शाह बोले- मेक इन इंडिया, आत्मनिर्भर भारत महात्मा गांधी के स्वदेशी आंदोलन की नई परिभाषाएं

Edited By Seema Sharma,Updated: 30 Jan, 2022 04:06 PM

make in india new definitions of gandhi swadeshi movement shah

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने रविवार को कहा कि ‘मेक इन इंडिया'', ‘आत्मनिर्भर भारत'' और ‘वोकल फॉर लोकल'' जैसी केंद्र सरकार की योजनाएं महात्मा गांधी द्वारा चलाए गए ‘‘स्वदेशी'''' आंदोलन की नई परिभाषाएं हैं।

नेशनल डेस्क: केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने रविवार को कहा कि ‘मेक इन इंडिया', ‘आत्मनिर्भर भारत' और ‘वोकल फॉर लोकल' जैसी केंद्र सरकार की योजनाएं महात्मा गांधी द्वारा चलाए गए ‘‘स्वदेशी'' आंदोलन की नई परिभाषाएं हैं। उन्होंने कहा कि नए भारत के निर्माण के लिए महात्मा गांधी द्वारा आगे बढ़ाए गए विचारों को आजादी हासिल करने के बाद कई सालों तक भुला दिया गया था, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें एक नई जिंदगी दी। शाह महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर उनके भित्तिचित्र का अनावरण करने के लिए अहमदाबाद आए थे।

 

गांधी की पुण्यतिथि को शहीद दिवस के रूप में मनाया जाता है। खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग (केवाईआईसी) द्वारा लगाया गया भिति चित्र साबरमती नदी के तट पर एक दीवार को सुशोभित करता है। उसे देश के विभिन्न हिस्सों से लाए गए कलाकारों ने 2975 मिट्टी के बर्तनों की मदद से 100 वर्गमीटर की एल्यूमीनियम प्लेट पर बनाया है। इन कलाकारों को यहां प्रशिक्षण दिया गया था। शाह ने कहा, ‘‘ महात्मा गांधी ने बस देश की स्वतंत्रता की खातिर लड़ाई नहीं लड़ी, बल्कि उन्होंने आजादी मिलने के बाद स्वदेशी, सत्याग्रह, स्वभाषा, साधन शुद्धि, अपरिग्रह, प्रार्थना, उपवास और सादगी के माध्यम से देश के पुनर्निर्माण के तरीके भी सुझाए थे। '' उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी ने अंग्रेजों से संघर्ष के दौरान नागरिकों की चेतना में इन विचारों को भरा, ताकि आजादी हासिल होने के बाद देश के पुनर्निर्माण के लिए आधार बनाया जाए।

 

गृह मंत्री ने कहा कि दुर्भाग्य से कई सालों तक बापू के फोटो पर श्रद्धांजलि दी गई तथा भाषणों में उनका जिक्र किया गया लेकिन खादी, हस्तकरघा, स्वभाषा एवं स्वदेशी के उपयोग को भुला दिया गया। प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी ने बापू के इन विचारों को एक नई जिंदगी दी। शाह ने कहा कि आत्मनिर्भरता के माध्यम से भारत के आर्थिक उत्थान, उसे वैश्विक विनिर्माण केंद्र बनाने की अवधारणा एवं 130 करोड़ भारतीयों से स्वदेशी उत्पादों के उपयोग की अपील --ये तीनों विचार बापू के स्वेदशी (आंदोलन) से उपजे हैं।'' शाह ने कहा कि खादी के उपयोग के नवीनीकरण की मोदी की कोशिश से केवीआईसी को 95000 करोड़ रुपए का टर्नओवर हासिल करने में मदद मिली है। उन्होंने गुजरत के लोगों से खादी के कपड़ों का इस्तेमाल करने की अपील भी की। उन्होंने कहा कि खादी के उपयोग के पीछे गांधी द्वारा रखे गए विचार आज भी प्रासंगिक हैं। शाह ने कहा कि नयी शिक्षा नीति में ‘स्वभाषा' पर जोर दिया गया है।

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!