आज के दिन श्राद्ध के साथ करें ये सरल उपाय होगी शुभ फलों की प्राप्ति

  • आज के दिन श्राद्ध के साथ करें ये सरल उपाय होगी  शुभ फलों की प्राप्ति
You Are HereMantra Bhajan Arti
Friday, September 30, 2016-11:41 AM

श्राद्ध पक्ष में अमावस्या का बड़ा महत्व है। आज सर्वपितृ अमावस्या है। इस दिन उन लोगों का श्राद्ध किया जाता है, जिनकी पिंडदान या तर्पण द्वारा संतुष्टि न की गई हो। इसके अतिरिक्त जिनकी स्वर्गवास तिथि याद नहीं होती उनका भी श्राद्ध इसी दिन किया जाता है। ज्योतिष के अनुसार इस दिन पितरों को संतुष्ट करने से दुर्भाग्य सौभाग्य में बदल जाता है। इस दिन श्राद्ध के साथ कुछ उपाय करने से अमोघ फल की प्राप्ति होती है। पितरों के आशीर्वाद से व्यक्ति बहुत तरक्की करता है।


* कुंडली में खराब चल रहे शनि, राहू अौर केतु के दोष दूर करने के लिए पीपल पर जल अर्पित करके उसकी सात बार परिक्रमा करें।



*  अमावस्या की तिथि पितरों के लिए विशेष होती है। इस दिन पितरों के नाम पर किसी गरीब को दूध का दान करें। 



*  संपूर्ण बिगड़े कार्यों को बनाने हेतु इस दिन पूर्वजों के नाम गाय, ब्राह्मण या जरुरतमंद भिखारी को भोजन खिलाएं। 



* अमावस्या के दिन किसी मंदिर में अनाज का दान करें।



* भगवान विष्णु के मंदिर में ध्वज चढ़ाएं। ऐसा करने से श्रीविष्णु के साथ मां लक्ष्मी की भी कृपा प्राप्त होती है। 



* इस दिन पीपल के वृक्ष की पूजा करें। पीपल पर जनेऊ व अन्य पूजा सामग्री अर्पित करें। पूजा के पश्चात ॐ नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का जाप करें। इस उपाय से भगवान विष्णु की कृपा से घर की प्रत्येक चिंताअों से मुक्ति मिलती है। इसके साथ ही धन, सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है। 



* शनि दोष से ग्रसित व्यक्ति अमावस्या पर तेल, काली उदड़, काले तिल, लोहा, काले वस्त्र, काले जूते, आदि का दान करें। ऐसा करने से शनि के नकारात्मक प्रभावों में कमी आती है। 



अमावस्या को भूल कर भी ये कार्य न करें
अमावस्या के दिन तुलसी के पत्ते या बिल्व पत्र न तोड़े। यदि पूजा के लिए तुलसी या बिल्व पत्र चाहिए हों तो उन्हें एक दिन पूर्व ही तोड़ लेना चाहिए। पुराने पत्तों को धोकर भी प्रयोग कर सकते हैं।



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You