अकाली दल का कब्जा बरकरार, हार के बावजूद सिरसा बनेंगे अध्यक्ष

Edited By vasudha,Updated: 26 Aug, 2021 09:21 AM

despite the defeat sirsa will become the president

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी में लगातार तीसरी बार शिरोमणि अकाली दल (बादल) ने सबसे ज्यादा सीटें हासिल कर अपना कब्जा बरकरार रखा है। अकाली दल को 46 में से 27 सीटें मिली हैं। हालांकि कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा खुद अपनी सीट नहीं बचा सके...

नई दिल्ली (पाण्डेय): दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी में लगातार तीसरी बार शिरोमणि अकाली दल (बादल) ने सबसे ज्यादा सीटें हासिल कर अपना कब्जा बरकरार रखा है। अकाली दल को 46 में से 27 सीटें मिली हैं। हालांकि कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा खुद अपनी सीट नहीं बचा सके हैं लेकिन वह अध्यक्ष बने रहेंगे। ऐसा पार्टी हाईकमान ने संकेत दिए हैं।  इसके अलावा प्रमुख विपक्षी दल शिरोमणि अकाली दल (दिल्ली) को 14 सीटें मिली हैं जबकि, पहली बार गुरुद्वारा चुनाव लड़ रही जागो पार्टी का खाता खुल गया है और उसको 3 सीटें मिली हैं। पार्टी के अध्यक्ष मंजीत सिंह जी.के. अपनी सीट बचाने में कामयाब रहे। 

 

इसके अलावा पंथक अकाली लहर एवं निर्दलीय प्रत्याशी को 1-1 सीट मिली है। निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर तरविंदर सिंह मारवाह विजयी घोषित हुए हैं। चुनाव में 2 महिलाएं भी विजयी हुई हैं। इनमें महिला अकाली दल की अध्यक्ष बीबी रंजीत कौर एवं सरना दल की ओर से हरजिंदर कौर शामिल हैं। चुनाव निदेशक नरिंदर सिंह के मुताबिक शिरोमणि अकाली दल को 40.27 प्रतिशत वोट, सरना दल को 27.79 प्रतिशत, जागो पार्टी को 15.27, पंथक अकाली लहर को 2.3 प्रतिशत वोट मिला है। बता दें कि चुनाव 22 अगस्त को हुए थे। मतगणना बुधवार को सुबह 8 बजे से दिल्ली के 5 स्थानों पर हुई। सूत्रों के मुताबिक कमेटी चुनाव में कई प्रत्याशियों की जमानतें जब्त हो गई हैं। वे चुनाव आयोग के तय मानक के अनुसार वोट हासिल करने में नाकामयाब रहे। शिरोमणि अकाली दल को पिछली बार 2017 में 35 सीटें मिली थीं जो इस बार घट कर 27 हो गईं। हालांकि 2017 में मंजीत सिंह जी.के. एवं मनजिंदर सिंह सिरसा मिलकर चुनाव लड़े थे। चुनाव में कुल 312 प्रत्याशी मैदान में उतरे थे। इनमें से 132 प्रत्याशी निर्दलीय आजाद उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़े थे तथा कुल 37.27 प्रतिशत मतदान हुआ था। 

12 कमेटी सदस्य एवं दिग्गज हारे        
दिल्ली सिख गुरुद्वारा कमेटी में इस बार 12 कमेटी सदस्यों सहित कई दिग्गज चुनाव हार गए। खुद कमेटी अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा को हार का सामना करना पड़ा।  उन्हें शिरोमणि अकाली दल (दिल्ली) के महासचिव एवं पूर्व कमेटी अध्यक्ष रहे हरविंदर सिंह सरना ने 469 वोटों से हराया जबकि अकाली दल के प्रदेश अध्यक्ष हरमीत सिंह कालका चुनाव जीत गए हैं।  इसके अलावा कमेटी के पूर्व महासचिव गुरमीत सिंह शंटी, कमेटी के उपाध्यक्ष कुलवंत सिंह बाठ, मलकिंदर सिंह, हरिंदर पाल सिंह, मंजीत सिंह औलख, हरजीत सिंह जी.के. (मंजीत सिंह जी.के. के भाई), जागो पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष चमन सिंह, हरजिंदर सिंह, स्वर्ण सिंह बराड़, कुलदीप सिंह साहनी, ओंकार सिंह राजा शामिल हैं। 

