Subscribe Now!

पुलिस का दोतरफा रवैया: जब बात खाकी पर आई तो नहीं की कार्रवाई

  • पुलिस का दोतरफा रवैया: जब बात खाकी पर आई तो नहीं की कार्रवाई
You Are HerePunjab
Wednesday, January 24, 2018-11:25 AM

मोहाली, (राणा) : मोहाली पुलिस का दोतरफा रवैया तब देखने को मिला जहां पंजाब पुलिस के मुलाजिमों द्वारा एक गाड़ी को जोरदार टक्कर मार दी जाती है। उसके बाद पुलिस की गाड़ी से दो पुलिसवाले भागने में कामयाब हो गए लेकिन एक को दबोच लिया गया। जिसके मैडीकल में सिविल अस्पताल में डाक्टर ने स्मैल भी लिख दिया फिर भी मोहाली पुलिस उस पुलिसवालें पर मेहरबान रही, क्योंकि वह उनकी बिरादरी का था। वहीं शिकायतकत्र्ता सतवीर ने थाना पुलिस की कार्रवाई से असतुंष्टि  जताते हुए एस.एच.ओ. को लिखा। थाना फेज-1 पुलिस ने पुलिसकर्मी पर कोई भी कार्रवाई नहीं की। हैरानी की बात है कि पुलिस ने अभी तक खुद तो क्या कारवाई करनी थी उनकी ओर से तो अभी तक उस विभाग को भी नहीं लिखा गया जहां पर शराब पीकर टक्कर मारने वाला मुलाजिम पोस्टेड है। 


एस.एस.पी. को दूंगा शिकायत
शिकायतकर्ता सतवीर ने कहा कि थाना पुलिस शुरू से ही उनके केस में ढील बरत रही है। वह पुलिसवाले की ही मदद करने में जुटी है। लेकिन उसने एस.एच.ओ. को लिखकर दिया कि वह पुलिस की कारवाई से सतुंष्ट नहीं है, इसलिए मुलाजिम पवन का ब्लड व यूरिन का सैंपल लिया जाएं, जिसके बाद वह खुद सीविल अस्पताल में गया और उसके सामने सैंपल लिए गए। लेकिन पुलिस अभी तक सैंपल की रिपोर्ट का जिक्र नहीं कर रही है। एस.एच.ओ. ने उन्हें मंगलवार को बुलाया था, लेकिन वहां भी पवन ने सिर्फ 5 हजार देने की बात कहीं और कहा कि बाकि पैसे इंशोरैंस से ले लेना। जबकि उन्होंने गाड़ी चैक करवाई तो कुल खर्चा डेढ़ से दो लाख के बीच बताया गया। सतवीर ने कहा कि थाना पुलिस उनकी शिकायत पर कोई कारवाई नहीं कर रही, जिसके बाद अब उनकी ओर से एस.एस.पी. को शिकायत दी जाएगी। 


बनती थी कार्रवाई
कानून के मुताबिक अगर इस मामले में शिकायतकत्र्ता समझौता या शिकायत वापस लेता है तो पुलिसवालों पर कारवाई बनती है। क्योंकि जब रविवार को मदनपुरा चौंक पर पंजाब पुलिस की सूमो गाड़ी ने आई-20 कार को पीछे से टक्कर मारी थी तब पुलिस की गाडी मेें ड्राइवर समेत 3 मुलाजिम सवार थे। इनमें से दो भाग गए और एक दबोच लिया गया। हिरासत में लिए मुलाजिम पवन के मैडीकल में सीविल अस्पताल के डाक्टर ने स्मैल लिखा था फिर भी थाना पुलिस ने कार्रवाई नहीं की। जबकि वह सरकारी गाडी में थे, यहीं नहीं थाना पुलिस ने हादसे के बाद मौके से भागे दो मुलाजिमों का भी पता लगाने की कोशिश नहीं की। 


रविवार को हुई थी घटना 
रविवार शाम के समय आई-20 कार में सवार सतबीर अपने परिवार के साथ एक फंक्शन अटैंड कर अपने घर कलौड़ लोट रहे थे। जैसे ही मदनपुरा चौंक के पास पहुंचे तो पीछे से आ रही पंजाब पुलिस की सूमों गाडी ने जोरदार टक्कर मार दी, जिससे सतबीर की कार पीछे से काफी क्षतिग्रस्त हो गई और वह अपने आगे जा रही अन्य गाडी से टकरा गई। 


बचाने की कोशिश
जिस तरह से पुलिस इस केस को डील कर रही है उससे यही लगता है कि थाना पुलिस इस केस में ज्यादा इंट्रस्ट नहीं दिखा रही। अगर यहीं गलती किसी आम नागरिक ने की होती तो उस पर कार्रवाई कर उसे सलाखों के पीछे पहुंचाया जाता। लेकिन अब बात खाकी पर आती दिखी रही है। खाकी बदनाम न हो तो इसलिए थाना पुलिस मामलें को निपटाने में 
लगी हुई है। 


अपने सीनियर अफसरों को इस मामले की रिपोर्ट बनाकर भेज दी गई है अब अफसरों की ओर से ही मुलाजिम के डिपार्टमैंट को लिखकर भेजा जाएगा। जो कारवाई बनती है वो की जा रही है। 
- सुखविंद्र सिंह, फेज-1 थाना प्रभारी। 

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You