कभी शिमला के ‘द रिट्रीट’ में जाने से रोके गए थे कोविंद

  • कभी शिमला के ‘द रिट्रीट’ में जाने से रोके गए थे कोविंद
You Are HereNational
Tuesday, June 20, 2017-2:37 PM

नई दिल्ली: सोमवार को राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के तौर पर एनडीए ने बिहार के मौजूदा राज्यपाल रामनाथ कोविंद उनके नाम की घोषणा की। जिसके बाद कोविंद को लेकर कई बातें सामने आई इससे पहले बहुत से लोग उनके बारे में कुछ खास नहीं जानते थे। जानकारी के अनुसार एक महीने पहले शिमला स्थित भारत के राष्ट्रपति के आधिकारिक निवास ‘द रिट्रीट’ में उन्हे घुसने नहीं दिया गया था।

परिवार सहित लौटे थे बैरंग
सुरक्षा अधिकारियों ने उनसे कहा था कि कोविंद के पास राष्ट्रपति के दफ्तर से जरूरी मंजूरी नहीं है।  30 मई को कोविंद और उनका परिवार ‘द रिट्रीट’ के दरवाजे से वापस लौट आए था। हिमाचल के गवर्नर आचार्य देवव्रत उनके अच्छे दोस्त हैं। दोनों को एक ही दिन गवर्नर नियुक्त किया गया था। कोविंद शिमला में रहने के दौरान घूमने वाली जगहों के बारे में ठीक से नहीं जानते थे, इसलिए हिमाचल के गवर्नर के सलाहकार शशिकांत शर्मा ने उन्हें ‘द रिट्रीट’ जाने की सलाह दी।

शर्मा ने बताया कि मैंने उन्हें फॉरेस्ट एरिया घूमने की सलाह दी थी। मुझे लगता था कि उन्हें ‘द रिट्रीट’ जाने का मौका नहीं मिलेगा। हालांकि, बाद में वह वहां गए और उन्हें गेट से लौटना पड़ा। ‘द रिट्रीट’ हिमाचल के मशोबरा में स्थित है, जिसे वर्ष 1850 में बनाया गया था। वर्ष 1895 में यह ब्रिटिश अफसरों के पास आ गया। भारतीय राष्ट्रपति साल में एक बार द रिट्रीट जरूर जाते हैं और पूरा ऑफिस इस दौरान वहीं रहता है। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You