Chinnamasta Jayanti: आईए जानें, मां के अजब-गजब स्वरूप की कथा

Edited By Niyati Bhandari, Updated: 16 May, 2022 10:41 AM

chinnamasta jayanti in this direction do worship

आज 16 मई, सोमवार को दश महाविद्याओं में से छठी महाविद्या श्री छिन्नमस्तिका जी की जयंती है। छिन्नमस्ता का अर्थ है छिन्न मस्तक वाली देवी। छिन्नमस्ता की गणना काली कुल में की जाती है। छिन्नमस्ता महाविद्या का

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Maa Chinnamasta Jayanti 2022: आज 16 मई, सोमवार को दश महाविद्याओं में से छठी महाविद्या श्री छिन्नमस्तिका जी की जयंती है। छिन्नमस्ता का अर्थ है छिन्न मस्तक वाली देवी। छिन्नमस्ता की गणना काली कुल में की जाती है। छिन्नमस्ता महाविद्या का संबंध महाप्रलय से है। महाप्रलय का ज्ञान कराने वाली यह महाविद्या भगवती का ही रौद्र रूप हैं।
 
PunjabKesari Maa Chinnamasta Jayanti 2020

कालितंत्रम् के अनुसार एक समय में देवी पार्वती अपनी सहचरी जया व विजया के साथ श्री मन्दाकिनी नदी में स्नान करने गई वहां कामाग्नि से पीड़ित वह कृष्णवर्ण की हो गई तदुपरांत जया व विजया ने उनसे भोजन मांगा क्योंकि वे बहुत भूखी थी, देवी ने उन्हें प्रतीक्षा करने को कहा परंतु सहचरियों ने बार-बार देवी से भोजन की याचना की।
 
PunjabKesari Maa Chinnamasta Jayanti 2020
फिर देवी ने अपनी कटार से अपना सिर छेदन कर दिया, छिन्न सिर देवी के बाएं हाथ पर आ गिरा, उनके कबन्ध से रक्त की तीन धाराएं निकली। दो धाराएं उनकी सहचरी डाकिनी और वर्णिनी के मुख में गई तथा तीसरी धारा का छिन्न शिर से स्वयं पान करने लगी।
 
PunjabKesari Maa Chinnamasta Jayanti 2020

महर्षि याज्ञवल्क्य और परशुराम इस विद्या के उपासक थे। श्री मत्स्येन्द्र नाथ व गोरखनाथ भी इसी के उपासक रहे हैं। दैत्य हिरण्यकश्यप व वैरोचन भी इस शक्ति के एक निष्ठ साधक थे। अत: इन शक्ति को ‘वज्रवैरोचनीय भी कहते हैं। "वैरोचनीया कर्मफलेषु जुष्टाम्" तथागत बुद्ध भी इसी शक्ति के उपासक थे।
 
PunjabKesari Maa Chinnamasta Jayanti 2020
 
श्री छिन्नमस्ता का पीठ "चिन्तपूर्णी" नाम से विख्यात है। जिनके स्मरण मात्र से ही नर सदा शिव हो जाता है तथा पुत्र, धन, कवित्व, दीर्घ पाण्डित्य आदि ऐहिक विषयों की प्राप्ति होती है।
 
PunjabKesari Maa Chinnamasta Jayanti 2020

मार्केंड्य पुराण में बताई गई एक कथा के अनुसार, जब मां चंडी ने राक्षसों को घोर संग्राम में पराजित कर दिया तब उनकी दो योगिनियां जया और विजया युद्ध समाप्त होने के बाद भी रक्त की प्यासी थी।
 
PunjabKesari Maa Chinnamasta Jayanti 2020
 
उन्होंने मां से अग्रह किया की वो दोनों अभी भी बहुत भूखी हैं। मां ने उनकी भूख को शांत करने के लिए अपना सिर काट लिया और अपने खून से उन दोनों की प्यास बुझाई। तभी तो मां अपने काटे हुए सिर को अपने हाथो में पकड़े दिखाई देती हैं।
 
PunjabKesari Maa Chinnamasta Jayanti 2020
 
उनकी गर्दन की धमनियों से निकल रही रक्त की धाराएं  उनके दोनों तरफ खड़ी दो नग्न योगिनियां पी रही होती हैं।
 
PunjabKesari Maa Chinnamasta Jayanti 2020
 
छिन्नमस्ता का अर्थ है बिना सिर वाली देवी यानि एक लौकिक शक्ति। जो ईमानदार और समर्पित योगियों को उनका मन भंग करने में सहायता करती हैं।
 
PunjabKesari Maa Chinnamasta Jayanti 2020

 

Related Story

Trending Topics

Ireland

India

Match will be start at 28 Jun,2022 10:30 PM

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!