Pix: कभी ऐसी दिखती थी सानिया और अब....

  • Pix: कभी ऐसी दिखती थी सानिया और अब....
You Are HereSports
Wednesday, September 04, 2013-3:46 PM

इंसान अपने जीवन में लगातार मेहनत करता रहता है लेकिन अगर इंसान में हुनर हो तो वह अपनी मेहनत और लगन से क्या हासिल नहीं कर सकता। कुछ ऐसा ही भारत की टेनिस महिला खिलाड़ी सानिया मिर्जा ने किया।

सानिया का जन्म 15 नवंबर 1986 को मुम्बई में हुआ। सानिया के पिता इमरान मिर्जा एक खेल संवाददाता थे। निज़ाम क्लब हैदराबाद में सानिया ने छ्ह साल की उम्र से टेनिस खेलना शुरु किया था। महेश भूपति के पिता और भारत के सफल टेनिस प्लेयर सीके भूपति से सानिया ने अपनी शुरुआती कोचिंग ली।

उनके पिता के पास इतने पैसे नही थे जो वह सानिया को प्रोफेशनल ट्रेनिंग करवा सकें। इसके लिए उन्होंने कुछ बड़े व्यापारिक घरानों से स्पॉंसरशिप ली। जीवेके इंड्रस्ट्रीज और एडीडास ने सानिया मिर्ज़ा को 12 साल की उम्र से ही स्पॉंसर करना शुरु कर दिया। उसके बाद उनके पिता ने उनकी ट्रेनिंग का जिम्मा ले लिया।

सानिया ने अपने कॅरियर की शुरुआत 1999 में विश्व जूनियर टेनिस चैम्पियनशिप में हिस्सा लेकर की। इसके बाद उन्होंने कई अंतररार्ष्ट्रीय मैचों में हिस्सा लिया और सफलता भी पाई। 2003 उनके जीवन का सबसे रोचक मोड़ बना जब भारत की तरफ से वाइल्ड कार्ड एंट्री करने के बाद सानिया ने विम्बलडन में डबल्स के दौरान जीत हासिल की।

वर्ष 2004 में बेहतर प्रदर्शन के लिए उन्हें 2005 में अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया। वर्ष 2006 में उन्हें पद्मश्री सम्मान प्रदान किया गया। सानिया यह सम्मान पाने वाली सबसे कम उम्र की खिलाड़ी बनी। उसे 2006 में ही अमेरिका में विश्व की टेनिस की दिग्गज हस्तियों के बीच डब्लूटीए का 'मोस्ट इम्प्रेसिव न्यू कमर एवार्ड' दिया गया। 2009 में वह भारत की तरफ से ग्रैंड स्लैम जीतने वाली पहली महिला खिलाड़ी बनीं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You