राव इंद्रजीत सिंह की नजर मोदी लहर पर

  • राव इंद्रजीत सिंह की नजर मोदी लहर पर
You Are HereNational
Tuesday, April 08, 2014-2:44 PM

गुडग़ांव: कांग्रेस में करीब 35 साल रहने के बाद भाजपा के टिकट पर मैदान में उतरे राव इंद्रजीत सिंह को आलोचक भले ही उन्हें ‘अवसरवादी’ करार दें लेकिन पूर्व केंद्रीय मंत्री पार्टी से बाहर होने के लिए आंतरिक राजनीति को दोषी ठहराते हैं। लोकसभा में इस सीट का वह तीन बार प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। मुकाबले में आप के योगेंद्र यादव के आने से यह सीट काफी महत्वपूर्ण मानी जा रही है। पिछले साल सितंबर में सिंह की कांग्रेस से राहें अलग हो गयी थी और वह फरवरी में भाजपा से जुड़ गए। अपनी सीट बरकरार रखने के लिए वह आश्वस्त हैं। 2009 में उन्होंने बसपा के जाकिर हुसैन को हराया था।

 

हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत राव बीरेंद्र सिंह के बेटे इंद्रजीत संप्रग के पहले कार्यकाल में राज्यमंत्री थे। उन्होंने कहा, ‘‘प्रचार के समय मुझ अहसास हुआ कि वोटर इससे अवगत हैं कि (संप्रग) सत्ता विरोधी लहर पर कौन सर्वश्रेष्ठ उम्मीदवार होगा। दिल्ली में जैसा उन्होंने किया वैसा वे नहीं कर सकते।’’

 

आम आदमी पार्टी की आलोचना करते हुए सिंह ने कहा कि यह एक स्वयंभू संगठन है जो लगातार लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं का मान घटा रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘मेरी स्पर्धा सिर्फ इंडियन नेशनल लोकदल उम्मीदवार हुसैन से है क्योंकि मेवात क्षेत्र में उनकी मजबूत पकड़ है।’’ इंद्रजीत ने कहा, ‘‘गुडग़ांव में भी मोदी लहर है और इसके कारण मुझे व्यापक समर्थन मिल रहा है।’’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You