं कि पूरी तरह से मोदीमय हो चुके हैं। ‘गजोधर भैया’ का दावा है कि वह अगर चुनाव लड़े और जीते तो लोगों के जीवन स्तर को ऊपर उठाने के लिए सबसे ज्यादा काम करेंगे। इलाके की मूलभूत समस्याएं दूर करना उनका मकसद होगा।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You