सावन के प्रथम सोमवार गैवीनाथ धाम में उमड़ा भक्तों का जन सैलाब

Edited By Jyoti,Updated: 18 Jul, 2022 04:21 PM

gaivinath shiv temple madhya pradesh

मध्याप्रदेश, सतना: श्रावण मास की शुरुआत के पहले सोमवार को सतना जिले के बिरसिंहपुर स्थित गैवीनाथ धाम में श्रद्धालुओं का रेला उमड़ पड़ा। पंजाब केसरी के संवाददाता रवि शंकर द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार शिवलिंग कर जलाभिषेक

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
गैवी के मिट्टी के चूल्हे से शिवलिंग रूप में प्रकट हुए थे महादेव
महाकाल के उपलिंग के नाम से भी जाने जाते हैं गैवीनाथ बाबा 
मध्याप्रदेश, सतना: श्रावण मास की शुरुआत के पहले सोमवार को सतना जिले के बिरसिंहपुर स्थित गैवीनाथ धाम में श्रद्धालुओं का रेला उमड़ पड़ा। पंजाब केसरी के संवाददाता रवि शंकर द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार शिवलिंग कर जलाभिषेक और पुष्पार्पण के लिए भक्तों में होड़ लगी रही। बता दें कि गैवीनाथ धाम पर लाखों लाख श्रद्धालुओं की आस्था है।
PunjabKesari Gaivinath Shiv Temple, Gaivinath Shiv Temple Satna, Gaivinath Shiv Temple Mp Satna, गैवीनाथ धाम, गैवीनाथ धाम सतना, गैवीनाथ धाम मध्यप्रदेश, Gaivinath Shiv Temple Lake, Dharmik Sthal, Religious Sthal, Hindu Teerth Sthal, Dharm, Punjab Kesari
यहां की प्रचलित मान्यताओं के अनुसार भोलेनाथ यहां मिट्टी के चूल्हे से शिवलिंग के रूप में अवतरित हुए थे। बताया जाता है कि 16 वीं शताब्दी में औरंगजेब ने इस शिवलिंग पर कई वार किए थे तब भोलेनाथ ने उसको न केवल सबक सिखाया, बल्कि घुटने टेकने पर भी मज़बूर कर दिया था। बता दें यहां प्रत्येक सोमवार गैवीनाथ के अभिषेक के लिए श्रद्धालुओं की अटूट भीड़ उमड़ती है, मगर महाशिवरात्रि और श्रावण मास का मेला देखते ही बनता है। 
PunjabKesari Gaivinath Shiv Temple, Gaivinath Shiv Temple Satna, Gaivinath Shiv Temple Mp Satna, गैवीनाथ धाम, गैवीनाथ धाम सतना, गैवीनाथ धाम मध्यप्रदेश, Gaivinath Shiv Temple Lake, Dharmik Sthal, Religious Sthal, Hindu Teerth Sthal, Dharm, Punjab Kesari
उत्तराखंड के चारों धाम की यात्रा के बाद गंगोत्री के जल को गैवीनाथ शिवलिंग पर चढ़ाने का विशेष महत्व है। प्रचलित किवदंती के अनुसार प्राचीन समय में यहां देवपुर नामक नगरी हुआ करती थी। जिसके राजा थे वीरसिंह। राजा वीर सिंह उज्जैन महाकाल के अनन्य भक्त थे। वह रोजाना यहां से उज्जैन जाकर महाकाल के दर्शन करते थे। जब राजा वृद्ध हो गए तो वो उज्जैन जाने में असमर्थ रहने लगे।

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं । अपनी जन्म तिथि अपने नाम , जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर वाट्स ऐप करें

PunjabKesari

इस पर उन्होंने महाकाल से बिरसिंहपुर आने की प्रार्थना की। महाकाल उनकी भक्ति से इतने अभिभूत हुए कि वो बिरसिंहपुर में गैवीनाथ के घर शिवलिंग के रूप में प्रकट हो गए। वर्तमान समय में गैवीनाथ धाम अटूट श्रद्धा का केंद्र है। लोग बड़ी संख्या में यहां मनौती लेकर आते हैं। मन्नत पूरी होने पर श्रद्धालु शिव और पार्वती का गठबंधन करते हैं। एक छोर से दूसरे छोर तक विशाल तालाब के ऊपर से शंकर-पार्वती का गठबंधन किया जाता है। सावन में यहां भक्तों का रेला उमड़ पड़ता है शिवलिंग पर जल और बिल्वपत्र चढ़ाने के लिए लोगों में होड़ मची दिखाई देती है। 
PunjabKesari Gaivinath Shiv Temple, Gaivinath Shiv Temple Satna, Gaivinath Shiv Temple Mp Satna, गैवीनाथ धाम, गैवीनाथ धाम सतना, गैवीनाथ धाम मध्यप्रदेश, Gaivinath Shiv Temple Lake, Dharmik Sthal, Religious Sthal, Hindu Teerth Sthal, Dharm, Punjab Kesari

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!