Market Astrology: बाजार में उठा-पटक नजर आएगी

Edited By Niyati Bhandari,Updated: 02 May, 2022 11:10 AM

market astrology

अप्रैल का महीना ग्रह गोचर के लिहाज से काफी सक्रियता वाला महीना रहा है और इस महीने में नया संवत शुरू होने के साथ-साथ सारे ग्रहों का गोचर हुआ है और इसके साथ ही सूर्य को ग्रहण भी महीने के आखिरी दिन लगा।

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Market Astrology: अप्रैल का महीना ग्रह गोचर के लिहाज से काफी सक्रियता वाला महीना रहा है और इस महीने में नया संवत शुरू होने के साथ-साथ सारे ग्रहों का गोचर हुआ है और इसके साथ ही सूर्य को ग्रहण भी महीने के आखिरी दिन लगा। मई महीने की शुरुआत रविवार के दिन हुई है और मई महीने में भी गुरु-शनि-राहु केतु को छोड़ कर सारे ग्रह सक्रिय रहेंगे। सूर्य, मंगल और शुक्र राशि परिवर्तन करेंगे तो बुध इस महीने वक्री हो जाएंगे। हालांकि महीने के पहले सप्ताह एस्ट्रो साईकल में कोई बड़ी गतिविधि नहीं है लेकिन फिर भी सूर्य ग्रहण का प्रभाव हमें दुनिया भर में नजर आएगा और इसका असर हमें बाज़ारों में भी देखने को मिलेगा। ज्योतिष में ट्रेड के कारक ग्रह बुध इस महीने 10 मई को वक्री होंगे जबकि सूर्य 14 मई को शुक्र की वृषभ राशि में गोचर करना शुरू करेंगे। 17 मई को मंगल और शनि की युति टूटेगी और मंगल शनि की कुंभ राशि को छोड़ कर अपने मित्र गुरु की मीन राशि में आ जाएंगे और गुरु के साथ युति करेंगे। 23 मई को शुक्र का राशि परिवर्तन होगा और शुक्र मंगल की मेष राशि में गोचर करना शुरू करेंगे। ग्रहों की इस चाल का निश्चित तौर पर बाजार पर असर देखने को मिलेगा 

अगले सप्ताह के बाजार के स्टार की बात करने से पहले आइए जानते कि पिछले सप्ताह बाजार को लेकर हमारी गणना कैसी रही है। 25 अप्रैल को चन्द्रमा के राहु के शतभिषा नक्षत्र में गोचर करने के कारण हमारी गणना बाजार में गिरावट की थी और बाजार इस दिन गिरावट के साथ बंद हुआ जबकि इसके अगले दिन 26 अप्रैल को चन्द्रमा के गुरु के पूर्व भाद्रपद नक्षत्र में रहने के कारण हमने बाज़ार में रिकवरी की गणना की थी और इस दिन बाजार में हरे निशान के साथ कारोबार हुआ। 27 अप्रैल को चन्द्रमा के शनि के उत्तर भाद्रपद नक्षत्र में रहने के कारण बाजार में सुस्ती के साथ कारोबार होने की गणना की थी और इस दिन बाजार में मंदी का पक्ष हावी रहा। इसी प्रकार 28 अप्रैल को चन्द्रमा के बुध के रेवती नक्षत्र में रहने के कारण हमारी गणना बाजार में मिलेजुले कारोबार और फाइनांस कंपनियों के शेयरों में तेजी की थी और इस दिन हमें बैंक निफ्टी में शानदार तेजी देखने को मिली। 29 अप्रैल को चन्द्रमा अश्वनी नक्षत्र में रहने के कारण हमने बाजार में मंदी के साथ कारोबार होने की गणना की थी और इस दिन बाजार पूरा दिन तेजी दिखाने के बाद अंत में गिरवाट के साथ बंद हुआ। 

आइए अब बात करते हैं अगले सप्ताह के बाजार के स्टार्स की। 2 मई को जब बाजार खुलेगा तो चन्द्रमा दोपहर तीन बजे तक सूर्य के कृतिका नक्षत्र में रहेंगे और सूर्य 30 अप्रैल को ही ग्रहण के प्रभाव से गुजरे हैं लिहाजा हमें इस का असर बाजार पर साफ़ नजर आएगा और शुक्रवार की गिरावट सोमवार को भी बाजार में जारी रह सकती है लिहाजा अभी लंबी अवधि में पोजीशन बनाने में जल्दबाज़ी न करें। बुध इसी महीने वक्री होंगे और बुध के वक्री रहने के दौरान जून मध्य तक बाजार साइड वेज कारोबार करता नजर आ सकता है। चन्द्रमा 2 मई को दोपहर तीन बजे अपने ही रोहिणी नक्षत्र में आ जाएंगे लिहाजा गिरावट और गहराने की आशंका है।  3 मई को चन्द्रमा पूरा दिन अपने ही रोहिणी नक्षत्र में रहेंगे जिस से बाजार में उतार-चढ़ाव बना रह सकता है जबकि 4 मई को चन्द्रमा के मंगल के मृगशिरा नक्षत्र में आने के बाद बाजार की स्थिति सुधरेगी और इस दिन बाजार निचले स्तर से रिकवरी करता हुआ नजर आएगा और मेटल शेयर इस दिन अच्छा कारोबार करेंगे। 5 मई को बाजार में एक्सपायरी के दिन चन्द्रमा राहु के आर्द्र नक्षत्र में रहेंगे लिहाजा हमें  बाजार में इस दिन भी उठा-पटक नजर आएगी और सामान्य धारणा बिकवाली की रह सकती है, इस दिन बाजार में कोई भी पोजीशन बनाने से बचना चाहिए। बाजार बंद होते समय यदि आप पोजीशन लेंगे तो उसका आपको 6 मई के दिन फायदा होगा क्योंकि चन्द्रमा इस दिन गुरु के पुनर्वसु नक्षत्र में आ जाएंगे और बैंकिंग से संबंधित शेयरों पर इस दिन फोकस बन सकता है।
 
नरेश कुमार
https://www.facebook.com/Astro-Naresh-115058279895728

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!