April 2024 Scorpio Horoscope: वृश्चिक राशि के लिए अप्रैल महीने का मासिक राशिफल

Edited By Prachi Sharma,Updated: 21 Mar, 2024 08:12 AM

आज बात करेंगे कि वृश्चिक राशि के जातकों को लिए अप्रैल का महीना कैसा रहेगा ? चंद्रमा दूसरे भाव में हैं। मंगल और शनि चौथे भाव में है। शनि की ढैया चल रही है

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

April 2024 scorpio Horoscope: आज बात करेंगे कि वृश्चिक राशि के जातकों को लिए अप्रैल का महीना कैसा रहेगा ? चंद्रमा दूसरे भाव में हैं। मंगल और शनि चौथे भाव में है। शनि की ढैया चल रही है। सूर्य, राहु और शुक्र यह पंचम भाव में हैं। शुक्र यहां पर अच्छे गोचर में हैं पर सूर्य और राहु का गोचर अच्छा नहीं है। गुरु छठे भाव में हैं। यह भी अच्छे गोचर में नहीं है। छठे भाव में बुध का गोचर अच्छा है और साथ ही केतु का 11वें भाव में गोचर अच्छा है। यानी बुध और केतु कुल मिलाकर ठीक है। शुक्र ठीक है। बाकी ग्रहों का गोचर आपके लिए फिलहाल अच्छा नहीं चल रहा। सूर्य 13 अप्रैल को राशि बदलेंगे और यहां पर आ जाएंगे। छठे भाव में सूर्य का गोचर अच्छा होता है। यह आपके लिए शुभ हो जाएंगे। इसके बाद मंगल का राशि परिवर्तन होगा। मंगल 23 अप्रैल को राशि बदलेंगे और यहां पर आ जाएंगे। यह गोचर आपके लिए शुभ नहीं रहेगा। शुक्र 24 अप्रैल को राशि बदलेंगे और छठे भाव में आ जाएंगे। यह गोचर भी यहां पर अच्छा नहीं रहेगा। शुक्र और मंगल अपनी स्थिति गोचर के हिसाब से चेंज नहीं करेंगे। सूर्य की पोजीशन चेंज हो जाएगी लेकिन छठे भाव में इतने सारे ग्रहों का आ जाना गोचर में अच्छा नहीं होता। क्योंकि जितने भी ग्रह यहां पर आएंगे। वो 12वें भाव को सीधी दृष्टि के साथ किसी न किसी तरीके से एक्टिव करेंगे। 

Position of Karma and Income Place in the month of April अप्रैल महीने में कर्म और आय स्थान की स्थिति: आय वाला जो भाव है। वहां पर केतु का गोचर हो रहा है। यह गोचर अच्छा है। आय को लेकर चीजें ठीक रहेंगी। गुरु की दृष्टि धन भाव के ऊपर है। यह गुरु की अपनी राशि है और गुरु इस भाव के कारक भी हैं। यहां पर भी चीजें मनी फ्लो के हिसाब से ठीक है। कोई बहुत ज्यादा दिक्कत नहीं है। मंगल यहां पर आएंगे तो इस भाव को देखेंगे। सूर्य की दृष्टि इस भाव के ऊपर है तो खर्चे ओवर हो सकते हैं क्योंकि दो पाप ग्रह जो हैं ,वो 12वें भाव को भी प्रभावित करेंगे और 12वें भाव के स्वामी शुक्र को भी प्रभावित करेंगे। जब दो पाप ग्रहों का प्रभाव आ जाएगा तो निश्चित तौर पर आपके खर्चे बढ़ सकते हैं। कारोबारी स्थिति में कोई चेंज नहीं होगा। कोई नया प्रोजेक्ट करना चाहते हैं, तो कर सकते हैं। क्योंकि गुरु की दृष्टि इस भाव के ऊपर लगातार बनी रहेगी। जब गुरु की दृष्टि कर्म स्थान के ऊपर है, तो निश्चित तौर पर कारोबार में तरक्की मिलती रहेगी। कार्यस्थल में आपका डोमिनेंस बढ़ेगा और आप लगातार अच्छा काम करेंगे। इसमें कोई दिक्कत की बात नहीं है। 

Relationship status in the month of April अप्रैल महीने में रिलेशन की स्थिति: सप्तम भाव रिलेशनशिप का भाव है। मंगल 23 तक यहां पर रहेंगे और इस भाव को दृष्टि देंगे। केतु की इस भाव के ऊपर दृष्टि है। जब दो पाप ग्रहों की दृष्टि आपके सप्तम के ऊपर है। इसका मतलब है कि या तो पार्टनर की हेल्थ को लेकर इशू हो सकता है या पार्टनर के साथ आपका मन-मुटाव हो सकता है। क्योंकि मंगल और केतु फायरी प्लेनेट हैं। ज्योतिष में कहा जाता है कि राहु है वो शनि की तरह काम करते हैं और कुज यानी केतु जो है, वो मंगल की तरह काम करते हैं। मंगल और केतु का प्रभाव आपके शादी वाले भाव के ऊपर, पार्टनर की हेल्थ या तालमेल को लेकर कहीं न कहीं दिक्कत हो सकती है। थोड़ा सा आपको अपने टेंपरामेंट को नार्मल रखना पड़ेगा। क्योंकि केंद्रीय प्रभाव भी आपका नेगेटिव रहेगा। मंगल और शनि यहां रहेंगे और इस केंद्र के ऊपर कोई पॉजिटिव प्रभाव नहीं है। जो पॉजिटिव ग्रह हैं, वो छठे पर चले गए हैं। यह पोजीशन भी अच्छी नहीं है। यह चीजें आपको थोड़ा सी ध्यान रखनी पडे़गी।
 
