<

ऑनर कीलिंग है क्लास ऑफैंस, बनना चाहिए नया कानून

  • ऑनर कीलिंग है क्लास ऑफैंस, बनना चाहिए नया कानून
You Are HereNational
Thursday, April 03, 2014-12:09 PM
नई दिल्ली (मनीषा खत्री): ऑनर कीलिंग अपने आप में एक क्लास ऑफैंस है, जो जाति, धर्म या आर्थिक स्टेटस के चलते किया जाता है। इस अपराध का मुख्य प्रेरणा स्रोत जातिवादी सिस्टम है, जो कि स्वीकार योग्य नहीं है। 
 
ऐसे मामलों की गंभीरता से जांच की जानी चाहिए। इतना ही नहीं ऐसे मामलों के लिए दंड संहिता में अलग से प्रावधान बनाया जाना चाहिए। नीतीश कटारा हत्याकांड को ऑनर किलिंग करार देते हुए दिल्ली उच्च न्यायालय ने कई सुबूत व उदाहरण दिए हैं, जिनसे जाहिर हो रहा है कि यह मामला एक ऑनर किलिंग का मामला था और भारतीय समाज में इस तरह के अपराध बढ़ते जा रहे हैं। 
 
इसलिए अदालत ने माना ऑनर कीलिंग
 
भारती नीतीश से प्यार करती थी और उसके परिजन खुश नहीं थे। भारती यादव जाति से और नीतीश कटारा जाति से था। भारती व्यवसायी व संपन्न परिवार से थी, नीतीश के पिता अधिकारी थे।जाति, धर्म व पैसे के चलते बहुत हत्याएं हुई हैं, यह हत्या भी इसी कारण हुई।
 
नीतीश के परिवार वाले ही नहीं भारती भी है इस अपराध की पीड़ित।किसी भी लड़की या महिला से अगर उसका जीवन साथी चुनने का अधिकार छीन लिया जाता है तो वह भी ऑनर किङ्क्षलग की पीड़ित है।ऐसी पीड़ित महिलाओं को भी अन्य पीड़ितों की तरह सुरक्षा दी जानी चाहिए, ताकि वह सम्मान के साथ अपना जीवन जी सकें।जीवन साथी चुनना मौलिक अधिकार है, जो जीने के अधिकार के तहत है।भारती की बहन की यादव लड़के से शादी हुई थी।तीसरा आरोपी सुखदेव भी यादव है। ऐसे में साफ है कि मामला जाति का था। 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You