Dharmik Katha: साधना का एक तरीका ये भी, करें अभ्यास

Edited By Jyoti,Updated: 02 Aug, 2022 11:49 AM

dharmik katha in hindi

एक संत रोज एक मूर्ति के आगे खड़े होकर भिक्षा की याचना करते थे। उन्हें ऐसा करते कई लोगों ने देखा, पर किसी को उनसे कुछ पूछने की हिम्मत नहीं पड़ी।

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
एक संत रोज एक मूर्ति के आगे खड़े होकर भिक्षा की याचना करते थे। उन्हें ऐसा करते कई लोगों ने देखा, पर किसी को उनसे कुछ पूछने की हिम्मत नहीं पड़ी। 
PunjabKesari Dharmik Katha In Hindi, Dharmik Story In Hindi, Lok katha In hindi, Dharmik Hindi katha, Dant Katha in Hindi, हिंदी धार्मिक कथा, Motivational Concept, Dharm
एक दिन एक युवा साधु ने आखिरकार उनसे पूछ ही लिया, ‘‘गुरुदेव एक जिज्ञासा है। आप प्रतिदिन मूर्ति के आगे हाथ फैलाते हैं। आप तो जानते होंगे कि इस तरह हाथ पसारने से कुछ नहीं मिल सकता। फिर आप व्यर्थ कष्ट क्यों करते हैं?’’

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं । अपनी जन्म तिथि अपने नाम , जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर वाट्स ऐप करें

PunjabKesari

इस पर उस संत ने कहा, ‘‘तुम्हारी जिज्ञासा एकदम उचित है। मैं जानता हूं कि यह प्रतिमा मुझे कुछ नहीं देने वाली है, फिर भी मैं उससे कुछ मांगता रहता हूं। मैं किसी आशा से उससे कुछ नहीं मांगता। यह मेरा नित्य का अभ्यास-कर्म है। मांगने से कुछ नहीं मिलता। यह सोचकर मेरे भीतर धैर्य पैदा होता है। मैं किसी घर में याचना करूं और मुठ्ठीभर अन्न न मिले तो मेरे मन में निराशा नहीं पैदा होगी। मेरे मन की शांति भंग न हो, इसका प्रयास कर रहा हूं।’’
PunjabKesari Dharmik Katha In Hindi, Dharmik Story In Hindi, Lok katha In hindi, Dharmik Hindi katha, Dant Katha in Hindi, हिंदी धार्मिक कथा, Motivational Concept, Dharm
यह सुनकर युवा साधु ने कहा, ‘‘क्षमा करें। वास्तव में आपने मुझे साधना का एक और तरीका बता दिया। मैं भी अब इस तरह से अभ्यास करने का प्रयत्न करूंगा।’’
 

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!