इस्लामिक देशों के मीडिया में भी सुर्खियां बना उदयपुर टेलर हत्याकांड, मोदी सरकार पर की ऐसी टिप्पणियां

Edited By Tanuja,Updated: 30 Jun, 2022 11:40 AM

muslim countries media reaction on udaipur tailor murder

राजस्थान के उदयपुर शहर में कन्हैयालाल के खौफनाक कत्ल का मुद्दा न सिर्फ देश में बल्कि विदेशी मीडिया की भी सुर्खियां बना हुआ है ।...

इंटरनेशनल डेस्क: राजस्थान के उदयपुर शहर में कन्हैयालाल के खौफनाक कत्ल का मुद्दा न सिर्फ देश में बल्कि विदेशी मीडिया की भी सुर्खियां बना हुआ है । कन्हैयालाल मर्डर पर विद्शी मीडिया खास कर की रिपोर्ट इसलिए महत्वपूर्ण हो जाती है क्योंकि भाजपा से निष्कासित नूपुर शर्मा की पैगंबर मोहम्मद पर की गई टिप्पणी पर इस्लामिक दशों ने कड़ा ऐतराज जताया था। उदयपुर पुलिस की प्राथमिक जांच रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि कन्हैयालाल का बेरहमी से कत्ल नूपुर शर्मा की टिप्पणी के समर्थन के बाद की गई थी। इस पर बाकायदा हत्यारों ने वीडियो भी जारी किया था।

 

मोदी सरकार पर  निशाना साधा
राजस्थान के उदयपुर में मंगलवार को दो लोगों ने  दर्जी कन्हैयालाल की दुकान में घुसकर उसकी हत्या कर दी जिसके बाद से ही प्रदेश में स्थिति बेहद तनावपूर्ण बनी हुई है। इस हत्या के बाद से ही राजस्थान में इंटरनेट बंद है और हर जगह पुलिस की तैनाती है। दोनों हत्या आरोपियों की पहचान मोहम्मद रियाज और गौस मोहम्मद के रूप में की गई है।  इस घटना को लेकर सोशल मीडिया पर खूब प्रतिक्रिया देखने को मिल रही है । खासकर मुस्लिम देशों की मीडिया ने भी इस खबर की कवरेज की है और मोदी सरकार पर भी निशाना साधा है।

PunjabKesari

पाकिस्तानी अखबार डॉन
पाकिस्तान के अखबार डॉन ने इस खबर को समाचार एजेंसी एएफपी के हवाले से प्रकाशित किया है. अखबार लिखता है कि उदयपुर की घटना पैगंबर विवाद का ही नतीजा है। डॉन की रिपोर्ट में लिखा गया, 'दक्षिणपंथी बीजेपी की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा ने एक टीवी डिबेट में पैगंबर पर अपमानजनक टिप्पणी की जिस पर इस्लामिक दुनिया ने तीखी प्रतिक्रिया दी। उनकी टिप्पणी से भारत और विदेशों में जमकर प्रदर्शन हुए। प्रदर्शनों में मुसलमान ये मांग कर रहे थे कि मोदी सरकार को नूपुर शर्मा को कड़ी सजा दी जानी चाहिए और इसी विवाद ने अब उदयपुर में हिंसा को भड़का दिया है।' रिपोर्ट में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के उस ट्वीट को भी शामिल किया गया है जिसमें वो दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने और लोगों से शांति बनाए रखने की अपील कर रहे हैं। पत्रकार राना अयूब के ट्वीट को भी रिपोर्ट में जगह दी गई है जिसमें उन्होंने इसे बर्बर हमला करार दिया है।

PunjabKesari
तुर्की का सरकारी ब्रॉडकास्टर TRT वर्ल्ड
इस्लामिक देश तुर्की के सरकारी ब्रॉडकास्टर TRT वर्ल्ड ने भी इस घटना पर एक रिपोर्ट प्रकाशित की है. समाचार एजेंसी रॉयटर्स के हवाले से प्रकाशित रिपोर्ट में लिखा गया है, 'उदयपुर जिले के कई इलाकों में कर्फ्यू लगा दिया गया है। विशेषज्ञों का कहना है कि उदयपुर की घटना का हिंदू बहुल देश में गंभीर परिणाम हो सकता है, सांप्रदायिक दंगे भड़क सकते हैं। ' नूपुर शर्मा को लेकर रिपोर्ट में लिखा गया है कि पैगंबर विवाद के बाद से ही उन्हें देखा नहीं गया है। पैगंबर पर उनकी टिप्पणी से कई अरब और मुस्लिम देश भारत पर भड़क गए थे।  भारत को कूटनीतिक स्तर पर काफी नाराजगी झेलनी पड़ी थी।

 

 TRT वर्ल्ड ने तृणमूल कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता साकेत गोखले की मोदी सरकार के खिलाफ एक ट्वीट को भी शामिल किया है। इस ट्वीट में गोखले ने लिखा है, "सभी गैर भाजपा और उदारपंथी उदयपुर घटना की निंदा करेंगे। कोई भी मुस्लिम इन राक्षसों का समर्थन नहीं करेगा। कोई इन्हें माला नहीं पहनाएगा जैसेभाजपा के केंद्रीय मंत्री ने झारखंड में लिचिंग के दोषियों को पहनाई थी। कोई पार्टी इनके लिए रैली नहीं निकालेगी जिस तरह भाजपा ने कठुआ रेपिस्ट्स के लिए निकाली। "

PunjabKesari

कतर का अलजजीरा
कतर बेस्ड अलजजीरा ने भी इस पर कवरेज की है। अलजजीरा ने पूरी घटना का ब्योरा दिया है। इस आर्टिकल के अंत में लिखा है, आलोचक मोदी की भाजपा पर मुस्लिम समुदाय को हाशिए पर रखने और बांटने वाली राजनीति करने का आरोप लगाते हैं। कांग्रेस शासित राज्य राजस्थान के जोधपुर में पिछले महीने ही हिंदुओं और मुस्लिमों के बीच तनाव देखने को मिला था। अलजजीरा ने साल 2017 की एक घटना का भी जिक्र किया है जिसमें एक मुस्लिम मजदूर को मारकर जला दिया गया था।

 

मलेशिया का अखबार मलय मेल
मुस्लिम देश मलेशिया के अखबार मलय मेल ने इस घटना को भारत में धार्मिक हिंसा के इतिहास से जोड़ा है। अखबार ने लिखा है कि भारत में धार्मिक हिंसा का एक भयानक इतिहास रहा है। 1947 में ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन से देश के आजाद होने के बाद से हजारों लोग धार्मिक हिंसा में मारे गए हैं। अखबार आगे लिखता है, 'लेकिन भारत जहां की 1.4 अरब आबादी का 13 प्रतिशत मुसलमान हैं, 2014 में मोदी के सत्ता में आने के बाद से Hindu First एजेंडे पर काम कर रहा है जिसने देश में तनाव पैदा कर दिया है। '
 
PunjabKesari

अखबार लिखता है, 'समाचार एजेंसी प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, कन्हैया लाल नामक व्यक्ति को मंगलवार को उसकी सिलाई की दुकान के अंदर दो लोगों ने चाकू मार दिया। दोनों ने हत्या की घटना का वीडियो भी बनाया। बाद में दोनों लोगों ने एक दूसरे वीडियो में हत्या की जिम्मेदारी ली और उसी वीडियो में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी जान से मारने की धमकी दी। '

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!