Narasimha Jayanti katha: पापों से मुक्ति के लिए अवश्य पढ़ें ये कथा

Edited By Niyati Bhandari, Updated: 14 May, 2022 09:24 AM

religious story

पदम पुराण के अनुसार दिति और ऋषि कश्यप जी के दो पुत्र हिरण्यकश्य (हिरण्याकशिपु) और हिरण्याक्ष हुए। यह दोनों बड़े बलशाली एवं पराक्रमी थे तथा वह सभी

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Narasimha Jayanti Katha 2022: पदम पुराण के अनुसार दिति और ऋषि कश्यप जी के दो पुत्र हिरण्यकश्य  (हिरण्याकशिपु) और हिरण्याक्ष हुए। यह दोनों बड़े बलशाली एवं पराक्रमी थे तथा वह सभी दैत्यों के स्वामी थे। हिरण्याक्ष को अपने बल पर बड़ा अभिमान था क्योंकि उसके शरीर का कोई निश्चित मापदण्ड नहीं था। उसने अपनी हजारों भुजाओं से समस्त पर्वत, समुद्र, द्वीप  तथा प्राणियों सहित सारी पृथ्वी को उखाड़ कर सिर पर रख लिया तथा रसातल में चला गया, जिससे सभी देवता भयभीत होकर त्राहि-त्राहि करने लगे तथा वह भगवान नारायण की शरण में गए। 

PunjabKesari,  Narasimha Jayanti katha, Narasimha Jayanti Katha 2022

भगवान ने तब वाराह रूप में अवतार लेकर हिरण्याक्ष को कुचल दिया। जिससे वह मारा गया तथा भगवान ने धरती को पुन: शेषनाग की पीठ पर स्थापित करके सभी को अभयदान दिया। 

अपने भाई की मृत्यु से दुखी हुए हिरण्यकशिपु ने मेरू पर्वत पर जाकर घोर तपस्या की तथा सृष्टि के रचयिता भगवान ब्रह्मा जी से वरदान मांगा कि उसे सारी सृष्टि का कोई मनुष्य अथवा शूरवीर मार ही न सके, वह न दिन में मरे तथा न ही रात को, वह न किसी छत के नीचे मरे तथा न ही खुले आकाश में तथा न ही धरती पर मरे तथा न ही किसी वस्तु पर गिरकर, कोई अस्त्र उसे काट न सके तथा आग उसे जला न सके। यहां तक कि साल के 12 महीनों में से किसी भी महीने में न मर पाऊं।

ऐसा वरदान पाकर हिरण्यकशिपु स्वयं को अमर मानने लगा तथा और अधिक अहंकार में आ गया और अपने आप को भगवान कहने लगा। दैत्य हिरण्यकशिपु के घर प्रहलाद का जन्म हुआ। वह बालक भगवान विष्णु के प्रति भक्ति भाव रखता था जो उसके पिता को बिल्कुल पसंद नहीं था। उसने अनेकों बार पुत्र को समझाया कि वह भगवान विष्णु की नहीं बल्कि उसकी पूजा करें। उसने अपनी सारी प्रजा को भी तंग कर रखा था। उसके राज्य में कोई भी व्यक्ति किसी भगवान की पूजा अर्चना नहीं कर सकता था। जब हिरण्यकश्य को अपने राज्य में किसी के बारे में ऐसी सूचना भी मिलती थी तो वह उसे मरवा देता था। पुत्र मोह के कारण उसने प्रह्लाद को बहुत समझाया परंतु जब वह न माना तो उसने अपनी बहन होलिका, जिसे वरदान था कि आग उसे जला नहीं सकती के साथ मिलकर मारने की कोशिश की। 

PunjabKesari,  Narasimha Jayanti katha, Narasimha Jayanti Katha 2022

होलिका अपने भतीजे को मारने के लिए दहकती हुई आग में बैठ गई परंतु कहा जाता है की "जाको राखे साईंयां मार सके न कोई" की कहावत चरितार्थ हुई और भक्त प्रहलाद का बाल भी बांका न हुआ तथा होलिका जलकर राख हो गई। बहन के जल जाने के बाद तो हिरण्यकश्य गुस्से से अत्याधिक आग बबूला हो गया तथा उसने प्रहलाद को मारने के लिए कभी पर्वतों से गिराया तथा कभी हाथी के पांव तले रोंदवाया और सांड़ों के आगे फैंकवाया। उसने प्रह्लाद पर अनेक अत्याचार किए परंतु मारने वाले से ज्यादा बलवान है बचाने वाला। 

हिरण्यकशिपु को हर समय अपने पुत्र से चिंता रहने लगी कि कहीं उसके राज्य के लोग भी भगवान की भक्ति में न लग जाएं। सर्वशक्तिमान एवं सर्वव्यापक ईश्वर जब किसी पापी के बढ़ रहे पापों एवं अत्याचारों का घड़ा भरते देखते हैैं तो किसी न किसी रुप में प्रकट होकर अपने भक्त की रक्षा अवश्य करते हैं। अपनी सभा में बैठे हिरण्यकशिपु ने भक्त प्रह्लाद को मारने के लिए एक खंबे पर मुक्का मारते हुए कहा कि क्या इस खंबे में भी भगवान हैं तो बुलाओ। 

PunjabKesari, Narasimha Jayanti katha, Narasimha Jayanti Katha 2022

भक्त प्रह्लाद ने नारायण को पुकारा तो ब्रह्मा जी के दिए हुए वचन को पूरा करने के लिए भगवान विष्णु खंबे में से नृसिंह अवतार लेकर प्रकट हो गए। उन्होंने हिरण्यकशिपु को उठा लिया तथा घर की दहलीज पर ले आए उन्होंने उसे अपनी गोद में लिटा लिया तथा शेर मुख तथा पंजों के नाखूनों से चीर कर उसे मार दिया। उसके दिए वचन को पूरा करते हुए भगवान ने कहा कि इस समय न दिन है न रात अर्थात संध्या का समय है, न मैं नर हूं न पशु, अर्थात आधा शरीर पशु तथा आधा मनुष्य का है तभी उनका नाम नृसिंह पड़ा। 

साल के 12 महीनों में से किसी भी महीने में न मरने का वचन लेने वाले हिरण्यकशिपु को मारने के लिए भगवान ने पुरषोत्तम अर्थात अधिक मास बनाया। भगवान ने नृसिंह अवतार लेकर दुष्ट, पापी एवं अहंकारी हिरण्यकशिपु को मार कर अपने भक्त प्रह्लाद की रक्षा करी। सभी ने मिलकर प्रभु की स्तुति की तथा भगवान ने नृसिंह रूप में ही सभी को आशीर्वाद दिया।

महादैत्य के मारे जाने से सबको बड़ा हर्ष हुआ। देवताओं ने पुष्पों की वर्षा की और देवगणों ने प्रभु की स्तुति गाई। दक्षिण भारत में हर साल नृसिंह जयंती पर वैष्णव सम्प्रदाय के लोग भक्तों की रक्षा करने वाले भगवान नृसिंह जी की जयंती बड़ी धूमधाम से मनाते हैं। जो लोग प्रतिदिन इस कथा को सुनते हैं वह सब पापों से मुक्त होकर परमगति को प्राप्त करते हैं।

PunjabKesari,  Narasimha Jayanti katha, Narasimha Jayanti Katha 2022

 

Related Story

Trending Topics

Indian Premier League
Gujarat Titans

Rajasthan Royals

Match will be start at 24 May,2022 07:30 PM

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!