धन-दौलत से घर भरने का दिन है दीपावली, शुभ मुहूर्त में करें पूजा

  • धन-दौलत से घर भरने का दिन है दीपावली, शुभ मुहूर्त में करें पूजा
You Are HereLent and Festival
Sunday, October 30, 2016-7:28 AM

शास्त्रनुसार दीपावली पर्व पर देवी महालक्ष्मी का पूजन कार्तिक कृ्ष्ण पक्ष की अमावस्या में प्रदोष काल में करने का विधान है। इसके साथ ही ज्योतिषशास्त्र के महूर्त खंड अनुसार दीपावली पर लक्ष्मी का आवाहन और पूजन स्थिर लग्न में करना श्रेष्ठ माना गया है। धन की देवी महालक्ष्मी का आशिर्वाद पाने हेतु दीपावली पूजन विशेष रुप से शुभ माना जाता है। धन की अधिष्ठात्री देवी महालक्ष्मी का पूजन प्रदोष काल (संध्या) में करना चाहिए। लक्ष्मी उपासना का यही मुख्य समय माना गया है। अमावस्या अंधकार की रात्रि है। अमावस्या अंधकार की रात्रि है। माता लक्ष्मी को समस्त संसार व चराचर को आलौकिक करने वाली देवी माना गया है। अतः संध्या काल में दीप प्रज्ज्वलित कर लक्ष्मी पूजन करने का उत्तम समय है।  

 

रविवार दिनांक 30.10.16 को दिपावली पर्व मनाया जाएगा। इस दिन प्रातः 09 बजकर 03 मिनट तक चित्रा नक्षत्र रहेगा इसके बाद अगले दिन सुबह तक स्वाती नक्षत्र है। इस दिन प्रीति योग रहेगा तथा चन्दमा तुला राशि में गोचर करेगा। अमावस्या तिथि रात 23 बजकर 08 मिनट तक रहेगी। दीपावली में अमावस्या तिथि, प्रदोष काल, शुभ लग्न व चौघाडिया मुहूर्त विशेष महत्व रखते हैं। दिपावली व्यापारियों, क्रय-विक्रय करने वालों के लिए विशेष रुप से शुभ मानी जाती है। दीपावली पर राजधानी क्षेत्र दिल्ली में सूर्यास्त 17:33 पर रहेगा अतः शाम 5 बजकर 33 से रात 08 बजकर 22 मिनट तक प्रदोष काल रहेगा। प्रदोष काल व स्थिर लग्न दोनों तथा इसके साथ शुभ चौघडिया भी रहने से मुहुर्त की शुभता में वृद्धि होती है। धनलक्ष्मी का पूजन व आहवाहन, गल्ले की पूजा तथा हवन इत्यादि कार्य सम्पूर्ण करना चाहिए। इसके अतिरिक्त समय का प्रयोग श्री महालक्ष्मी पूजन, महाकाली पूजन, लेखनी, कुबेर पूजन, अन्य मंत्रों का जपानुष्ठान करना चाहिए।


दीपावली पूजन विशेष मुहूर्त
वृश्चिक लग्न युक्त प्रातः कालीन महूर्त: प्रातः 09 बजकर 03 मिनट से प्रत 10 बजकर 13 मिनट तक रहेगा।

दिवस कालीन महूर्त: दोपहर 01 बजकर 27 मिनट से 02 बजकर 49 मिनट तक रहेगा।

श्रेष्ठ प्रदोष काल महूर्त: शाम 5:33 से रात 08 बजकर 22 मिनट तक है।

शुभ चौघड़िया महूर्त: शाम 5 बजकर 33 मिनट से रात 07 बजकर 11 मिनट तक रहेगा।

अमृत चौघड़िया महूर्त: शाम 7 बजकर 11 मिनट से रात 08 बजकर 49 मिनट तक रहेगा।

चंचल चौघड़िया महूर्त: 08 बजकर 49 मिनट से रात 10 बजकर 27 मिनट तक रहेगा।

सर्वश्रेष्ठ वृषभ लग्न महूर्त: शाम 06 बजकर 27 मिनट से रात 08 बजकर 22 मिनट तक है। 

अमावस्या रहित सिंह लग्न महूर्त: दिनांक 31.10.16 रात 12 बजकर 57 मिनट से रात 3 बजकर 17 मिनट तक रहेगा।

दीपावली का सर्वश्रेष्ठ महूर्त: शाम 06 बजकर 27 मिनट से शाम 06 बजकर 39 मिनट तक। इसी समय वृषभ लग्न, गुरु की होरा, शुभ चौघड़िया के साथ साथ प्रदोश काल युक्त अमावस्या तिथि रहेगी।

आचार्य कमल नंदलाल
ईमेल: kamal.nandlal@gmail.com

Edited by:Aacharya Kamal Nandlal

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You