वैज्ञानिकों ने जलवायु परिवर्तन और पृथ्वी के भविष्य पर सबसे गंभीर रिपोर्ट कार्ड किया पेश, टेंशन में दुनिया

Edited By Tanuja, Updated: 10 Aug, 2021 05:55 PM

this is the most sobering report card yet on climate change and earth s future

इंटरगवर्नमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज (IPCC) ने जलवायु परिवर्टन को लेकर अब तक की सबसे खतरनाक रिपोर्ट पेश कर पूरी दुनिया को टेंशन में डाल दिया है...

 कैनबरा:  इंटरगवर्नमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज (IPCC) ने जलवायु परिवर्टन को लेकर अब तक की सबसे खतरनाक रिपोर्ट पेश कर पूरी दुनिया को टेंशन में डाल दिया है।  की अब तक की सबसे गंभीर रिपोर्ट के अनुसार, पूर्व-औद्योगिक समय के बाद से पृथ्वी का तापमान 1.09 डिग्री सेल्सियस बढ़ चुका है और कई बदलाव जैसे कि समुद्र के स्तर में वृद्धि और ग्लेशियर का पिघलना अब लगभग अपरिवर्तनीय है। रिपोर्ट में यह भी पाया गया कि मानव जनित जलवायु परिवर्तन से बचना अब संभव नहीं है। जलवायु परिवर्तन अब पृथ्वी पर हर महाद्वीप, क्षेत्र और महासागर और मौसम के हर पहलू को प्रभावित कर रहा है।

 

हजारों वैज्ञानिकों की जानकारी के आधार पर बनी रिपोर्ट
1988 में पैनल के गठन के बाद से लंबे समय से प्रतीक्षित रिपोर्ट अपनी तरह का छठा आकलन है। यह नवंबर में स्कॉटलैंड के ग्लासगो में होने वाले महत्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय शिखर सम्मेलन से पहले दुनिया के नेताओं को जलवायु परिवर्तन के बारे में सबसे सामयिक, सटीक जानकारी देगा। IPCC संयुक्त राष्ट्र और विश्व मौसम विज्ञान संगठन का चरम जलवायु विज्ञान निकाय है। यह पृथ्वी की जलवायु की स्थिति और मानव गतिविधियाँ इसे कैसे प्रभावित करती हैं, पर राय देने वाला वैश्विक प्राधिकार है। हम नवीनतम IPCC रिपोर्ट के लेखक हैं और हमने दुनिया भर के हजारों वैज्ञानिकों के काम से मिली जानकारी के आधार पर इस मूल्यांकन को तैयार किया है।

 

3,900 पन्नों के दस्तावेज में  कोई भी अच्छी खबर नहीं
अफसोस की बात है कि आज जारी किए गए 3,900 पन्नों के दस्तावेज में शायद ही कोई अच्छी खबर है। लेकिन अगर मानवता चाहे तो सबसे खराब नुकसान को टालने का समय अभी भी है। यह स्पष्ट है: मनुष्य ग्रह को गर्म कर रहे हैं पहली बार, IPCC स्पष्ट रूप से कहता है - संदेह के लिए बिल्कुल कोई जगह नहीं छोड़ते हुए - मनुष्य वातावरण, भूमि और महासागरों में महसूस की गई वार्मिंग के लिए जिम्मेदार हैं। IPCC ने पाया कि पृथ्वी की वैश्विक सतह का तापमान 1850-1900 से पिछले दशक के बीच 1.09 डिग्री सेल्सियस बढ़ चुका है। यह 2013 में पिछली IPCC रिपोर्ट की तुलना में 0.29 डिग्री सेल्सियस अधिक गर्म है। (यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि 0.1 डिग्री सेल्सियस वृद्धि डेटा सुधार के कारण है।) IPCC पृथ्वी की जलवायु में प्राकृतिक परिवर्तनों की भूमिका को मानती है।

 

