रामदेवरा मेले के लिए उमड़ने लगे हैं श्रद्धालु, 35 लाख से अधिक लोगों के आने की संभावना

Edited By Jyoti,Updated: 18 Aug, 2022 11:44 AM

ramdevra mela

राजस्‍थान में लोक देवता बाबा रामदेव की समाधि रामदेवरा में सालाना मेले के ल‍िए श्रद्धालुओं का आना शुरू हो गया है। मुख्‍य मेला इस महीने के आखिर में लगेगा जिसमें 35 लाख से अधिक श्रद्धालुओं के आने की संभावना है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार रामदेवरा मेला की...

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
राजस्‍थान में लोक देवता बाबा रामदेव की समाधि रामदेवरा में सालाना मेले के ल‍िए श्रद्धालुओं का आना शुरू हो गया है। मुख्‍य मेला इस महीने के आखिर में लगेगा जिसमें 35 लाख से अधिक श्रद्धालुओं के आने की संभावना है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार रामदेवरा मेला की तिथि हर साल भाद्रपद शुक्ल पक्ष की दूज से एकादशी तक होती है। इस साल मेला 29 अगस्त से सात सितंबर तक चलेगा। हालांकि भादों शुरू होते ही पैदल यात्री, मंदिर पहुंचना शुरू हो गए हैं। यह मंदिर पोकरण के रुणिचा धाम में स्थित है ज‍िसे रामदेवरा भी कहा जाता है। मेले में सभी धर्मों के लोग समान श्रद्धाभाव के साथ पहुंचकर धोक लगाते हैं। मेला अधिकारी और एसडीएम राजेश विश्नोई ने कहा, ‘‘मेले का आयोजन दो साल बाद किया जा रहा है और इसलिए इस साल अधिक संख्या में भक्तों के आने की उम्मीद है।

PunjabKesari रामदेवरा मेला, ramdevra mela date 2022, ramdevra mela, राजस्‍थान लोक देवता बाबा रामदेव, Lok Devta Baba Ramdev Rajasthan, खाटू श्याम मंदिर, Khatu Shyam Mandir, Dharmik Sthal, Religious Palce in india, Hindu Teerth Sthal

हमें लगभग 30-35 लाख भक्तों के आने की उम्मीद है।'' उन्‍होंने बताया, “भीड़ के प्रबंधन के लिए व्यापक व्यवस्था की गई है। मंदिर के पास ‘सर्पिल' (जि‍गजैग) कतारों का इंतजाम है जिसमें एक साथ आठ हजार व्यक्तियों को समायोजित किया जा सकता है।

PunjabKesari रामदेवरा मेला, ramdevra mela date 2022, ramdevra mela, राजस्‍थान लोक देवता बाबा रामदेव, Lok Devta Baba Ramdev Rajasthan, खाटू श्याम मंदिर, Khatu Shyam Mandir, Dharmik Sthal, Religious Palce in india, Hindu Teerth Sthal

इसके बाद एक किलोमीटर की दूरी पर ऐसी ही एक और व्यवस्था की गई है जिसमें छह कतार हैं।'' इस वर्ष आगंतुकों की अधिक संख्या की संभावना को देखते हुए अतिरिक्त बैरिकेडिंग की गई है। बड़ी संख्या में भक्त राजस्थान के विभिन्न हिस्सों के अलावा अन्य राज्यों से भी 'पदयात्रा' के तहत मंदिर पहुंचते हैं। श्रद्धालु दिन और रात चलते हैं, जिससे सड़क दुर्घटनाओं का खतरा होता है।
PunjabKesari रामदेवरा मेला, ramdevra mela date 2022, ramdevra mela, राजस्‍थान लोक देवता बाबा रामदेव, Lok Devta Baba Ramdev Rajasthan, खाटू श्याम मंदिर, Khatu Shyam Mandir, Dharmik Sthal, Religious Palce in india, Hindu Teerth Sthal

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं । अपनी जन्म तिथि अपने नाम , जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर वाट्स ऐप करें
PunjabKesari

15 अगस्त की सुबह पाली जिले में हुई ऐसी ही एक घटना में एक महिला सहित पांच तीर्थयात्री मारे गए थे और चार अन्य घायल हो गए थे। सीकर जिले के खाटू श्याम मंदिर में हाल में हुए हादसे को ध्‍यान में रखते हुए राज्य सरकार ने रामदेवरा मेले की व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं।

PunjabKesari रामदेवरा मेला, ramdevra mela date 2022, ramdevra mela, राजस्‍थान लोक देवता बाबा रामदेव, Lok Devta Baba Ramdev Rajasthan, खाटू श्याम मंदिर, Khatu Shyam Mandir, Dharmik Sthal, Religious Palce in india, Hindu Teerth Sthal

खाटू श्‍याम मंदिर हादसे में तीन महिलाओं की मौत हो गई थी। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पैदल चलने वालों की सुरक्षा को लेकर 15 अगस्त को बैठक की और अधिकारियों को शराब पीकर गाड़ी चलाने और तेज वाहन चलाने वालों के खिलाफ विशेष अभियान चलाने के निर्देश दिए। इतिहासकारों के अनुसार तंवर राजपूत, लोकदेवता रामदेव ने रूणिचा गांव में 33 साल की उम्र में 1459 ई. में समाधि ली थी।

PunjabKesari रामदेवरा मेला, ramdevra mela date 2022, ramdevra mela, राजस्‍थान लोक देवता बाबा रामदेव, Lok Devta Baba Ramdev Rajasthan, खाटू श्याम मंदिर, Khatu Shyam Mandir, Dharmik Sthal, Religious Palce in india, Hindu Teerth Sthal

उन्हें भगवान कृष्ण का अवतार माना जाता था और हिंदू, मुस्लिम, जैन और सिख उनके अनुयायी हैं। समाधि के चारों ओर बीकानेर के तत्कालीन शासक गंगा सिंह द्वारा 1931 में मंदिर बनवाया गया था। इस बार लगने वाला यह 638वां मेला है। 

Trending Topics

India

178/10

18.3

South Africa

227/3

20.0

South Africa win by 49 runs

RR 9.73
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!