निकुंज सेवा महोत्सव में पंच सेवा करने की होड़

Edited By Jyoti,Updated: 05 Jul, 2022 04:29 PM

shri radha raman mandir vrindavan

राधारमण मन्दिर वृन्दावन में इन दिनों चल रहे निकुंज सेवा महोत्सव में भक्तों द्वारा पंच सेवा करने की धूम मची हुई है। ठाकुर का आशीर्वाद भक्तों को दिलाने के लिए व्यापक स्तर

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

मथुरा: राधारमण मन्दिर वृन्दावन में इन दिनों चल रहे निकुंज सेवा महोत्सव में भक्तों द्वारा पंच सेवा करने की धूम मची हुई है। ठाकुर का आशीर्वाद भक्तों को दिलाने के लिए व्यापक स्तर पर प्रसाद वितरण हो रहा है, वहीं मन्दिर में नित नए फूल बंगले,नवीन झांकी, नवीन पोशाक, नवीन भोग और नवीन राग सेवा करने की भक्तों में होड़ लगी हुई है।

PunjabKesari Shri Radha Raman Mandir Vrindavan, Nikunj Seva Festival, Shri Radha Raman Temple, Religious Place, Religious Temple in india, Dharam, Punjab Kesari

मन्दिर के सेवायत आचार्य एवं ब्रज की विभूति आचार्य श्रीवत्स गोस्वामी में मंगलवार को बताया कि मन्दिर में देवशयनी एकादशी की व्यापक तैयारियां होे रही है। इस बार यह पर्व 10 जुलाई को मनाया जाएगा। इस दिन ठाकुर को भेाग में नाना प्रकार के व्यंजन अर्पित किये जायेंगे तथा पूरे दिन भर भक्तों में प्रसाद का वितरण होगा।

PunjabKesari Shri Radha Raman Mandir Vrindavan, Nikunj Seva Festival, Shri Radha Raman Temple, Religious Place, Religious Temple in india, Dharam, Punjab Kesari

उन्होंने बताया कि देवशयनी एकादशी के बाद सांसारिक मंगल कार्य रूक जाते हैं मगर लोक कल्याणकारी धार्मिक और आध्यात्मिक कार्य इन्ही चार महीनों में होते हैं। जन्माष्टमी, राधाष्टमी, रक्षाबंधन, श्रावणी, नव दुर्गा, दशहरा, दीपावली आदि सभी उत्सव देवशयन काल में ही होते हैं। उनका कहना था कि जगत के लिए जो अमंगलकारी कार्य का समय है वही भगवत आराधना के लिए मंगलकारी कार्य समय है।

PunjabKesari Shri Radha Raman Mandir Vrindavan, Nikunj Seva Festival, Shri Radha Raman Temple, Religious Place, Religious Temple in india, Dharam, Punjab Kesari

इस दौरान विवाह आदि इसलिए बन्द हो जाते है कि लोगों को जगत का कार्य बन्दकर विधि विधान से प्रभु की भावपूर्ण सेवा करने का अवसर दिया जाता है जो इस अवसर का सही उपयोग करते हैं उनके लिए मोक्ष का द्वार खुल जाता है और जो इसका उपयोग नही कर पाते उन्हें बार बार विभिन्न योनियों में जन्म लेना पड़ता है। आचार्य ने बताया कि देवशयनी एकादशी के इसी महत्व के कारण इस दिन के लिए ठाकुर के लिए व्यंजनों की तैयारी शुरू हो गई है।

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं । अपनी जन्म तिथि अपने नाम , जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर वाट्स ऐप करें
 

वैसे तो भक्त मन्दिर में आकर भगवत दर्शन करते ही हैं और लाड़ लड़ाते ही हैं लेकिन कुछ समय पहले ही दो विशेष यात्राए जल यात्रा और रथ यात्रां हुई। इन यात्राओं में भगवान ने मन्दिर से बाहर निकलकर बिना किसी भेदभाव के भक्तों को दर्शन सुलभ कराया था उस समय न केवल समूचा वृन्दावन सड़कों पर आ गया था बल्कि देश के कोने कोने से आए भक्तों ने ठाकुर के इस प्रकार के अनूठे दर्शन कर स्वयं को धन्य किया था।

PunjabKesari Shri Radha Raman Mandir Vrindavan, Nikunj Seva Festival, Shri Radha Raman Temple, Religious Place, Religious Temple in india, Dharam, Punjab Kesari

कुछ मन्दिरों में मर्यादा के कारण मुख्य विगृह मन्दिर से बाहर नही निकलकर आए तथा उन में मन्दिर के जगमोहन में ही इन दोनो त्योहारों का आयोजन किया गया था। रथ यात्रा पर तो राधारमण मन्दिर में एक हजार एक आमों का भोग ठाकुर को अर्पित किया गया था और बाद में इसका वितरण भक्तों में किया गया था।

PunjabKesari Shri Radha Raman Mandir Vrindavan, Nikunj Seva Festival, Shri Radha Raman Temple, Religious Place, Religious Temple in india, Dharam, Punjab Kesari

सेवायत आचार्य का कहना था कि निकुंज उत्सव में इस मन्दिर में केले के तने के कोमल छिलकों का अनूठा बंगला नित्य तैयार किया जा रहा है।

PunjabKesari Shri Radha Raman Mandir Vrindavan, Nikunj Seva Festival, Shri Radha Raman Temple, Religious Place, Religious Temple in india, Dharam, Punjab Kesari

भक्त अपनी सामर्थ्य के अनुसार पंच सेवा भावपूर्ण तरीके से इस उम्मीद से कर रहे हैं कि भावपूर्ण सेवा करने के कारण ठाकुर ने जिस प्रकार गोपाल भट्ट गोस्वामी को न केवल आशीर्वाद दिया बल्कि उनकी इच्छा के अनुरूप ही तीन मन्दिरों के विगृह का समावेश राधारमण महराज के विगृह में कर दिया था उसी प्रकार उनके जीवन में ठाकुर सेवा के प्रति ऐसा भाव पैदा हो जाय कि उनका जीवन न केवल धन्य हो जाय बल्कि मोक्ष के द्वार उनके लिए खुल जांय। मन्दिर में चल रहे निकुंज उत्सव में वृन्दावन का कोना कोना इस प्रकार आध्यात्मिकता से परिपूर्ण हो गया है कि वर्तमान में भक्ति यहां पर नृत्य कर रही है।  

PunjabKesari kundlitv

 

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!