दागी विधायक जलालपुर के बेटे को पावरकॉम में नियुक्त करके चन्नी ने तोड़े भाई-भतीजावाद के सभी रिकॉर्ड : मजीठिया

Edited By Ramanjit Singh,Updated: 01 Dec, 2021 05:49 PM

done in the name of compassion political

कहा, यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि चन्नी ने राज्य के युवाओं की कीमत पर अपने मंत्रियों और कांग्रेस के विधायकों की मनमर्जी के सामने घूटने टेके- घोषणा, शिअद-बसपा सरकार बनने पर अनुकंपा के नाम पर हुईँ राजनीतिक नियुक्तियों की होगी समीक्षा

चंडीगढ़ (रमनजीत सिंह) शिरोमणि अकाली दल ने मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी की निंदा करते हुए कहा कि चन्नी ने अपने पूर्ववर्ती सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह द्वारा स्थापित भाई-भतीजावाद के सभी रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। शिअद ने कहा कि ताजा मामले में विवादास्पद और दागी विधायक मदन लाल जलालपुर के बेटे को पंजाब स्टेट पावर कॉरपोरेशन लिमिटेड (पीएसपीसीएल) के प्रशासन का निदेशक नियुक्त करके चन्नी ने इसे अंजाम दिया है। शिअद नेता व पूर्व मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया ने कहा कि यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण बात है कि मुख्यमंत्री ने अपने मंत्रियों व विधायकों की मनमर्जी के समक्ष पूरी तरह से घुटने टेक दिए हैं और राज्य के युवाओं के भविष्य की चिंता किए बगैर एक के बाद एक नियुक्ति कर रहे हैं। उन्होने कहा, ‘‘ऐसा लगता है कि मुख्यमंत्री अपनी ही सरकार के ‘‘घर घर नौकरी’’ के नारे को भूल गए हैं और लगता है कि इसे  बदलकर ‘‘केवल कांग्रेस घर नौकरी’‘ कर दिया गया है।


मजीठिया ने कहा कि राज्य की बागडोर संभालने के कुछ ही दिनों के भीतर चरणजीत सिंह चन्नी ने गृहमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा के दामाद तरूणवीर सिंह लैहल को सामान्य प्रक्रिया को दरकिनार करते हुए अतिरिक्त ए.जी. नियुक्त किया था और इस पद पर नियुक्त करने के लिए ‘असाधारण परिस्थितियों ’’ क्लॉज का इस्तेमाल करना पड़ा था, क्योंकि गृहमंत्री के दामाद ने अतिरिक्त महाधिवक्ता के रूप में नियुक्त होने के मानदंडों को पूरा नही किया था।


मजीठिया ने कहा कि अब एक और विवादास्पद कदम उठाते हुए मुख्यमंत्री द्वारा कांग्रेस विधायक मदन लाल जलालपुर को पुरस्कृत किया गया, जिसका नाम पहले एक खनन अधिकारी पर हमले के साथ-साथ घनौर में अवैध डिस्टलरी के संबंध में भी उजागर हुआ था। उन्होने कहा कि जलालपुर के पुत्र गगनदीप को पीएसपीसीएल प्रशासन का निदेशक नियुक्त किया गया है।


मजीठिया ने कहा कि राज्य में शिअद-बसपा सरकार बनने पर न सिर्फ इन राजनीतिक नियुक्तियों की, बल्कि इससे पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह द्वारा की गईँ सभी अवैध नियुक्तियों की समीक्षा की जाएगी। मजीठिया ने कहा, ‘‘हम सभी अवैध नियुक्तियों को रदद कर देंगें, चाहे वह पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह के पोते को डीएसपी लगाने की हो, या कांग्रेस विधायक राकेश पांडे के बेटे को तहसीलदार और पूर्व मंत्री गुरप्रीत सिंह कांगड़ के दामाद को आबकारी एवं कराधान अधिकारी के रूप में नियुक्ति हो। 


मजीठिया ने कहा कि यह बेहद शर्मनाक है कि कांग्रेस सरकार को राज्य के युवाओं से किए गए वादों को पूरा करने की कोई चिंता नहीं है। ‘‘कांग्रेस सरकार ने रिक्त पदों को भरने से इंकार करते हुए राज्य में नौकरियों की कमी की बात कही है। यह युवाओं से किए गए वायदे, 2500 रूपये प्रतिमाह बेरोजगारी भत्ता देने में भी विफल रही है। मजीठिया ने कहा कि अब कार्यकाल के अंतिम दिनों में कांग्रेस सरकार राज्य की सड़कों पर नौकरियों के लिए विरोध प्रदर्शन कर रहे युवाओं के बजाए, अपने ही रिश्तेदारों को नौकरी देने की इच्छुक है।

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!