इस घाट का इतिहास कर देगा आपको हैरान

Edited By Jyoti,Updated: 25 Jun, 2022 11:21 AM

manikarnika mahashamshan ghat in hindi

हमारे देश में हिंदू धर्म से जुड़ी ऐसी कई जगहें जो रहस्यमयी तो हैं ही साथ ही साथ दिलचस्प व हैरान जनक भी हैं। इन्ही में से एक है काशी के 84 घाटों में सबसे चर्चित मणिकर्णिका घाट। बताया जाता है ये वही घाट है जहां 365 दिनों तक आग जलती रहती है। कहते हैं...

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
हमारे देश में हिंदू धर्म से जुड़ी ऐसी कई जगहें जो रहस्यमयी तो हैं ही साथ ही साथ दिलचस्प व हैरान जनक भी हैं। इन्ही में से एक है काशी के 84 घाटों में सबसे चर्चित मणिकर्णिका घाट। बताया जाता है ये वही घाट है जहां 365 दिनों तक आग जलती रहती है। कहते हैं यहां पर दाह संस्कार करवाने से व्यक्ति की आत्मा को मोक्ष की प्राप्ति होती है।

PunjabKesari काशी मणिकर्णिका घाट, Manikarnika Ghat, Manikarnika Mahashamshan Ghat, Kashi Manikarnika Ghat, History of Manikarnika, Manikarnika shamshan Ghat, Dharmik Place, Religious Story in Hindi, Dharm, Punjab Kesari

यही वजह है कि यहां पर रोजाना 200 से 300 शवों का अंतिम संस्कार होता है।आपको बता दें कि यहां पर शिवजी और मां दुर्गा का प्रसिद्ध मंदिर भी है, जिसका निर्माण मगध के राजा ने करवाया था। तो चलिए अब आपको बता दें कि इस घाट में ऐसा क्या है कि यहां दाह संस्कार करने से मोक्ष मिलता है।

PunjabKesari काशी मणिकर्णिका घाट, Manikarnika Ghat, Manikarnika Mahashamshan Ghat, Kashi Manikarnika Ghat, History of Manikarnika, Manikarnika shamshan Ghat, Dharmik Place, Religious Story in Hindi, Dharm, Punjab Kesari

हिंदुओं के लिए इस घाट को अंतिम संस्कार के लिए सबसे पवित्र माना जाता है। बताया जाता है कि मणिकर्णिका घाट को भगवान शिव ने अनंत शांति का वरदान दिया है। इस घाट की विशेषता है कि यहां चिता की आग कभी शांत नहीं होती है, यानी यहां हर समय किसी ना किसी का शवदाह हो रहा होता है। इस घाट को लेकर कई जनश्रुतियां हैं।

PunjabKesari काशी मणिकर्णिका घाट, Manikarnika Ghat, Manikarnika Mahashamshan Ghat, Kashi Manikarnika Ghat, History of Manikarnika, Manikarnika shamshan Ghat, Dharmik Place, Religious Story in Hindi, Dharm, Punjab Kesari

एक कथा के अनुसार यहां पर भगवान विष्णु ने हजारों वर्ष तक इसी घाट पर भगवान शिव की आराधना की थी। विष्णु जी ने शिवजी से वरदान मांगा कि सृष्टि के विनाश के समय भी काशी को नष्ट न किया जाए। भगवान शिव और माता पार्वती विष्णु जी की प्रार्थना से प्रसन्न होकर यहां आए थे। तभी से मान्यता है कि यहां मोक्ष की प्राप्ति होती है। तो वहीं ऐसा भी कहा जाता है कि भगवान विष्णु ने शिव-पार्वती के लिए यहां स्नान कुंड का निर्माण किया था।

PunjabKesari काशी मणिकर्णिका घाट, Manikarnika Ghat, Manikarnika Mahashamshan Ghat, Kashi Manikarnika Ghat, History of Manikarnika, Manikarnika shamshan Ghat, Dharmik Place, Religious Story in Hindi, Dharm, Punjab Kesari

जिसे लोग अब मणिकर्णिका कुंड के नाम से जानते हैं। स्नान के दौरान माता पार्वती का कर्ण फूल कुंड में गिर गया, जिसे महादेव ने ढूंढ कर निकाला। देवी पार्वती के कर्णफूल के नाम पर इस घाट का नाम मणिकर्णिका हुआ। इस घाट की एक और मान्यता है कि यहां भगवान शिव ने देवी सती के पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार इसी घाट पर किया था। जिस कारण से इसे महाश्मशान भी कहते हैं। मोक्ष की चाह रखने वाला इंसान जीवन के अंतिम पड़ाव में यहां आने की कामना करता है। तो वहीं इससे जुड़ी एक और हैरान कर देने वाली बात ये है कि यहां पर साल में एक दिन ऐसा भी होता है जब नगर बधु पैर में घुंघरू बांधकर यहां नृत्य करती हैं।

PunjabKesari काशी मणिकर्णिका घाट, Manikarnika Ghat, Manikarnika Mahashamshan Ghat, Kashi Manikarnika Ghat, History of Manikarnika, Manikarnika shamshan Ghat, Dharmik Place, Religious Story in Hindi, Dharm, Punjab Kesari

और ये कार्यक्रम चैत्र नवरात्र की सप्तमी की रात में होता है। महाश्मशान पर अनूठी साधना की परंपरा श्मशान नाथ महोत्सव का हिस्सा है। मौत के मातम के बीच वे नाचती-गाती हैं। और नाचते हुए वे ईश्वर से प्रार्थना करती हैं कि उनको अगले जन्म में ऐसा जीवन ना मिले। ये परंपरा अकबर काल में आमेर के राजा सवाई मान सिंह के समय से शुरू होकर अब तक चली आ रही है। मान सिंह ने ही 1585 में मणिकर्णिका घाट पर मंदिर का निर्माण करवाया था।

PunjabKesari काशी मणिकर्णिका घाट, Manikarnika Ghat, Manikarnika Mahashamshan Ghat, Kashi Manikarnika Ghat, History of Manikarnika, Manikarnika shamshan Ghat, Dharmik Place, Religious Story in Hindi, Dharm, Punjab Kesari

श्मशान नाथ उत्सव में महाश्मशान की वजह से जब कोई कलाकार संगीत का कार्यक्रम प्रस्तुत करने के लिए तैयार नहीं हुआ तो मानसिंह ने नगर वधुओं को आमंत्रण भेजकर बुलवाया। वे इसे स्वीकार कर पूरी रात महाश्मशान पर नृत्य करती रहीं। तब से यह उत्सव काशी की परंपरा का हिस्सा बन गया।

PunjabKesari काशी मणिकर्णिका घाट, Manikarnika Ghat, Manikarnika Mahashamshan Ghat, Kashi Manikarnika Ghat, History of Manikarnika, Manikarnika shamshan Ghat, Dharmik Place, Religious Story in Hindi, Dharm, Punjab Kesari

 

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!