Maha Navami: नवरात्रि के आखिरी दिन क्यों मनाई जाती है महानवमी, जानिए महत्व

Edited By Niyati Bhandari,Updated: 04 Oct, 2022 08:50 AM

maha navami

हिंदू धर्म और हमारे शास्त्रों में नवरात्रि का विशेष महत्व है और मां के भक्तों को बड़ी शिद्दत के साथ नवरात्रि का इंतजार रहता है। वैसे तो साल में 4 बार नवरात्रि पर्व आते हैं। जिनमें दो गुप्त नवरात्रि और दो प्रत्यक्ष

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Happy Maha Navami 2022: हिंदू धर्म और हमारे शास्त्रों में नवरात्रि का विशेष महत्व है और मां के भक्तों को बड़ी शिद्दत के साथ नवरात्रि का इंतजार रहता है। वैसे तो साल में 4 बार नवरात्रि पर्व आते हैं। जिनमें दो गुप्त नवरात्रि और दो प्रत्यक्ष नवरात्रि होती हैं लेकिन शारदीय नवरात्रि की हमारे शास्त्रों में विशेष महत्ता बताई गई है। इन 9 दिनों के दौरान देवी दुर्गा के अलग-अलग नौ रूपों की पूजा की जाती है। शारदीय नवरात्रि के दौरान महाअष्टमी के साथ-साथ महानवमी तिथि का विशेष महत्व माना जाता है।

PunjabKesari Maha Navami

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं। अपनी जन्म तिथि अपने नाम, जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर व्हाट्सएप करें

हिंदू पंचांग के अनुसार आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को महानवमी कहा जाता है और महानवमी को मां दुर्गा के सिद्धिदात्री स्वरूप की आराधना की जाती है। इस बार महा नवमी तिथि 3 अक्टूबर 2022 को शाम 8:07 से शुरू होगी और 4 अक्टूबर 2022 को शाम 6:52 पर समाप्त होगी इसलिए महानवमी 4 अक्टूबर को मनाई जाएगी।

PunjabKesari Maha Navami

महानवमी को मां सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है और ऐसा माना जाता है कि जो भी भक्त पूरे श्रद्धा भाव से देवी दुर्गा के इस रूप की उपासना करता हैं, वह सारी सिद्धियों को प्राप्त करते हैं। हिंदू धर्म में मां सिद्धिदात्री को भय और रोग से मुक्त करने वाली देवी के रूप में जाना जाता है। माना जाता है कि मां सिद्धिदात्री की कृपा जिस व्यक्ति पर होती है, उसके सभी कार्य सिद्ध हो जाते हैं।

मान्यता है कि एक महिषासुर नाम का राक्षस था, जिसने चारों तरफ हाहाकार मचा रखा था। उसके भय से सभी देवता परेशान थे। उसके वध के लिए देवी आदिशक्ति ने दुर्गा का रूप धारण किया और 8 दिनों तक महिषासुर राक्षस से युद्ध करने के बाद 9वें दिन उसको मार गिराया। जिस दिन मां ने इस अत्याचारी राक्षस का वध किया, उस दिन को महानवमी के नाम से जाना जाने लगा। महानवमी के दिन महास्नान और षोडशोपचार पूजा करने का रिवाज है। ये पूजा अष्टमी की शाम ढलने के बाद की जाती है। दुर्गा बलिदान की पूजा नवमी के दिन सुबह की जाती है। नवमी के दिन हवन करना जरूरी माना जाता है क्योंकि इस दिन नवरात्रि का समापन हो जाता है। मां की विदाई कर दी जाती है।

PunjabKesari kundli

महानवमी को लोग नौ कन्याओं को भोजन कराकर अपना व्रत खोलते हैं। मां की इस रूप में उपासना करने से सभी प्रकार की सिद्धियां प्राप्त हो जाती हैं। जो लोग अष्टमी के दिन कन्या पूजन नहीं कर पाए हैं, उन्हें नवमी के दिन कन्या पूजन करना चाहिए। कन्या पूजन के लिए 2 साल से 10 साल तक की कन्याओं को और एक बालक को आमंत्रित करें।

इसके बाद सभी कन्याओं के पैर खुद अपने हाथों से धोएं। उनके माथे पर कुमकुम और अक्षत का टीका लगाएं। इसके बाद कन्याओं के हाथ में मूली या कलावा बांध दें। एक थाली में घी का दीपक जलाएं और सभी कन्याओं की आरती उतारें। आरती करने के बाद सभी कन्याओं को भोग लगाएं और खाने में पूरी, चना और हलवा जरूर खिलाएं। भोजन खिलाने के बाद कन्याओं को अपनी सामर्थ्य के अनुसार जरूर भेज दें और आखिर में कन्याओं के पैर छूकर उनसे आशीर्वाद जरूर लें और उन्हें सम्मान सहित विदा करें।

गुरमीत बेदी
 9418033344

PunjabKesari kundli

 

Related Story

Trending Topics

New Zealand

India

Match will be start at 30 Nov,2022 08:30 AM

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!