पुणे पिस्टंस ने किया मुम्बई मास्टर्स को चित्त

  • पुणे पिस्टंस ने किया मुम्बई मास्टर्स को चित्त
You Are HereSports
Sunday, August 18, 2013-11:12 PM

लखनऊ: व्लादिमीर इवानोवा के तेज-तर्रार खेल के बावजूद मुम्बई मास्टर्स को इंडियन बैडमिंटन लीग के मुकाबले में यहां पुणे पिस्टंस के हाथों शिकस्त का सामना करना पड़ा। आखिरी एवं निर्णायक मैच में अश्विनी पोनप्पा और जोकिम फिशर नील्सन की जोड़ी ने मुम्बई की जोड़ी को हराकर पुणे को लीग में लगातार दूसरी जीत के साथ अंक तालिका में शीर्ष पर पहुंचा दिया।

बंगा बीट्स के खिलाफ मुम्बई मास्टर्स की जीत के हीरो रहे रूसी खिलाड़ी इवानोवा ने कल पुणे पिस्टंस के विरुद्ध खेले गए मुकाबले के पहले मैच में सौरभ वर्मा को 21-16, 21-14 से परास्त करके अपनी टीम को अच्छी शुरूआत दिलाई।

इस मैच के दौरान सौरभ शुरूआती बढ़त लेने के बाद कभी भी वापसी करते नहीं दिखे। इवानोवा ने अपने लंबे कद का भरपूर फायदा उठाया और अपने स्मैश से प्रतिद्वंद्वी को बेबस कर दिया। हालांकि सौरभ ने भी कई दमदार स्मैश लगाए लेकिन इवानोवा उनसे ज्यादा तेज निकले। मुम्बई के खिलाड़ी ने पहला गेम 21-16 से जीता।

दूसरे गेम में भी इवानोवा ही हावी रहे। शुरूआत में सौरभ ने कुछ प्रतिरोध जरूर किया लेकिन उनकी जद्दोजहद लम्बी नहीं ङ्क्षखच सकी और यह गेम भी 14-21 से हारकर वह मैच गंवा बैठे।

अगला मुकाबला दुनिया की तीसरे नंबर की खिलाड़ी पुणे पिस्टंस की जूलियन शेंक और विश्व की 11वें नम्बर की शटलर मुम्बई मास्टर्स की टाइन बाऊन के बीच खेला गया जिसमें शेंक ने शुरूआती गेम हारने के बाद जबरदस्त वापसी करके मैच जीत लिया और अपनी टीम को 1-1 की बराबरी पर ला दिया। मुकाबले का तीसरा मैच मुम्बई के नाम रहा। इस मैच में एक बार फिर इवानोवा का पावरगेम देखने को मिला। उन्होंने अपने भारतीय जोड़ीदार प्रणव चोपड़ा के साथ मिलकर पिस्टंस के रूपेश कुमार और सनावे थामस की भारतीय जोड़ी को 21-12, 20-21 और 11-9 से पराजित किया।

पहले गेम में मुम्बई ने शुरूआत से ही बढ़त बनाए रखी जो प्रतिद्वंद्वी पर भारी पड़ी। दूसरे गेम में हालांकि पिस्टंस ने वापसी की और संघर्षपूर्ण मुकाबले में उसे 21-20 के नजदीकी अंतर से जीता लेकिन तीसरे गेम में वे लय बरकरार नहीं रख सके और 11-9 से पराजित हो गए। इस तरह मुम्बई ने 2-1 की बढ़त ले ली। चौथा मुकाबला पुणे पिस्टंस के टिएन मिन्ह एनगुएन और मुम्बई मास्टर्स के मार्क ज्वेबलर के बीच हुआ जिसे एनगुएन ने लगातार गेम में 21-18, 21-13 से जीता।

पहला गेम काफी संघर्षपूर्ण रहा और दोनों ही खिलाडिय़ों ने बेहतरीन खेल का मुजाहिरा किया लेकिन एनगुएन ने ज्वेबलर की कुछ गलतियों का फायदा उठाकर यह गेम 21-18 से जीत लिया।

दूसरे गेम में मुम्बई के खिलाड़ी का प्रतिरोध कमजोर हो गया और एनगुएन ने इसे आसानी से 21-13 से जीतकर पिस्टंस को 2-2 की बराबरी पर ला खड़ा किया। अब लीग के बाकी मुकाबलों की तरह इस जोर-आजमाइश का फैसला आखिरी मैच से होना था जो पिस्टंस की आइकन खिलाड़ी अश्विनी पोनप्पा और जोकिम फिशर तथा मास्टर्स के प्रणव चोपड़ा तथा एन. सिकी रैड्डी के बीच खेला गया। इस मुकाबले को पिस्टंस ने 21-20 और 21-13 से जीतकर लीग में अपनी लगातार दूसरी जीत हासिल की। पहले गेम में दोनों खिलाडिय़ों के बीच जबरदस्त संघर्ष देखने को मिला। एक वक्त दोनों जोडिय़ां 18-18 से बराबरी पर थीं लेकिन पिस्टंस ने सधे हुए खेल से यह गेम 21-20 के नजदीकी अंतर से जीत लिया।

उसके बाद पुणे की जोड़ी प्रतिद्वंद्वी पर पूरी तरह हावी हो गई और उसे वापसी का मौका नहीं दिया। पिस्टंस ने यह गेम आसानी से 21-13 से जीत कर निर्णायक मुकाबला फतह कर लिया। इसके साथ ही पुणे पिस्टंस 8 अंकों के साथ अंक तालिका में शीर्ष पर पहुंच गई।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You