धोनी ने अपने गृह मैदान पर कोई मैच नहीं गंवाया, इंग्लैंड के छक्के छुड़ाए

  • धोनी ने अपने गृह मैदान पर कोई मैच नहीं गंवाया, इंग्लैंड के छक्के छुड़ाए
You Are HereSports
Wednesday, December 25, 2013-3:47 PM

रांची: बांग्लादेश के खिलाफ 23 दिसंबर 2004 को अपना अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट कैरियर प्रारंभ करने वाले भारतीय टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने इस वर्ष अपने गृह नगर रांची में भी पहली बार अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेला और रांचीवासियों के लिए खुशी की बात यह रही कि उन्होंने कोई भी मैच गंवाया नहीं और पहले मैच में ही इंग्लैंड के छक्के छुड़ा दिए। माही अपने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट करियर के पहले मैच में बांग्लादेश के खिलाफ बेशक चटगांव में बिना कोई रन बनाए रन आउट हो गए थे लेकिन गृहनगर रांची में इस वर्ष 19 जनवरी को खेले गए पहले अंतर्राष्ट्रीय एकदिवसीय मैच में उनकी कप्तानी में भारत ने इंग्लैंड को सात विकेट से रौंद दिया।

रांची में झारखंड राज्य क्रिकेट संघ (जेएससीए) द्वारा बनए गए जबर्दस्त अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम का उद्घाटन 18 जनवरी, 2013 को हुआ और धोनी के गृह नगर में बने इस स्टेडियम में पहली बार इंग्लैंड के साथ भारत का मुकाबला 19 जनवरी को हुआ जिसमें भारत ने इंग्लैंड को टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करवाई और उसे सिर्फ 42 ओवर, दो गेंदों में 155 रनों पर समेट दिया। ग्यारह जनवरी को राजकोट में खेले गए श्रृंखला के पहले रोमांचक मैच में नौ रनों से शिकस्त खाने वाली भारतीय टीम ने कोची की 127 रनों की जीत की रौ को यहां भी बरकरार रखा और विराट कोहली की शानदार अजेय 77 रनों की पारी के चलते इंग्लैंड को सिर्फ 28.1 ओवर में तीन विकेट के नुकसान पर 157 रन बनाकर रौंद दिया और भारत को श्रृंखला में 2-1 की बढ़त दिला दी।

सुरेश रैना ने मैच के बाद बताया कि धोनी का गृह मैदान होने की वजह से रांचीवासी उनकी बल्लेबाजी और हेलीकाप्टर शाट देखने को बेकरार थे लिहाजा युवराज सिंह के आउट होने के बाद सुरेश रैना की बजाय स्वयं महेंद्र सिंह धोनी मैदान में उतरे और उन्होंने नाबाद दस रन बनाए जिसमें दो धमाकेदार चौके भी जड़ कर रांचीवासियों का दिल जीत लिया।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You