2000 मीटर से नीचे समुद्र की गहराई तक पहुंच रही वार्मिंग
हालांकि, यह पाया गया कि 1.09 डिग्री सेल्सियस तापमान वृद्धि में से 1.07 डिग्री सेल्सियस का तापमान मानवीय गतिविधियों से जुड़ी ग्रीनहाउस गैसों के कारण बढ़ा है। दूसरे शब्दों में, लगभग तमाम ग्लोबल वार्मिंग मनुष्यों के कारण हैं। कम से कम पिछले 2,000 वर्षों में किसी भी अन्य 50-वर्ष की अवधि की तुलना में 1970 के बाद से अब तक के 50 वर्ष में वैश्विक सतह का तापमान तेजी से गर्म हुआ है, साथ ही यह वार्मिंग 2,000 मीटर से नीचे समुद्र की गहराई तक पहुंच रही है। IPCC का कहना है कि मानवीय गतिविधियों ने वैश्विक वर्षा (बारिश और हिमपात) को भी प्रभावित किया है। 1950 के बाद से, कुल वैश्विक वर्षा में वृद्धि हुई है, लेकिन कुछ क्षेत्र ज्यादा गीले हो गए हैं, जबकि अन्य सूखे हो गए हैं। अधिकांश भू क्षेत्रों में भारी वर्षा की घटनाओं की आवृत्ति और तीव्रता में वृद्धि हुई है। ऐसा इसलिए है क्योंकि गर्म वातावरण अधिक नमी धारण करने में सक्षम है - प्रत्येक अतिरिक्त तापमान के लिए लगभग 7% अधिक - जो गीले मौसम और वर्षा की घटनाओं को बढ़ाता है।

 

दस गुना तेज  हुआ CO2 का उत्सर्जन
CO2 की उच्च सांद्रता, तेजी से बढ़ रही है वायुमंडलीय कार्बन डाइऑक्साइड (CO2) की वर्तमान वैश्विक सांद्रता अधिक है और कम से कम पिछले 20 लाख वर्षों में किसी भी समय की तुलना में तेजी से बढ़ रही है। औद्योगिक क्रांति (1750) के बाद से जिस गति से वायुमंडलीय CO2 में वृद्धि हुई है, वह पिछले 800,000 वर्षों के दौरान किसी भी समय की तुलना में कम से कम दस गुना तेज है, और पिछले पांच करोड़ 60 लाख वर्षों की तुलना में चार से पांच गुना तेज है। लगभग 85% CO2 उत्सर्जन जीवाश्म ईंधन के जलने से होता है। शेष 15% भूमि उपयोग परिवर्तन, जैसे वनों की कटाई और क्षरण से उत्पन्न होते हैं। अन्य ग्रीनहाउस गैसों की सांद्रता भी कुछ बेहतर नहीं है। मीथेन और नाइट्रस ऑक्साइड दोनों, CO2 के बाद ग्लोबल वार्मिंग में दूसरे और तीसरे सबसे बड़े योगदानकर्ता हैं, वे भी तेजी से बढ़े हैं। मानव गतिविधियों से मीथेन उत्सर्जन बड़े पैमाने पर पशुधन और जीवाश्म ईंधन उद्योग से आता है। 

 

जलवायु परिवर्तन के कारण हो चुकी अपूर्णीय क्षति
IPCC का कहना है कि अगर पृथ्वी की जलवायु को जल्द स्थिर कर दिया जाए, तब भी जलवायु परिवर्तन के कारण जो क्षति हो चुकी है, उसे सदियों या सहस्राब्दियों तक भी ठीक नहीं किया जा सकेगा। उदाहरण के लिए, इस सदी में 2 डिग्री सेल्सियस की ग्लोबल वार्मिंग से 2,000 वर्षों में औसत वैश्विक समुद्र स्तर में दो से छह मीटर की वृद्धि होगी, और अधिक उत्सर्जन होने पर और भी ज्यादा। विश्व स्तर पर, ग्लेशियर 1950 से लगातार घट रहे हैं और वैश्विक तापमान के स्थिर होने के बाद दशकों तक इनके पिघलते रहने का अनुमान है। इसी तरह सीओ2 उत्सर्जन बंद होने के बाद भी गहरे समुद्र का अम्लीकरण हजारों वर्षों तक बना रहेगा। 

Related Story

Trending Topics

England

India

Match will be start at 08 Jul,2022 12:00 AM

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!