जो लोग रिलेशनशिप में हैं, उनको थोड़ा रिलेशनशिप में ध्यान रखना पड़ेगा। उसका कारण यह है कि राहु और मंगल यह एक अच्छा योग नहीं है। इस राशि के लिए क्योंकि यह छठे भाव का स्वामी मंगल छठे के प्रभाव लेकर पंचम में बैठा है। छठा भाव जो है रोग, ऋण, शत्रु का भाव है। यानी विवाद, कंट्रोवर्सी इसी से आती है। कपल्स के बीच में इस बात को लेकर विवाद हो सकता है। जो असल में हुई ही नहीं है। जिनके घर में संतान आने वाली है। वहां पर खासतौर पर ध्यान रखना पड़ेगा। क्योंकि सूर्य पहले यहां पर रहेंगे। सूर्य और राहु का यहां पर एक कंजंक्शन बना हुआ है। सूर्य और राहु दोनों ही पंचम भाव में अच्छे नहीं हैं।  जब पंचम भाव में लग्न कुंडली में दोनों होते हैं, तो सामान्य  तौर पर संतान की हानि कर जाते हैं। इसलिए इस समय गोचर में भी मंगल और राहु साथ आ जाना मंगल चूंकि ब्लीडिंग के कारक है। ब्लड सेल्स मंगल से बनते हैं। राहु के साथ यदि आ जाते हैं तो वो प्रॉब्लम ज्यादा बढ़ जाती है। क्योंकि पंचम अच्छे प्रभाव में नहीं है। गुरु शनि की दृष्टि में हैं और सूर्य के साथ है। पंचम का स्वामी है और पंचम का कारक गुरु होता है। पंचम, पंचमेश और कारक तानों ही पीड़ित हो रहे हैं लिहाजा यहां पर सावधान रहना पडे़गा। 

Health status in the month of April अप्रैल महीने में सेहत की स्थिति: बात करें हेल्थ की तो वहां पर भी थोड़ी दिक्कत वाली स्थिति नजर आती है क्योंकि छठे भाव के स्वामी मंगल वो राहु के साथ चले जाएंगे। पहले शनि के साथ रहेंगे। शनि की दृष्टि छठे के ऊपर है।  छठे का स्वामी शनि के साथ बैठा हैं, जो रोग कारक ग्रह है। शनि खुद रोग कारक ग्रह हैं और जब छठे के स्वामी के साथ बैठ गए हैं और छठे को दृष्टि भी दे रहे हैं, तो निश्चित तौर पर आपका पेट वहां पर डिस्टर्ब कर सकते हैं। आपको डाइजेशन, स्किन और बदन दर्द से संबंधित कोई इशू हो सकता है। हेल्थ को लेकर आपको सतर्क रहना पडे़गा। हालांकि 13 अप्रैल के बाद छठे में जाकर सूर्य उच्च के हो जाएंगे। इसके बावजूद यह प्रभाव अच्छा नहीं है। इस भाव का स्वामी अच्छे भाव में नहीं है, तो थोड़ा सा ध्यान जरूर रखना पड़ेगा। मंगल जब यहां आ जाएंगे 23 अप्रैल के बाद तो इस भाव को भी दृष्टि देंगे। अष्टम को दृष्टि देना मंगल के लिए अच्छा नहीं है। यह चोट-चपट दुर्घटना का भाव है।             

Status of education in the month of April अप्रैल महीने में शिक्षा की स्थिति: स्टूडेंट्स के लिए हो सकता है कि थोड़ा सा मन स्टडी में न लगें। कारण चंद्रमा  से केंद्र में शनि और मंगल रहेंगे। जो ध्यान देने वाले ग्रह है वो तीनों ही छठे भाव में हैं। बुध और गुरु जो है, वो एजुकेशन से संबंधित ग्रह है। बुध पढ़ाई के कारक हैं और गुरु आपकी अप्लाइड नॉलेज के कारक हैं। जब दोनों ही भाव छठे भाव में चले गए हैं। इससे आपको निश्चित तौर पर आपको फोकस बनाने में दिक्कत आ सकती है। जो स्टूडेंट्स किसी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं, वो मेडिटेशन का सहारा जरूर लें।  

उपाय- पढ़ाई में फोकस बनाएं रखने के लिए मेडिटेशन का सहारा लें। थोड़े से लाइट कपड़े पहने, चांदी धारण कर लें। इन उपायों को करने से आपको पढ़ाई में फोकस बनाने में मदद मिलेगी। 

नरेश कुमार
https://www.facebook.com/Astro-Naresh-115058279895728

Trending Topics

Afghanistan

134/10

20.0

India

181/8

20.0

India win by 47 runs

RR 6.70
img title
img title

Be on the top of everything happening around the world.

Try Premium Service.

Subscribe Now!