ग्लोबल लेवल पर गोल्ड ETF में लगातार दूसरे महीने बढ़ा निवेश, मगर 2024 की पहली छमाही में आउटफ्लो 11 साल के उच्चतम स्तर पर

Edited By jyoti choudhary,Updated: 11 Jul, 2024 12:25 PM

investment in gold etfs increased for the second consecutive

गोल्ड के लिए पिछला महीना उतार-चढ़ाव भरा रहा रहा। मई में रिकॉर्ड हाई पर पहुंचने के बाद घरेलू और अंतरराष्ट्रीय बाजार दोनों में कीमतें जून 2024 के दौरान कमोबेश स्थिर रहीं। यूएस डॉलर इंडेक्स और बॉन्ड यील्ड में तेजी के बावजूद सोने का रेंज -बाउंड रहना...

नई दिल्लीः गोल्ड के लिए पिछला महीना उतार-चढ़ाव भरा रहा रहा। मई में रिकॉर्ड हाई पर पहुंचने के बाद घरेलू और अंतरराष्ट्रीय बाजार दोनों में कीमतें जून 2024 के दौरान कमोबेश स्थिर रहीं। यूएस डॉलर इंडेक्स और बॉन्ड यील्ड में तेजी के बावजूद सोने का रेंज -बाउंड रहना काफी मायने रखता है। आम तौर पर ये दोनों फैक्टर यदि मजबूत होते हैं तो सोने की कीमतों पर दबाव बढ़ता है। जानकारों के अनुसार लगातार दूसरे महीने ग्लोबल लेवल पर गोल्ड ईटीएफ में बढ़े निवेश ने सोने की कीमतों को संभालने यानी रेंज बाउंड रखने में मदद की।

वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक जून में एशिया और यूरोप से निकली खरीदारी ने उत्तरी अमेरिका से हुई निकासी को पीछे छोड़ दिया। दो महीने के लगातार इनफ्लो के चलते इस कैलेंडर ईयर की पहली छमाही के दौरान आउटफ्लो घटकर 6.7 बिलियन डॉलर (120 टन) रह गया। बावजूद मौजूदा कैलेंडर ईयर की पहली छमाही गोल्ड ईटीएफ के लिए ग्लोबल लेवल पर 2013 के बाद सबसे खराब रही। सिर्फ एशियाई देशों से इस दौरान इनफ्लो देखने को मिला जबकि यूरोप और उत्तरी अमेरिका से भारी आउटफ्लो दर्ज किया गया।

वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल की रिपोर्ट के मुताबिक ग्लोबल लेवल पर लगातार दूसरे महीने जून में गोल्ड ईटीएफ में निवेश में इजाफा (inflow) दर्ज किया गया। इससे पहले लगातार 12 महीने की गिरावट के बाद मई में गोल्ड ईटीएफ में शुद्ध निवेश बढ़ा था। जून 2024 के दौरान ग्लोबल लेवल पर गोल्ड ईटीएफ में निवेश में 1.4 बिलियन डॉलर (17.5 टन सोने की वैल्यू के बराबर) का इजाफा हुआ। मई 2024 के दौरान भी गोल्ड ईटीएफ में निवेश 0.5 बिलियन डॉलर (8.2 टन सोने की वैल्यू के बराबर) बढा था। इससे पहले मई 2023 में गोल्ड ईटीएफ में 1.7 बिलियन डॉलर (19.3 टन सोने) का शुद्ध निवेश (inflow) हुआ था।

मार्च 2023 और अप्रैल 2023 में भी गोल्ड ईटीएफ में निवेश क्रमश: 1.9 बिलियन (32.1 टन) और 0.8 बिलियन डॉलर (15.4 टन) बढ़ा था। जबकि अप्रैल 2022 से लेकर फरवरी 2023 तक लगातार 11 महीने गोल्ड ईटीएफ में निवेश घटा था।

