लुधियाना तेजाब कांड: मौत के आगे हार गई पीड़िता

You Are HereNational
Saturday, December 28, 2013-10:28 AM

लुधियाना (कुलवंत): आखिरकार बरनाला की रहने वाली हरप्रीत कौर 21 दिन तक जिंदगी व मौत के बीच जंग करती हुई मौत के आगे हार गई। उस पर ऐसिड अटैक उस समय हुआ था जब वह अपनी शादी वाले दिन सराभा नगर स्थित सैलून में सजने आई थी और वहीं पर उसकी जिंगदी को नर्क बनाने के लिये चार युवक उसका इंतजार करने लगे और जब वह सैलून के भीतर गई तो पटियाला के परमिंदर सिंह ने उस पर सैलून के भीतर ही तेजाफ फेंक दिया था। इतना ही नही हरप्रीत के साथ सैलून में काम करने वाली दो अन्य युवतियां भी झुलसी तथा एक और दुल्हन जो वह भी सजने आई थी ऐसिड अटैक का शिकार हो गई। इनमें से हरप्रीत की हालत बेहद खराब थी,तेजाब उसके चेहरे,छाती व पेट पर गिरा था,उसकी आंखे पहले ही पूरी तरह से डैमेज हो चुकी थी।

जिस कारण लुधियाना के डीएमसी के डाक्टरों के अनुसार वह 50 फीसदी से अधिक झुलस चुकी थी। पंजाब पुलिस के लुधियाना कमिश्रर निर्मल सिंह ढिल्लों ने हरप्रीत को उपचार के लिये 10 दिसम्बर को मुबई के नैशनल बर्न यूनिट में बेहतर उपचार के लिये भेजा था व उपचार का सारा खर्चा भी पुलिस की और से किया गया था। लेकिन पुलिस के यह प्रयास धरे के धरे रह गये और हरप्रीत के साथ जिंदगी जंग हार गई और उसे मौत ने गले लगा लिया। पुलिस की टीम हरप्रीत का शव लेने के लिये मुबई रवाना हो गई है।

जबकि पहले दर्ज मामले में अब पुलिस ने हत्या के आरोप की धारा भी जोड दी है। बाक्स किसने दी हरप्रीत को मौत की सजाहरप्रीत की सारी खुशिया व अरमानों का कत्ल करने वाली उसकी होने वाली तलाकशुदा जेठानी थी,जिसने अपने ससुराल परिवार से बदला लेने के लिये व ससुराल परिवार को बर्बाद करने के लिये अपने आशिक को सुपारी दी कि इस घर में कोई भी दुल्हन नही आनी चाहिये। यही कारण था कि अमितपाल कौर ने अपने आशिक परमिंदर व उसके साथिओं को यह बर्बादी करने के लिये भेजा,आरोपियों ने समय का चुनाव भी वह किया जब हरप्रीत सजने के लिये सैलून में बैठी थी और हसीन सपनों में खोई थी कि शादी के बाद वह आपना परिवार किस तरह बसायेगी,तभी परमिंदर सैलून के भीतर घुसा और पलक झपकते ही उसने हरप्रीत की सारी खुशियां व सपने रौंदते हुए उस पर तेजाब फेंक दिया।

बेशक सभी आरोपी पुलिस ने दो दिन बाद पकड लिये थे,लेकिन इस ऐसिड कांड ने सबकी रूह कंपा दी थी और आज हरप्रीत की मौत ने कई स्वाल खडे कर दिये है कि क्या बच्चियों के साथ इस तरह का ही जघंन्य अपराध होता रहेगा। वहीं पंजाब सरकार पर भी आरोप लगा है कि इतनी बडी वारदात के बाद भी उसने खजाने का मूंह खोल कर एक अबला को बचाने का प्रयास नही किया।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You