चुनावी माहौल में सीडी के बाद बांटी जा रही हैं आपत्तिजनक किताबें

  • चुनावी माहौल में सीडी के बाद बांटी जा रही हैं आपत्तिजनक किताबें
You Are HereNational
Sunday, March 30, 2014-5:31 PM

सहारनपुर: चुनाव में मतों के ध्रुवीकरण में लगी राजनीतिक पार्टियां चुनावी माहौल बिगाडऩे की साजिश कर रही हैं। वैसे इस तरह का कुत्सित प्रयास पहले भी हो चुका है। हर बार निर्वाचन आयोग की सख्ती को दरकिनार करके छोटी-छोटी चुनावी सभाओं में लोगों की भावनाओं को भड़काने की कोशिश पहले भी होती रही है और अब भी हो रही है। जिले में इस बार सीडी ही नहीं राष्ट्रीय स्तर के नेताओं के खिलाफ आपत्तिजनक बातों से भरी किताबें भी बांटी जा रही हैं। इससे यह साफ हो गया है कि चुनावी माहौल बिगाडऩे के लिए अवांछनीय तत्व सक्रिय हैं। सहारनपुर में चुनाव के दौरान लोगों की भावनाएं भड़काने का सिलसिला बहुत पुराना है।

वर्ष 2012 के विधानसभा चुनाव में भी राजनीतिक दलों के प्रत्याशियों में लोगों की भावनाएं भकड़ाने में होड़ मची रही। इससे पहले भी मतों के ध्रुवीकरण के लिए लगभग हर चुनाव में इस तरह का खेल होता रहा है। कांग्रेस प्रत्याशी के भड़काऊ भाषण से सांप्रदायिक सौहार्द बिगाडऩे वाली वीडियो ने छोटी सभाओं में मतदाताओं की भावनाएं भड़काने के मामले को उजागर कर दिया है। सहारनपुर में होने वाले चुनावों में इस तरह से सस्ती लोकप्रियता पाने का रास्ता पूर्व में तमाम बार अख्तियार किया जा चुका है। बलिहारी यहां कि जनता को कहा जाएगा कि इस तरह की कारगुजारियों पर वह ध्यान न देकर अपने काम में लगी रहती है। यहां मतदाताओं को जाति-धर्म के नाम पर वोट मांगने वाले मतदान से ठीक पहले सक्रिय हो जाते हैं।

लगता है कि वह मतदाताओं की भावनाएं भड़कने में सफल होकर माहौल बिगडऩे काम कर जाएंगे। इस बार भी उसी तर्ज पर काम कर कर रहे हैं। कांग्रेस प्रत्याशी के वीडियो का मामला अभी लोगों को भूला नहीं है ऐसे में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पड़ी वाली किताब भी बांटी जा रही है। इसमें दोनों नेताओं पर टिप्पणी की हुई है जिसे बांट कर मतदान से पहले चुनाव में मतों के ध्रुवीकरण के लिए यह माहौल बनाया जा रहा है। पिछले विधानसभा चुनाव में भी आपत्तिजनक वीडियो सहारनपुर से तैयार किया गया था। इसके बाद जहरीली सीडी को न केवल चुनाव आयोग ने सील किया था, बल्कि इसमें सहारनपुर के कई लोगों के खिलाफ मामला भी विचाराधीन है। जिलाधिकारी संध्या तिवारी का कहना है कि निष्पक्ष चुनाव प्रशासन की पहली प्राथमिकता है। इसमें बाधक बनने वालों से सख्ती से निपटा जाएगा।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You