Sita Ram Mandir Bijapur: श्रीराम की मूर्ति में सुनती है दिल की धड़कन !

Edited By Niyati Bhandari,Updated: 05 Jul, 2022 10:25 AM

sita ram mandir bijapur

देवभूमि हिमाचल प्रदेश के जिला कांगड़ा में बैजनाथ स्थित प्राचीनतम शिव मंदिर के अंदर 2 शिलालेखों से 12वीं और 13वीं शताब्दी के इतिहास का पता चलता है कि कांगड़ा के राजा जयचंद-1 ने लंबागांव के

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Sita Ram Mandir Bijapur Himachal Pradesh: देवभूमि हिमाचल प्रदेश के जिला कांगड़ा में बैजनाथ स्थित प्राचीनतम शिव मंदिर के अंदर 2 शिलालेखों से 12वीं और 13वीं शताब्दी के इतिहास का पता चलता है कि कांगड़ा के राजा जयचंद-1 ने लंबागांव के निकट जयसिंहपुर नगर की स्थापना की थी। हिमाचल में जयसिंहपुर नामक कस्बा जिला कांगड़ा की दक्षिणी सीमा पर जिला मुख्यालय धर्मशाला से 82 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहां से ब्यास नदी का सुंदर दृश्य देखा जा सकता है।

PunjabKesari Sita Ram Mandir Bijapur

जयसिंहपुर के सुआ गांव से 3 किलोमीटर दूर बाबा भौड़ी सिद्ध मंदिर और आशापुरी मंदिर में भी लोग अपनी मनोकामनाएं मांगने जाते हैं।

जहां तक जयसिंहपुर के बीजापुर गांव में सीताराम जी मंदिर के इतिहास का सवाल है तो बताया जाता है कि बीजापुर गांव राजा विजय चंद ने लगभग 1660 ईस्वी में बसाया तथा सीताराम जी मंदिर का निर्माण सन् 1690 में करवाया।

मंदिर का निर्माण कार्य पूरा हो चुका तो राजा विजय चंद ने मूर्ति स्थापना के बारे में सोच-विचार किया कि मूर्तियां कहां से लाकर स्थापित की जाएं।

PunjabKesari Sita Ram Mandir Bijapur
तब उन्हें स्वप्न हुआ कि हारसीपत्तन के गांव काथला बेईं के नजदीक ब्यास नदी की गहराई में सीता, राम और लक्ष्मण की मूर्तियां एक काले रंग की शिला पर अंकित हैं जिन्हें तराशकर मंदिर में लाकर स्थापित किया जाए। जब मूर्तियां तैयार हो गईं तो राजा ने उन्हें लाने के लिए अपने आदमी भेजे परंतु वे मूर्तियां उठा नहीं सके। राजा को पुन: स्वप्न हुआ कि मूर्तियां लाने राजा खुद जाएं।
अगले दिन राजा अपने दरबारियों और लाव-लश्कर के साथ स्वयं वहां गए और बाजे-गाजे के साथ मूर्तियों को लाकर मंदिर में स्थापना करवाई।

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं । अपनी जन्म तिथि अपने नाम , जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर वाट्स ऐप करें

PunjabKesari Sita Ram Mandir Bijapur

स्थापना करवाने के बाद मंत्रोच्चारण द्वारा मूर्तियों की प्राण प्रतिष्ठा की गई तब भी राजा को विश्वास नहीं हुआ कि मूर्तियों की प्राण प्रतिष्ठा हो चुकी है। इस पर वह मंदिर में मूर्तियों के सामने हठपूर्वक बैठ गए और भगवान से प्रार्थना करने लगे कि मुझे विश्वास दिलाया जाए कि इन मूर्तियों में प्राण प्रतिष्ठा हो चुकी है।

रात को राजा को स्वप्न हुआ कि आप भगवान की छाती पर हाथ रख कर उनमें प्राणों का अहसास कर सकते हैं।

सुबह उठकर राजा स्नान, पूजा पाठ इत्यादि करने के बाद सीता राम मंदिर में भगवान राम के सामने पहुंचे और स्वप्न के अनुसार भगवान श्री राम जी की छाती पर हाथ रखा तो राजा को अहसास हुआ कि भगवान श्री राम जी की मूर्ति ने दो बार श्वास लिया है।

PunjabKesari Sita Ram Mandir Bijapur

मंदिर के प्रांगण में भगवान हनुमान जी की एक अद्भुत मूर्ति स्थापित है। ऐतिहासिक कथाओं के अनुसार जब भारत वर्ष के प्राचीन मंदिरों पर मुगलों के आक्रमण हो रहे थे उस समय सीता राम मंदिर बीजापुर में भी मुगलों द्वारा आक्रमण किया गया जिसमें मुगल सैनिकों द्वारा हनुमान जी की मूर्ति के हाथ काट दिए गए।

जैसे ही प्रभु प्रतिमा के हाथ काटे गए तो हनुमान जी की मूर्ति के नाक और कान से रंगड़ (काटने वाली मक्खियां) निकल कर मुगल आक्रमणकारियों को काटने लगीं जिससे वे वहीं खत्म हो गए और उनका सफाया हो गया। ये रंगड़ आज भी मंदिर में पाई जाती हैं।

PunjabKesari Sita Ram Mandir Bijapur
किंवदंतियों के अनुसार अगर किसी के बच्चे बीमार रहते हों या किसी को भी दुख-तकलीफ हो तो बच्चे को सीता माता की गोद में डाला जाता है या मां दुर्गा के चरणों में रखा जाता है।  

मंदिर में दिन में चार समय भोग और आरती का विधान है। मंदिर का संबंध जयसिंहपुर की बेटी तारा रानी के साथ भी है जिनका विवाह जम्मू-कश्मीर के पूर्व महाराजा हरि सिंह के साथ हुआ था। राज परिवार द्वारा धर्मार्थ ट्रस्ट बनाकर इस मंदिर के रख-रखाव में योगदान दिया जा रहा है जिसके अध्यक्ष महाराजा डा. कर्ण सिंह हैं।  

PunjabKesari kundli

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!