Dharmik Katha: ‘मन’ की शुद्धि होने पर मिलता है हर सुख

Edited By Jyoti, Updated: 12 May, 2022 04:23 PM

dharmik katha in hindi

एक बार समर्थ रामदास भिक्षा मांगते हुए एक घर के सामने खड़े हुए और  उन्होंने आवाज लगाई, ‘‘जय-जय श्री रघुवीर समर्थ।’’

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ 
एक बार समर्थ रामदास भिक्षा मांगते हुए एक घर के सामने खड़े हुए और  उन्होंने आवाज लगाई, ‘‘जय-जय श्री रघुवीर समर्थ।’’

घर की स्त्री बाहर आई। उनकी झोली में शिक्षा डालती हुई वह बोली, ‘‘महाराज, कोई उपदेश दीजिए।’’

स्वामी जी बोले, ‘‘आज नहीं, कल दूंगा।’’

दूसरे दिन वे पुन: उसके घर पर गए। गृहिणी ने उस दिन खीर बनाई थी। वह खीर का कटोरा बाहर लेकर आई।

स्वामी जी ने अपना कमंडल आगे कर दिया। वह स्त्री जब खीर डालने को आगे हुई तो उसने देखा कि कमंडल कुछ गंदा-सा है।

वह बोली, ‘‘महाराज, यह कमंडल तो गंदा है।’’ स्वामी जी बोले, ‘‘हां गंदा तो है परन्तु तुम उसी में खीर डाल दो।’’

‘‘तब तो खीर खराब हो जाएगी इसीलिए दीजिए, यह कमंडल मैं साफ कर देती हूं।’’

स्वामी जी बोले, ‘‘अर्थात कमंडल जब साफ हो जाएगा, तभी तुम इसमें खीर डालोगी?’’

 स्त्री ने उत्तर दिया, ‘‘जी महाराज!’’

स्वामी जी बोले, ‘‘तो मेरा भी यही उपदेश है। मन में जब तक संसार की वासनाओं और विषय-लालसा की गंदगी भरी है तब तक उपदेशामृत का कोई लाभ नहीं होगा। यदि लाभ पाना है तो पहले अपने मन को शुद्ध करना होगा, विषयों के प्रति उदासीनता लानी होगी, तभी तुम्हारा कल्याण हो सकता है।’’

Related Story

Trending Topics

Indian Premier League
Gujarat Titans

Rajasthan Royals

Match will be start at 24 May,2022 07:30 PM

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!