आपके घर में भी हो रही हैं ऐसी घटनाएं, कुछ कहना चाहते हैं प‌ितर

  • आपके घर में भी हो रही हैं ऐसी घटनाएं, कुछ कहना चाहते हैं प‌ितर
You Are HereJyotish
Tuesday, September 20, 2016-12:38 PM

श्राद्ध के प्रथम दिन से लेकर अमावस्या तिथि तक प‌ितृ धरती पर रहते हैं। इन दिनों कुछ ऐसी घटनाएं होने लगें तो समझ जाएं पितर आपके ईर्द-गिर्द हैं और कुछ कहना चाहते हैं...

* स्वप्न में पूर्वजों का आना।

* स्वप्न में सांप दिखना।

* महसूस होना की आस-पास कोई है।

* रात को बर्तनों का अकस्मात ग‌िरना।

* पारिवारिक सदस्यों का अकस्मात रोग ग्रस्त हो जाना।


जिन जातकों की जन्मपत्री में सूर्य-शनि की युति या दृष्टि होने तथा जन्मपत्री के द्वितीय, पंचम या नवम भाव में राहू विराजमान हो वह जातक पितर दोष से पीड़ित होता है।  भ्रूण हत्या करने वाले, ब्राह्मण की हत्या, विधवा, विकलांग, अनाथ की भूमि पर अवैध कब्जा करने वाले, बुजुर्गों एवं माता-पिता का अपमान करने वाले भयंकर पितर दोष से पीड़ित होते हैं। ऐसे लोगों को सात जन्मों तक नरक भोगना पड़ता है और उनके पितर हमेशा दु:खी व अशान्त रहते हैं।


पितर दोष हो तो देवता-ग्रह भी काम नहीं करते। लकवा, कैंसर और सिर दर्द जैसे रोग उत्पन्न होते हैं। गृह-क्लेश, विवाह-सन्तान, मकान, व्यापार-नौकरी में तनाव उत्पन्न होकर काम अंतिम क्षण में बदल जाता है। पितर दोष मनुष्य के वर्तमान जीवन की सफलता-असफलता में अपना अदृश्य प्रभाव निश्चित रूप से डालते हैं। व्यक्ति पर पितरों का ऋण हो तो वह आगे नहीं बढ़ सकता तथा उसका जीवन ग्रहण लगकर प्रकाशहीन हो जाता है। कलंक, घोर संकट एवं असाध्य बीमारी एवं कभी-कभी अकाल मृत्यु का कारण भी बन जाता है।


उपाय
प्रसिद्ध तीर्थ-स्थान च्यवन ऋषि की तपस्यास्थली ढोसी नजदीक नारनौल (हरियाणा), गया जी (बिहार), संगम (इलाहाबाद), हरिद्वार में पितरों के नाम से गंगा-स्नान करके धूप, दीपक जलाएं। हाथ में चावल, पुष्प, जल व दक्षिणा लेकर संकल्प करें और गणेश पूजन, विष्णु, पीपल का पूजन करें।


पीपल को जल चढ़ाएं, पंचामृत चढ़ाकर गंगाजल से स्नान कराएं, मौली लपेटें, जनेऊ अर्पण करके,  धूप-दीप, नैवेद्य, खीर, इमरती का भोग लगाएं। फल चढ़ा कर दक्षिणा अर्पण कर नमस्कार करें। इसके बाद खड़े होकर पीपल पर सूत लपेटते हुए सर्व पितर दोष निवारण मन्त्र का जाप करते हुए परिक्रमा करें और अपने पितरों को हृदय से नमस्कार करें।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You