शिवसेना का BJP पर बड़ा हमला,  केंद्र की डफली पर नाच रहे 'नचनिये' बागी विधायक

Edited By Anu Malhotra,Updated: 27 Jun, 2022 11:25 AM

shivsena saamana maharashtra shivsena

महाराष्ट्र की राजनीति में छाए संकट के बादलों के बीच आरोप प्रत्यारोप का दौर जारी है। वहीं अबबागी विधायकों की सुरक्षा बढ़ाए जाने पर शिवसेना ने भाजपा पर जमकर हमला किया। शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना के जरिए बीजेपी पर होर्स ट्रेडिंग का आरोप लगाया है।...

नेशनल डेस्क: महाराष्ट्र की राजनीति में छाए संकट के बादलों के बीच आरोप प्रत्यारोप का दौर जारी है। वहीं अबबागी विधायकों की सुरक्षा बढ़ाए जाने पर शिवसेना ने भाजपा पर जमकर हमला किया। शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना के जरिए बीजेपी पर होर्स ट्रेडिंग का आरोप लगाया है। इतना ही नहीं बागी विधायकों को रुपयों में बिकने वाले बैल और नचनिया तक कह दिया है।

 महाराष्ट्र के शिवेसना के बागी विधायकों को केंद्र की ओर से 'वाई प्लस' सुरक्षा दिए जाने के बाद सोमवार को पार्टी ने दावा किया कि अब यह स्पष्ट हो गया है कि राज्य में जारी राजनीतिक उथल-पुथल के बीच भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ही यह सब ''तमाशा'' कर रही है। शिवेसना के मुखपत्र 'सामना' में एक संपादकीय में एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाले पार्टी के बागी विधायकों पर आरोप लगाया गया है कि वे 50-50 करोड़ रुपये में ''बिक'' गए हैं। केंद्र सरकार ने रविवार को शिवसेना के कम से कम 15 विद्रोही विधायकों को सीआरपीएफ कमांडो के घेरे वाली 'वाई प्लस' सुरक्षा प्रदान की।

अधिकारियों ने इस बारे में जानकारी दी थी। उन्होंने बताया था कि जिन विधायकों को सुरक्षा मुहैया कराई गई है, उनमें रमेश बोर्नारे, मंगेश कुदलकर, संजय शिरसत, लताबाई सोनवाने, प्रकाश सुर्वे और 10 अन्य विधायक शामिल हैं। अधिकारियों ने कहा था कि महाराष्ट्र में रह रहे उनके परिवारों को भी सुरक्षा प्रदान की जाएगी। अधिकारियों के अनुसार, विधायकों के महाराष्ट्र लौटने के बाद प्रत्येक पाली में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के लगभग चार से पांच कमांडो उनकी सुरक्षा करेंगे।

सामना में शिवसेना ने आगे लिखा कि महाराष्ट्र के सियासी लोकनाट्य में केंद्र की डफली, तंबूरे वाले कूद पड़े हैं और राज्य के ‘नचनिये’ विधायक उनकी ताल पर नाच रहे हैं। ये तमाम ‘नचनिये’ लोग वहां गुवाहाटी के एक पांच सितारा होटल में अपने महाराष्ट्र द्रोह का प्रदर्शन पूरे देश और दुनिया को करा रहे हैं।   

'सामना' के संपादकीय में कहा गया है,भाजपा अंतत: बेनकाब हो गई। वे कह रहे हैं कि शिवसेना में विद्रोह आंतरिक मामला है।'' संपादकीय में दावा किया गया है, वडोदरा में एकदास (एकनाथ) शिंदे और देवेंद्र फड़णवीस की गुप्त बैठक हुई थी। बैठक में गृह मंत्री अमित शाह भी मौजूद थे।संपादकीय में कहा गया है कि केंद्र ने बैठक के तत्काल बाद बागी विधायकों को 'वाई प्लस' सुरक्षा प्रदान कर दी, जैसे कि वे ''लोकतंत्र के रक्षक'' हों। 'सामना' में पूछा गया है कि क्या केंद्र सरकार को इस बात का डर था कि वे राज्य में वापस आने के बाद अपनी पार्टी में लौट जाएंगे? संपादकीय में कहा गया है, अब यह स्पष्ट हो गया है कि केंद्र और राज्य के भाजपा नेताओं ने ही इन अभिनेताओं (विद्रोही विधायकों) के लिए पटकथा लिखी है और वह पूरे तमाशे का निर्देशन कर रहे हैं।'' पार्टी ने दावा किया कि बागी विधायकों को वाई प्लस सुरक्षा मुहैया कराकर महाराष्ट्र के खिलाफ भाजपा की ''गद्दारी'' का पर्दाफाश हो गया है।


 

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!