जंग जारी रहेगी, संगत एवं पंथ के लिए काम करते रहेंगे : मंजीत सिंह
मंजीत सिंह जीके ने दिल्ली की सभी सिख संगतों का धन्यावाद किया है। साथ ही कहा कि पार्टी जीती है तो इसका सारा श्रेय संगत को जाता है। बेहद अफसोस है कि गुरुद्वारा कमेटी के चुनाव में नशा, पैसा और शराब तक बांटा गया। उनकी पार्टी ने फैसला लिया था कि हम नशा नहीं बांटेगे, चाहे जो भी हो जाए।  उन्होंने कहा कि कमेटी में 6 साल अध्यक्ष रहते हुए कई नामुमकिन काम को किया और आगे भी करेंगे। जंग जारी रहेगी और संगत एवं पंथ के लिए काम करते रहेंगे। 

कोम को बांटने की साजिश रखने वाले पुथ के दुश्मनों की सामूहिक हार: बादल 
शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के चुनावों में पार्टी की ऐतिहासिक जीत का स्वागत किया है। साथ ही कहा कि शिरोमणि अकाली दल की ऐतिहासिक जीत खालसा पंथ द्वारा अकाली दल की पंथक हस्ती के समर्थन में किया गया जबरदस्त जनमत संग्रह है। अकाली दल अध्यक्ष ने कहा कि सिख संगतों ने (सुखदेव सिंह) ढींडसा साहिब और सरना ग्रुप सहित कांग्रेस समॢथत और भाजपा-प्रायोजित गु्रपों को पूरी तरह से खारिज कर दिया है। भाजपा ने ढींडसा और मनजीत सिंह जी.के. के माध्यम से 46 में से सिर्फ 2 सीटें जीती हैं जबकि कांग्रेस ने परमजीत सिंह सरना के माध्यम से 46 में से 15 सीटें जीती हैं। यह ऐसा तूफान है जो 2022 विधानसभा चुनावों में पंजाब में कांग्रेस और आप दोनों का सफाया कर देगा। बादल ने कहा कि मैं वाहेगुरु, महान गुरु साहिबान और श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी महाराज का आभारी हूं। उनके आशीर्वाद से पूरी दुनिया की सिख संगत का धन्यवादी हूं। मैं पंथक आदर्शों को बढ़ावा देने के लिए पूरी प्रतिबद्धता दोहराना चाहता हूं। बादल ने सिख संगत और पूरे खालसा पंथ की उम्मीदों पर खरा उतरने के लिए मनजिंद्र सिंह सिरसा की अगुवाई में शिरोमणि अकाली दल दिल्ली की पूरी टीम की सराहना की। उन्होंने कहा कि  शिरोमणि अकाली दल सेवा और पंथक विचार पर हमेशा खरा उतरा है। सुखबीर ने कहा कि सिख संगतों ने कौम के जाने-माने दुश्मनों के इशारे पर खालसा पंथ को बांटने और कमजोर करने की साजिश करने वालों को शानदार जवाब दिया है। 
 

संगत ने अवसरवादियों को सबक सिखाया: सिरसा
मनजिंदर सिंह सिरसा ने मानवता तथा सिखी के प्रचार के लिए की गई सेवा के हक में जीताने के लिए संगत का धन्यवाद किया है। साथ ही उन्होंने शिरोमणि अकाली दल से फायदा लेकर भागकर अलग पार्टी बनाकर चुनाव लडऩे वाले अवसरवादियों को सबक सिखाने के लिए संगत का धन्यवाद किया, जिनका मुकम्मल सफाया हो गया है।  


सरना ने किया सिख संगतों का धन्यवाद 
शिरोमणि अकाली दल (दिल्ली) के अध्यक्ष परमजीत सिंह सरना ने दिल्ली गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी चुनाव का रिजल्ट आने के बाद दिल्ली की सभी सिख  संगतों, सिंह सभाओं एवं लोगों का धन्यवाद किया है। 
 

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!