Hariyali Teej 2022: आप भी जरूर पढ़ें, हरियाली तीज से जुड़ी ये जानकारी

Edited By Niyati Bhandari,Updated: 30 Jul, 2022 08:32 AM

hariyali teej

सावन के महीने में शुक्ल पक्ष की तृतीया को मनाया जाने वाला हरियाली तीज का पर्व सुहागिन महिलाओं के लिए विशेष महत्व रखता है। इस दिन वे सोलह शृंगार कर अपने पति की लम्बी उम्र व अच्छे सौभाग्य के लिए भगवान शिव और माता पार्वती

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Hariyali Teej 2022: सावन के महीने में शुक्ल पक्ष की तृतीया को मनाया जाने वाला हरियाली तीज का पर्व सुहागिन महिलाओं के लिए विशेष महत्व रखता है। इस दिन वे सोलह शृंगार कर अपने पति की लम्बी उम्र व अच्छे सौभाग्य के लिए भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा करते हुए व्रत रखती हैं। यह दिन भगवान शिव और पार्वती मां के मिलन से जुड़ा है। कहा जाता है कि मां पार्वती ने शिव को पति रूप में पाने के लिए 107 बार जन्म लिया पर वे उन्हें पा नहीं सकीं। 108वीं बार उन्होंने पर्वतराज हिमालय के घर में जन्म लिया तथा महादेव को वर रूप में पाने के लिए घोर तपस्या की तथा पूर्ण रूप से अन्न-जल त्याग दिया।

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं। अपनी जन्म तिथि अपने नाम, जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर व्हाट्सएप करें

PunjabKesari Hariyali Teej

कई मुश्किलों के पश्चात भी वह तप में लीन रहीं। जंगल में एक गुफा के भीतर पूरी आस्था के साथ उन्होंने सावन के महीने में शुक्ल पक्ष की तृतीया को रेत से एक शिवलिंग का निर्माण कर विधिपूर्वक उसकी पूजा की। इससे खुश होकर शिवजी ने पार्वती जी को पत्नी रूप में स्वीकार किया।

सावन में पूरी सृष्टि अद्भुत सौंदर्य में लिपटी दिखाई देती है और चारों ओर मन को मोह लेने वाला वातावरण विद्यमान रहता है। प्रकृति हरियाली की चादर में लिपटी होने के कारण ही यह पर्व हरियाली तीज के नाम से जाना जाता है।

PunjabKesari Hariyali Teej

तीज से एक दिन पहले नवविवाहित लड़कियां अपने मायके चली जाती हैं और तब उनकी ससुराल की तरफ से सिंधारा भेजा जाता है जिसमें फल, मेवा, कपड़े, मिठाई और शृंगार का सामान होता है। विशेष रूप से घेवर और फेनी नामक मिठाई के साथ गुझिया भी भेजी जाती है। जो महिलाएं व्रत रखती हैं वे बया निकाल कर रख लेती हैं और अपनी ससुराल में किसी भी बड़ी महिला सास, ननद या जेठानी को दे सकती है।

PunjabKesari Hariyali Teej

जिस घर में कोई बड़ा न हो तो यह सामग्री किसी मंदिर के पंडित को दी जा सकती है। कुछ समय पहले तक लड़कियां अपनी सहेलियों के साथ मिलकर तीज के अवसर पर मेहंदी लगाती और झूला झूलती थीं, सावन के गीत गाती थीं : ‘चन्दन पटरी घडायो राजा, बाबुल अंगना में झूला डलाओ रे।’

सावन में झूला झूलने की परम्परा सदियों पुरानी है और अमृत के समान बरसते पानी में भीग जाने पर कई रोगों का नाश होता है।
भारतीय गांवों आदि में आज भी यह प्रथा चलन में है लेकिन शहरों में तीज को लेकर काफी बदलाव आया है। तीज मनाने का तरीका बेशक बदल गया हो पर उद्देश्य तो पति की लम्बी उम्र की कामना और सौभाग्य से ही जुड़ा है।

ब्रज में तीज पर्व कुंवारी लड़कियों का त्यौहार है जबकि राजस्थान में कुंवारी और सुहागिनों का महत्वपूर्ण उत्सव है।

PunjabKesari Hariyali Teej
कई क्षेत्रों में तरह-तरह के पकवान बनाए जाते हैं और विवाहित बेटी और दामाद को विशेष आमंत्रण भेज कर बुलाया जाता है। सावन के पश्चात बेटी को घेवर और फेनी मीठे के रूप में देकर विदा किया जाता है।

सौभाग्य का प्रतीक तीज का त्यौहार अपने साथ रंगों की बहार, गीतों की गुनगुनाहट और विभिन्न मिठाइयों का स्वाद लेकर आता है। विवाहित लड़कियां अपनी शादी के पहले सावन पर मायके जाने का बेसब्री से इंतजार करती हैं और गीत गाती हैं :
‘अब के बरस भेज भाई को बाबुल,
सावन में लीजो बुलाय रे,
लौटेंगी जब बचपन की सखियां,
दीजो संदेसा भिजाय रे।’

हरियाली तीज 2022 शुभ मुहूर्त
तृतीया तिथि का प्रारम्भ 31 जुलाई को 02:59 ए एम से होगा और समापन 1 अगस्त को 04:18 ए एम बजे रहेगा।

PunjabKesari kundli

 

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!