भारत और फ्रांस ने कहा-आतंकवाद के लिए नहीं होने देंगे अफगानिस्तान का इस्तेमाल, यूक्रेन संकट पर जताई चिंता

Edited By Tanuja,Updated: 05 May, 2022 01:39 PM

india france discuss ukraine crisis terrorism afghanistan

भारत और फ्रांस ने  एक दुनिया के अन्य क्षेत्रों में आतंकवाद के प्रसार के लिए अफगानिस्तान की धरती के इस्तेमाल को लेकर ‘‘कतई बर्दाश्त...

इंटरनेशनल डेस्कः भारत और फ्रांस ने  एक दुनिया के अन्य क्षेत्रों में आतंकवाद के प्रसार के लिए अफगानिस्तान की धरती के इस्तेमाल को लेकर ‘‘कतई बर्दाश्त न करने'' के रूख पर जोर देते हुए इस मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद सहित अन्य मंचों पर साथ मिलकर काम करने पर सहमति व्यक्त की। यहां बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और फ्रांसिसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के बीच वार्ता के बाद जारी संयुक्त बयान में तालिबान-नीत अफगानिस्तान में मानवाधिकारों के उल्लंघन तथा मानवीय स्थिति पर गंभीर चिंता व्यक्त की गई और साथ ही काबुल में एक समावेशी सरकार की जरूरत पर बल दिया गया।

PunjabKesari

इसके साथ ही भारत और फ्रांस ने रूस-यूक्रेन के बीच चल रहे युद्ध पर भी चिंता जाहिर की। दोनों ही देश के नेताओं ने तत्काल प्रभाव से युद्ध को रोकने की बात कही। साझा बयान में पीएम मोदी और राष्ट्रपति मैक्रों ने कहा कि भारत और फ्रांस यूक्रेन में चल रहे युद्ध के बीच मानवीय संकट को लेकर अपनी गहरी चिंता जाहिर करते हैं। दोनों देशों ने यूक्रेन में आम लोगों के मारे जाने की निंदा की है, साथ ही तुरंत दोनों ही पक्षों की ओर से युद्ध को रोकने की अपील की। फ्रांस ने यूक्रेन के खिलाफ युद्ध के लिए रूस की सेना को गैरकानूनी और अन्यायपूर्ण बताया
 

PunjabKesari

गौरतलब है कि अफगानिस्तान में पिछले वर्ष अगस्त में कट्टरपंथी इस्लामी तत्वों वाली तालिबान नीत सरकार 20 वर्ष बाद सत्ता में आई जिसे अभी तक किसी देश ने मान्यता नहीं दी है। तालिबान-नीत इस सरकार में महिलाओं को स्थान नहीं दिया गया है। संयुक्त बयान के अनुसार, ‘‘ भारत और फ्रांस ने मानवाधिकारों के उल्लंघन तथा मानवीय स्थिति पर गंभीर चिंता व्यक्त की है और शांतिपूर्ण, स्थिर एवं सुरक्षित अफगानिस्तान के लिए पुरजोर समर्थन दोहराया।'' इसमें कहा गया है कि दोनों देश क्षेत्रीय अखंडता, एकता एवं सम्प्रभुता का सम्मान करने तथा आतंरिक मामलों में हस्तक्षेप नहीं करने पर जोर देते हैं।

PunjabKesari

प्रधानमंत्री मोदी जर्मनी, डेनमार्क की यात्रा के बाद, अपनी तीन दिवसीय विदेश यात्रा के अंतिम चरण में कुछ समय के लिये फ्रांस में रूके थे। बयान के अनुसार, ‘‘दोनों देश ने समावेशी एवं प्रतिनिधित्वकारी सरकार की जरूरत तथा महिलाओं, बच्चों एवं अल्पसंख्यकों के अधिकारों का सम्मान किये जाने का आह्वान किया।'' दोनों देशों ने दुनिया के अन्य क्षेत्रों में आतंकवाद के प्रसार के लिये अफगानिस्तान की धरती के इस्तेमाल को लेकर ‘‘कतई बर्दाश्त नहीं करने'' के रूख पर जोर दिया और इस मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद सहित अन्य मंचों पर साथ मिलकर काम करने पर सहमति व्यक्त की।

 

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!