Monday special: आज करें ये अचूक उपाय, भोले बाबा देंगे खुशियों की संपत्ती और मन की शांति

Edited By Niyati Bhandari, Updated: 23 May, 2022 08:46 AM

monday special

सोमवार का दिन भगवान शंकर और चंद्र देव से जुड़ा हुआ माना जाता है। कुंडली में अगर शनि की साढ़ेसाती और चंद्र अगर शनि राहु और केतु के साथ युति बनाएं और इन्हीं तीन ग्रहों की महादशा भी चल रही हो

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Monday special: सोमवार का दिन भगवान शंकर और चंद्र देव से जुड़ा हुआ माना जाता है। कुंडली में अगर शनि की साढ़ेसाती और चंद्र अगर शनि राहु और केतु के साथ युति बनाएं और इन्हीं तीन ग्रहों की महादशा भी चल रही हो, चंद्र शत्रु घर में बैठ जाएं तो ऐसे में चंद्र पीड़ित हो जाते हैं। ऐसे लोग छोटी-छोटी बातों से दुखी होते हैं, खुद को दुनिया में अकेला पाते है और कोई भी सुख इन्हें जल्दी प्राप्त नहीं होता। चाहे इनके पास सब कुछ हो तब भी इन्हें उसकी अनुभूति नहीं होती।

 PunjabKesari Monday special

पौराणिक कथा के अनुसार राजा दक्ष जो चंद्रदेव के ससुर हैं, उन्होंने उन्हें श्राप दिया था। राजा दक्ष की 27 पुत्रियां जो 27 नक्षत्र हैं उनसे चंद्रदेव का विवाह हुआ था लेकिन चंद्रदेव रोहिणी नक्षत्र के नाम की पत्नी से ज्यादा प्रेम करते थे इसलिए बाकि 26 पुत्रियों ने इसके बारे में अपने पिता दक्ष को बताया तो उन्होंने चंद्रदेव को श्राप दे दिया। जिससे उनका रुप समाप्त होने लगा और वो धीरे-धीरे काले पड़ने लगे लेकिन जैसे ही चंददेव बिल्कुल अदृश्य होने वाले थे तो भगवान शंकर ने उन्हें वरदान दिया की मैं श्राप को खत्म तो नहीं कर सकता लेकिन आप 15 दिन कम होते चले जाऐंगे और 15 दिन बढ़ते चले जाऐंगे। जिसे कृष्ण षक्ष और शुक्ल पक्ष कहा जाता है और अमावस्या पर चंद्रदेव आसमान में दिखाई नहीं देते और पूर्णिमा पर उनकी अमृत तुल्य प्रकाश पृथ्वी पर पड़ता है। चंद्रदेव को भगवान शंकर ने अपने मस्तक पर विराजमान करके उन्हें दिर्घायु कर दिया और उनकी शोभा बढ़ाई इसलिए हमे भी सोमवार को भगवान शिव की अराधना करनी चाहिए। जिससे हमारे जीवन के सभी दुख नष्ट हो जाएं।

PunjabKesari shiv ji chand
Shiva Mantra आज करें यह उपाय
इस दिन व्रत रखना भी शुभ होता है। शिव मंदिर में चावल, मिश्री, मीठा दूध, शहद, चांदी का पत्तर, सफेद फूल और चांदी का चंद्रमा चढ़ांएं। उसके बाद उत्तर मुखी होकर ये मंत्र पढ़ें
ऊँ नमः शिवाय
ऊँ ह्रीं ह्रौं नमः शिवाय
ऊँ तत्पुरूषाय विदमहे महादेवाय धीमहि तन्नों रुपः प्रचोदयात:
ऊँ सोम सोमाय नमः

इन मंत्रों का कम से कम 21 बार जाप अवश्य करें, आपकी मनोकामना अवश्य पूर्ण होगी।

आशू मल्होत्रा
ashumalhotra629@gmail.com     
 

PunjabKesari Monday special

Trending Topics

India

179/5

20.0

South Africa

131/10

19.1

India win by 48 runs

RR 8.95
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!