अप्रैल-अगस्त में 17.5 प्रतिशत बढ़ा डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन

  • अप्रैल-अगस्त में 17.5 प्रतिशत बढ़ा डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन
You Are HereBusiness
Tuesday, September 12, 2017-9:51 AM

नई दिल्लीः चालू वित्त वर्ष के शुरुआती 5 महीनों के दौरान डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन 17.5 फीसदी बढ़कर 2.24 लाख करोड़ रुपए तक पहुंच गया। इसकी मुख्य वजह इंडिविजुअल्स द्वारा जमा किया गया इनकम टैक्स रहा। यह बजट में वित्त वर्ष के लिए डायरेक्ट टैक्सेस के कुल इस्टीमेट का 22.9 फीसदी है, जिसमें पर्सनल इनकम और कॉरपोरेट टैक्स शामिल हैं। सरकार को मौजूदा वित्त वर्ष में डायरेक्ट टैक्स से 9.80 लाख करोड़ रुपए मिलने का अनुमान है।

वित्त मंत्रालय ने एक बयान में कहा, अगस्त 2017 तक डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन में अच्छी ग्रोथ दर्ज की गई है। डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन, नेट रिफंड्स 2.24 लाख करोड़ रुपए रहा, जो बीते साल की समान अवधि की तुलना में 17.5 फीसदी ज्यादा है। ग्रास रेवेन्यू कलेक्शन की बात करें तो पर्सनल इनकम टैक्स कलेक्शन (सिक्युरिटी ट्रांजैक्शन टैक्स) 16 फीसदी बढ़ी है, वहीं कॉरपोरेट टैक्स 5 फीसदी बढ़ा है।
PunjabKesari
18 फीसदी बढ़ा कॉरपोरेट टैक्स कलेक्शन  
अप्रैल-अगस्त 2017 के दौरान 74,089 करोड़ रुपए के रिफंड जारी किए गए, जो बीते साल की समान अवधि की तुलना में 7.2 फीसदी कम है। रिफंड्स एडजस्ट करने के बाद कॉरपोरेट टैक्स कलेक्शन में कुल 18.1 फीसदी की ग्रोथ रही, जबकि इनकम टैक्स कलेक्शन में 16.5 फीसदी की ग्रोथ रही। वहीं 2016-17 में अप्रैल-अगस्त के दौरान डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन 15.03 फीसदी बढ़कर 1.89 लाख करोड़ रुपए रहा था। 
 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You