अप्रैल 2024 में 2.2 बिलियन डॉलर (33.2 टन) की निकासी की गई थी। इससे पहले मार्च, फरवरी, जनवरी, दिसंबर, नवंबर, अक्टूबर, सितंबर, अगस्त, जुलाई और जून के दौरान क्रमश: 0.8 बिलियन डॉलर (13.6 टन), 2.9 बिलियन डॉलर (48.7 टन), 2.8 बिलियन डॉलर (50.9 टन), 1.1 बिलियन डॉलर (9.5 टन), 0.9 बिलियन डॉलर (9.4 टन),  2.1 बिलियन डॉलर (36.5 टन), 3.2 बिलियन डॉलर (58.7 टन), 2.5 बिलियन डॉलर (45.7 टन), 2.3 बिलियन डॉलर (34.7 टन) और 3.7 बिलियन डॉलर (55.9 टन) की निकासी की गई थी।

AUM बढ़ा लेकिन होल्डिंग में आई गिरावट

WGC के आंकड़े हालांकि बताते हैं कि गोल्ड की कीमतों में तेजी और हालिया इनफ्लो के चलते गोल्ड ईटीएफ का कुल एसेट अंडर मैनेजमेंट (AUM) मौजूदा कैलेंडर ईयर की पहली छमाही के दौरान 8.8 फीसदी बढ़कर 233 बिलियन डॉलर पर पहुंच गया।  जबकि कुल होल्डिंग 120 टन यानी 3.9 फीसदी घटकर 3,105.5 टन पर आ गया। यह 2020 के बाद सबसे कम है। अक्टूबर 2020 में कुल होल्डिंग अधिकतम 3,915.1 टन पर पहुंचा था।

2020 के बाद गोल्ड ईटीएफ में लगातार सुस्ती

जब 2020 में सोने ने रिकॉर्ड बनाया था तो कीमतों को सबसे ज्यादा सपोर्ट इन्वेस्टमेंट डिमांड से मिला था। लेकिन 2021 से इन्वेस्टमेंट डिमांड लगातार दबाव में है। कीमतों में तूफानी तेजी के बावजूद इन्वेस्टमेंट डिमांड में सुस्ती है। मार्च-मई 2023 की अवधि को निकाल दें तो अप्रैल 2022 से इन्वेस्टमेंट डिमांड अप्रैल 2024 तक लगातार नेगेटिव जोन में पड़ी हुई थी। 2020 में गोल्ड ईटीएफ में निवेश 49.4 बिलियन डॉलर (892.1 टन) बढ़ा था। हालांकि उसके बाद 2021 और 2022 में यह क्रमश: 8.9 बिलियन डॉलर (188.8 टन) और 2.9 बिलियन डॉलर (109.5) टन घटा। कैलेंडर ईयर 2023 के दौरान गोल्ड ईटीएफ से कुल 14.7 बिलियन डॉलर (244.4 टन) की निकासी हुई।

गोल्ड का कैसा रहा है प्रदर्शन?

अंतरराष्ट्रीय बाजार में मई के मुकाबले जून में सोने की कीमतों में 0.1 फीसदी की कमी आई। गोल्ड ने बाजार में पिछले महीने 2,375 और 2,292 डॉलर प्रति औंस के रेंज में कारोबार किया।  फिलहाल सोना 2,375 डॉलर प्रति औंस के करीब है। ग्लोबल मार्केट में 22 मई 2024 को स्पॉट गोल्ड (spot gold) 2,449.89 डॉलर प्रति औंस के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया था। इसी तरह बेंचमार्क यूएस जून गोल्ड फ्यूचर्स (Gold COMEX Jun′24) भी 21 मई 2024 को कारोबार के दौरान 2,454.2 डॉलर प्रति औंस के रिकॉर्ड स्तर तक चला गया था।

सोने ने घरेलू और अंतरराष्ट्रीय दोनों स्तर पर मौजूदा कैलेंडर ईयर की पहली छमाही के दौरान 12 फीसदी से ज्यादा का रिटर्न दिया।
 

Afghanistan

134/10

20.0

India

181/8

20.0

India win by 47 runs

RR 6.70
img title
img title

Be on the top of everything happening around the world.

Try Premium Service.

Subscribe Now!